ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेशविनाश काले विपरीत बुद्धि: एक-एक पैसे को तरस रहे पाकिस्तान ने MPs का खर्च 90 अरब बढ़ाया

विनाश काले विपरीत बुद्धि: एक-एक पैसे को तरस रहे पाकिस्तान ने MPs का खर्च 90 अरब बढ़ाया

'द एक्सप्रेस ट्रिब्यून' के मुताबिक, ये फैसले वित्त मंत्री इशाक डार की अध्यक्षता वाली कैबिनेट की उस समिति ने लिए हैं, जिसके कंधों पर पाकिस्तान को संप्रभु डिफ़ॉल्ट होने से बचाने की जिम्मेदारी है।

विनाश काले विपरीत बुद्धि: एक-एक पैसे को तरस रहे पाकिस्तान ने MPs का खर्च 90 अरब बढ़ाया
Pramod Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 26 Jan 2023 11:21 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

Pakistan Economic Crisis: एक तरफ आर्थिक बदहाली से पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में हाहाकार मचा हुआ है, दूसरी तरफ शहबाज शरीफ की सरकार ने आर्थिक संकट को दरकिनार करते हुए सांसदों के विवेकाधीन खर्च को बढ़ाकर 90 अरब रुपये कर दिया है। इसके अलावा जजों के घरों के नवीनीकरण के लिए 844 मिलियन रुपये आवंटित किए हैं।

पाकिस्तान के अखबार 'द एक्सप्रेस ट्रिब्यून' के मुताबिक, ये फैसले वित्त मंत्री इशाक डार की अध्यक्षता वाली कैबिनेट की उस आर्थिक समन्वय समिति (ECC) ने लिए हैं, जिसके कंधों पर पाकिस्तान को संप्रभु डिफ़ॉल्ट से बचाने की भी जिम्मेदारी है। ECC के फैसले के बाद पाकिस्तान  वित्त मंत्रालय ने कहा, पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट के भवन, न्यायाधीशों के आवासों, विश्राम गृहों और विभिन्न शहरों में उप-कार्यालयों की मरम्मत और रखरखाव के लिए आवास और निर्माण मंत्रालय के पक्ष में 844.4 मिलियन रुपये का पूरक अनुदान स्वीकृत किया गया है।

अखबार के मुताबिक, ECC ने SDG अचीवमेंट प्रोग्राम (SAP) के तहत खर्च के लिए 3 अरब रुपये को भी मंजूरी दी, जो कि सांसदों की योजनाओं के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द है। ये कदम तब उठाए गए हैं, जब अंतरराष्ट्रीय कर्जों से बेपटरी हो चुका पाकिस्तान अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) द्वारा निर्धारित शर्तों से निपटने के लिए संघर्ष कर रहा है।

हालांकि, पाकिस्तान के कुल बजट की तुलना में 3.8 अरब रुपये कम लग सकते हैं, लेकिन यह सरकार की आम जनता के प्रति सहानुभूति की कमी को दर्शाता है क्योंकि ECC ने शैक्षिक संस्थानों और इनोवेशन सपोर्ट प्रोजेक्ट के बजट में कटौती करके सांसदों के खर्च के लिए 3 अरब रुपये आवंटित किए हैं। 

सरकार ने पाकिस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट इकोनॉमिक्स (पीआईडीई) के 1.4 अरब रुपये के बजट में भी कटौती का फैसला किया है। बता दें कि 3 अरब रुपये नेशनल असेंबली के हाल ही में चुने गए नए सदस्यों की सिफारिशों पर खर्च किए जाएंगे, जिन्हें पाकिस्तान डेमोक्रेटिक मूवमेंट (पीडीएम) का समर्थन प्राप्त था। ताजा वृद्धि के साथ, सांसदों की योजनाओं का बजट अब बढ़कर 90 अरब रुपये हो गया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें