ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेशइजरायल-हमास जंग के बीच फिर एक्टिव हुआ अमेरिका, सीरिया में बरसाए बम; क्या है वजह?

इजरायल-हमास जंग के बीच फिर एक्टिव हुआ अमेरिका, सीरिया में बरसाए बम; क्या है वजह?

अमेरिका के रक्षा मंत्री ने कहा कि राष्ट्रपति के लिए अमेरिकी सैनिकों की सुरक्षा से बढ़कर कुछ नहीं है और उन्होंने आज की कार्रवाई से स्पष्ट कर दिया है कि अमेरिका अपनी, अपने कर्मियों के लिए कितना सजग है।

इजरायल-हमास जंग के बीच फिर एक्टिव हुआ अमेरिका, सीरिया में बरसाए बम; क्या है वजह?
Madan Tiwariएपी,वॉशिंगटनThu, 09 Nov 2023 04:42 PM
ऐप पर पढ़ें

US Air Strike in Syria: इजरायल और हमास में एक महीने से अधिक समय से जारी जंग के बीच अमेरिका ने सीरिया में बड़ा कदम उठाया है। पूर्वी सीरिया में पिछले कई हफ्तों से अमेरिकी सैनिकों के अड्डों पर किए जा रहे हमलों के जवाब में अमेरिका ने इसी क्षेत्र में ईरान समर्थित मिलीशिया से जुड़े चरमपंथियों के ठिकाने पर एयर स्ट्राइक करते हुए जमकर बमबाजी की है। पेंटागन ने यह जानकारी दी। दो अमेरिकी लड़ाकू विमानों एफ-15 ने ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड से जुड़े हथियार भंडारण वाली जगह को निशाना बनाया। 

अमेरिका के रक्षा मंत्री ने कहा, ''राष्ट्रपति के लिए अमेरिकी सैनिकों की सुरक्षा से बढ़कर कुछ नहीं है और उन्होंने आज की कार्रवाई से स्पष्ट कर दिया है कि अमेरिका अपनी, अपने कर्मियों और अपने हितों की रक्षा के लिए कितना सजग है।'' दो सप्ताह में कम-से-कम यह दूसरी बार है जब अमेरिका ने चरमपंथी समूहों के ठिकानों पर बमबारी की है।

ऑस्टिन ने कहा, "अमेरिकी सैन्य बलों ने पूर्वी सीरिया में ईरान के इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स (आईआरजीसी) और संबद्ध समूहों द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली एक सुविधा पर आत्मरक्षा हमला किया। यह हमला दो अमेरिकी एफ -15 द्वारा हथियार भंडारण सुविधा के खिलाफ किया गया था।" ऑस्टिन ने कहा, "यह सटीक आत्मरक्षा हमला आईआरजीसी-कुद्स फोर्स के सहयोगियों द्वारा इराक और सीरिया में अमेरिकी कर्मियों के खिलाफ हमलों की एक श्रृंखला का जवाब है।" 

अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि 17 अक्टूबर से अब तक कम से कम 40 ऐसे हमले किये गये हैं। इनमें से कई ठिकाने ऐसे थे जो कि इराक के संरक्षण में चल रहे थे। अमेरिका ने अपने हालिया हमले की योजना को इस तरह अंजाम दिया, जिससे सीरिया में मौजूद ईरानी समर्थित चरमपंथियों की कमर तोड़ी जा सके। इसीलिए उनके हथियार और गोला-बारूद को नष्ट करने के उद्देश्य से निशाना साधा गया।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें