DA Image
हिंदी न्यूज़ › विदेश › तालिबान का कहर! अफगान में उत्तरी हिस्से के कई प्रांतों पर कब्जा, वायुसेना ने विद्रोहियों के ठिकाने पर किये हवाई हमले
विदेश

तालिबान का कहर! अफगान में उत्तरी हिस्से के कई प्रांतों पर कब्जा, वायुसेना ने विद्रोहियों के ठिकाने पर किये हवाई हमले

एजेंसी,काबुलPublished By: Ashutosh Ray
Thu, 05 Aug 2021 10:27 PM
तालिबान का कहर! अफगान में उत्तरी हिस्से के कई प्रांतों पर कब्जा, वायुसेना ने विद्रोहियों के ठिकाने पर किये हवाई हमले

अफगान वायुसेना ने उत्तरी अफगानिस्तान में तालिबान के और आगे बढ़ने के बाद दक्षिणी हिस्से में विद्रोहियों के ठिकानों पर गुरुवार को और हवाई हमले किए। रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि हवाई हमले पूरे देश में किए गए और दक्षिणी हेलमंद प्रांत में भी जहां प्रांतीय राजधानी लश्कर गाह में कड़ा संघर्ष जारी है। तालिबान का शहर के 10 पुलिस जिलों में से नौ पर नियंत्रण है।

लश्कर गाह के निवासियों ने सरकारी रेडियो और टेलीविजन केंद्र के पास भारी बमबारी की जानकारी दी है। कई विवाह सभागार और प्रांतीय गवर्नर का अतिथि घर रेडियो एवं टीवी केंद्र के पास स्थित है। सार-ए-पुल की परिषद के प्रमुख, मोहम्मद नूर रहमानी ने बताया कि उत्तरी अफगानिस्तान में, तालिबान ने प्रांतीय राजधानी के अधिकांश हिस्सों पर अपना कब्जा जमा लिया है। हाल के महीनों में, संगठन ने उत्तर के कई प्रांतों के जिलों पर कब्जा कर लिया है।

अप्रैल माह के अंत में अमेरिकी एवं नाटो सैनिकों की अंतिम वापसी की शुरुआत के साथ ही तालिबान के हमले बढ़ गए हैं। हमले बढ़ने के साथ ही, अफगान सुरक्षाबलों और सरकार के सैनिकों ने अमेरिका की मदद से हवाई हमले बढ़ा कर जवाबी कार्रवाई शुरू कर दी है। इससे देश भर में नागरिकों के हताहत होने की चिंता बढ़ गई है।

संयुक्त राष्ट्र के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने बुधवार को कहा था, हम दक्षिण में, लश्कर गाह में लोगों की सुरक्षा को लेकर बहुत चिंतित हैं जहां लाखों लोग लड़ाई के चलते फंसे हो सकते हैं। उन्होंने कहा, ''हम, अफगानिस्तान में हमारे मानवीय साझेदारों के साथ जरूरतों को आंक रहे हैं और पहुंच मिलने पर दक्षिण में जवाब दे रहे हैं।

इस बीच, उत्तर में जावजान प्रांत में तालिबान पिछले तीन महीने से आगे बढ़ता जा रहा है और इसके अधिकतर जिले बिना लड़ाई के तालिबान के कब्जे में चले गए हैं। उज्बेक युद्ध नायक राशिद दोस्तम के गढ़ के 10 में से आठ जिलों पर तालिबान का कब्जा हो गया है जो लगातार राजधानी, शिबिरगान शहर की तरफ बढ़ रहे हैं। दोस्तम बुधवार को अफगानिस्तान लौट आए और राष्ट्रपति अशरफ गनी से समझौते के बाद उनकी योजना शिबिरगान में लड़ाई का नेतृत्व करने की है। पश्चिम में, हेरात शहर के सात हिस्सों में तालिबान ने हमले किए, लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा।

संबंधित खबरें