DA Image
हिंदी न्यूज़ › विदेश › अब तालिबानियों की खैर नहीं, अफगानिस्तानी आर्मी में शामिल होने के लिए उमड़ा युवाओं को हुजूम
विदेश

अब तालिबानियों की खैर नहीं, अफगानिस्तानी आर्मी में शामिल होने के लिए उमड़ा युवाओं को हुजूम

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Nootan Vaindel
Tue, 03 Aug 2021 07:02 AM
अब तालिबानियों की खैर नहीं, अफगानिस्तानी आर्मी में शामिल होने के लिए उमड़ा युवाओं को हुजूम

युद्ध स्थिति का सामना कर रहे अफगानिस्तान में हिंसा लगातार जारी है। तालिबान के साथ चल रहे इस संघर्ष का सामना करने के लिए अब देश के युवा सामने आए हैं। रविवार को काबुल में सेना में भर्ती होने के लिए 5 हजार नौजवान मौजूद रहे। ये युवा राष्ट्रीय सैन्य अकादमी के लिए प्रवेश परीक्षा के लिए पहुंचे थे। परीक्षार्थियों में लड़के और लड़कियां दोनों ही शामिल थे और कहा जाता है कि वे काबुल स्थित मार्शल फहीम नेशनल मिलिट्री एंड डिफेंस यूनिवर्सिटी में दाखिल हुए थे।  खामा प्रेस ने यह जानकारी दी। बता दें कि कल अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी का एक बयान सामने आया था जिसमें उन्होंने तालिबान के खिलाफ पूरे देश को एक साथ आने की अपील की थी। अब 5 हजार युवा सेना में शामिल होने के लिए सामने आए हैं।

अफगान सेना के चीफ ऑफ स्टाफ जनरल वली मुहम्मद अहमदजई भी परीक्षा केंद्र पर मौजूद थे और उन्होंने ऐसी गंभीर स्थिति में अफगान सेना में शामिल होने के लिए आगे आए इन युवाओं की सराहना की। सेना के चीफ ने कहा, "अपने देश के दुश्मनों के खिलाफ ऐसी गंभीर स्थिति में सामने आने के लिए, अफगानिस्तान की रक्षा करने के लिए आप में से हर एक को धन्यवाद देना चाहता हूं।" 

इस बीच, तालिबान ने अफगान सरकारी बलों के साथ तीव्र संघर्ष के बीच हेलमंद प्रांत की राजधानी लश्करगाह के दक्षिण-पश्चिमी अफगान शहर में अफगान टीवी कार्यालय पर कब्जा कर लिया।

अफगान विदेश मंत्रालय के अनुसार तालिबान ने 193 जिला केंद्रों और 19 सीमावर्ती जिलों पर कब्जा कर लिया है। तालिबान ने तखर, कुंदुज, बदख्शां, हेरात और फराह प्रांतों में देश भर में 10 सीमा पार करने वाले पॉइंट्स पर भी नियंत्रण कर लिया है, जिससे इन क्षेत्रों में सीमा पार से आवाजाही और व्यापार पूरी तरह से बंद हो गया है।

इससे पहले, मंत्रालय ने आगे खुलासा किया कि 14 अप्रैल से, लगभग 4,000 ANDSF कर्मी मारे गए हैं, 7,000 से अधिक घायल हुए हैं और लगभग 1,600 तालिबान द्वारा कब्जा कर लिया गया है। हिंसा में महिलाओं और बच्चों सहित 2,000 से अधिक नागरिक मारे गए, जबकि 2,200 घायल हुए।

संबंधित खबरें