ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेश नहीं करूंगा नरसंहार...इजरायली दूतावास के सामने अमेरिकी सैनिक ने खुद को लगा ली आग

नहीं करूंगा नरसंहार...इजरायली दूतावास के सामने अमेरिकी सैनिक ने खुद को लगा ली आग

अमेरिका में इजरायली दूतावास के सामने अमेरिकी सैनिक ने आत्मदाह करने की कोशिश की। उसका कहना था कि गाजा में तत्काल नरसंहार रुकना चाहिए और वह इसका हिस्सा नहीं बनना .चाहता।

 नहीं करूंगा नरसंहार...इजरायली दूतावास के सामने अमेरिकी सैनिक ने खुद को लगा ली आग
Ankit Ojhaएजेंसियां,तेल अवीवMon, 26 Feb 2024 11:18 AM
ऐप पर पढ़ें

वॉशिंगटन स्थित इजरायली दूतावास के बाहर एक अमेरिकी एयरफोर्स के सैनिक ने खुद को आग लगा दी। वह बार-बार यही कह रहा थखा, मैं गाजा में हो रहे नरसंहार का हिस्सा नहीं बनूंगा। फिलिस्तीन को आजाद किया जाना चाहिए।  फ्री फिलिस्तीन। उसने बताया कि वह अमेरिकी एयरफोर्स का जवना है और कैमरे के सामने आत्मदाह करने जा रहा है। वह गाजा में हो रहे अत्याचार को बर्दाश्त नहीं कर सकता। 

न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक आत्मदाह करने वाले शख्स का नाम सार्वजनिक नहीं किया गया है। आत्मदाह के बाद तत्काल वहां मौजूद सुरक्षाबलों ने आग बुझाने की कोशिश की। हालांकि शख्स बुरी तरह झुलस गया और उसकी हालत गंभीर बताई गई है। रिपोर्ट के मुताबिक शख्स जब आत्मदाह करने के लिए दूतावास के सामने पहुंचा तो वहां मौजूद सुरक्षाबलों ने उससे बात करने की कोशिश की। सुरक्षाबलों ने पूछा कि क्या वे किसी तरह की मदद कर सकते हैं। इतने में ही उसने खुद को आग लगा ली। 

शख्स ने आत्मदाह करते हुए खुद ही वीडियो भी बनाया जिसे बाद में सोशल मीडिया से हटा दिया गया। न्यूयॉर्क टाइम्स का कहना है कि उसने ट्वीच नाम के सोशल मीडिया अकाऊंट से आत्महाद की लाइव स्ट्रीमिंग की थी। अभी तक यह नहीं स्पष्ट हो पाया है कि वह वास्तव में सैनिक था या नहीं। अगर था तो अब भी सेवा में है या फिर रिटायर हो चुका है। 

बता दें कि वैसे तो अमेरिका गाजा में सीजफायर की वकालत करता रहा लेकिन 20 फरवरी को यूएनएससी की बैठक में उसने गाजा में तुरंत सीजफायर के प्रस्ताव को खारिज कर दिया। अमेरिका ने तीसरी बार अपनी वीटो पावर का इस्तेमाल करके ऐसा किया है। अमेरिका का कहना है कि तत्काल सीजफायर के प्रस्ताव को मंजूरी मिलने से अमेरिका, मिस्र और इजरायल, कतर के बीच फिलिस्तीनियों की सुरक्षा को लेकर चल रही बातचीत खटाई में पड़ जाएगी। ऐसे में बंधकों पर भी खतरा  मंडरा सकता है। पहले हमास से शांति वार्ता होनी चाहे। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें