ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेशइधर मुस्लिम देशों से बात, उधर परमाणु पनडुब्बी तैनात; जानें- US का प्लान,ओहियो सबमरीन कितना खतरनाक?

इधर मुस्लिम देशों से बात, उधर परमाणु पनडुब्बी तैनात; जानें- US का प्लान,ओहियो सबमरीन कितना खतरनाक?

Israel-Hamas War : अभी यह नहीं पता चल सका है कि यह टॉमहॉक क्रूज मिसाइलों को ले जाने वाली चार पनडुब्बियों में से एक है या ट्राइडेंट- II बैलिस्टिक मिसाइलों को ले जाने वाली 14 पनडुब्बियों में से एक है।

इधर मुस्लिम देशों से बात, उधर परमाणु पनडुब्बी तैनात; जानें- US का प्लान,ओहियो सबमरीन कितना खतरनाक?
Pramod Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 06 Nov 2023 08:26 AM
ऐप पर पढ़ें

अमेरिकी सेना ने एक दुर्लभ घोषणा में कहा है कि गाइडेड मिसाइल से लैस एक परमाणु पनडुब्बी  मिडिल-ईस्ट में पहुंच गई है। यूएस सेंट्रल कमांड ने रविवार को सोशल मीडिया पर कहा कि ओहियो श्रेणी की एक पनडुब्बी मिडिल-ईस्ट में प्रवेश कर रही है। इस घोषणा के साथ अमेरिकी सेना ने एक तस्वीर भी पोस्ट की है, जिसमें परमाणु पनडुब्बी काहिरा के उत्तर-पूर्व में स्वेज नहर में दिखाई दे रही है।

अमेरिकी सेना इस तरह से सोशल मीडिया पर अपने बेड़े की तैनाती की सूचना साझा नहीं करती। शायद ही अमेरिकी सेना ने इससे पहले कभी बैलिस्टिक और गाइडेड मिसाइल से लैस परमाणु पनडुब्बियों के अपने बेड़े की गतिविधियों या संचालन की घोषणा की हो। बावजूद इसके, इस बार ऐसा किया गया है। संभवत: यह मध्य-पूर्व के क्षेत्रीय विरोधियों के लिए एक स्पष्ट संदेश है क्योंकि बाइडेन प्रशासन इज़रायल-हमास युद्ध के बीच व्यापक संघर्ष से बचने की कोशिश कर रहा है।

अमेरिका का क्या संदेश
गाइडेड मिसाइल से लैस इस परमाणु पनडुब्बी की तैनाती की घोषणा तब हुई है, जब अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन मध्य पूर्व में अमेरिकी भागीदारों के साथ लगातार बैठकें कर रहे हैं। पिछले तीन दिनों के अंदर तूफानी कार्यक्रमों के बीच ब्लिंकन ने तुर्की, इराक, इज़रायल, वेस्ट बैंक, जॉर्डन और साइप्रस का दौरा किया है। CNN की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि यह घोषणा ईरान और क्षेत्र में उसके सहयोगियों के खिलाफ एक स्पष्ट संदेश है। 

ताजा मामले में परमाणु पनडुब्बी, जिसका नाम नहीं दिया गया है, की तैनाती से मिडिल ईस्ट में पहले से ही मौजूद अमेरिकी नौसेना का बेड़ा और ताकतवर हो गया है। इस बेड़े में पहले से ही दो वाहक युद्धपोत और एक उभयचर समूह शामिल हैं। अमेरिकी नौसेना ने ओहियो श्रेणी की इस परमाणु पनडुब्बी की पहचान का खुलासा नहीं किया है। अभी यह नहीं पता चल सका है कि यह टॉमहॉक क्रूज मिसाइलों को ले जाने वाली चार पनडुब्बियों में से एक है या ट्राइडेंट- II बैलिस्टिक मिसाइलों को ले जाने वाली 14 पनडुब्बियों में से एक है।

अमेरिकी रक्षा मंत्री और इजरायली समकक्ष के बीच बात
रविवार को अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन ने अपने समकक्ष इजरायली रक्षा मंत्री योव गैलेंट से बात की थी। नागरिकों की रक्षा करने और गाजा को मानवीय सहायता प्रदान करने की आवश्यकता पर जोर देने के अलावा, ऑस्टिन ने ईरान और हिजबुल्लाह का जिक्र करते हुए स्पष्ट तौर पर कहा कि अमेरिका "इस संघर्ष को बढ़ाने की कोशिश करने वाले किसी भी राज्य या गैर-राज्य फैक्टर" को रोकने के लिए प्रतिबद्ध है।

ईरान-लेबनान को संदेश
ईरान समर्थित समूहों द्वारा इराक और सीरिया में अमेरिकी सेना पर लगातार हमले होते रहे हैं, लेकिन अमेरिका का लक्ष्य यह स्पष्ट करना रहा है कि व्यापक हमलों से बड़ी प्रतिक्रिया होगी। ऑस्टिन ने पिछले महीने कहा था कि क्षेत्र में अतिरिक्त बलों का उद्देश्य "क्षेत्रीय निरोध प्रयासों को बढ़ावा देना, क्षेत्र में अमेरिकी बलों के लिए बल सुरक्षा बढ़ाना और इज़रायल की रक्षा में सहायता करना है।"

क्या है ओहियो श्रेणी की परमाणु पनडुब्बी
ओहियो श्रेणी की पनडुब्बियां (SSGN) परमाणु ऊर्जा से चलने वाली पनडुब्बियां हैं, जो क्रूज मिसाइलों को ले जाने और विशेष अभियान चलाने में सक्षम हैं। वे विस्तारित रणनीतिक निवारक गश्ती के लिए डिजाइन किए गए हैं। यह सामरिक मिसाइलों से लैस और बेहतर संचार क्षमताओं से सुसज्जित है। यह युद्ध के मैदान में स्पेशल ऑपरेशन फोर्सेज और लड़ाकू कमांडरों को सीधे मदद पहुंचाने में सक्षम है।

इस पनडुब्बी की लंबाई 560 फीट और चौड़ाई 42 फीट है। यह 22 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से समंदर में जा सकती है। यह 18750 टन भार को ढोने में सक्षम है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें