DA Image
13 जुलाई, 2020|9:03|IST

अगली स्टोरी

भारतीय मूल के दक्षिण अफ्रीकी लोगों ने मनाया मंडेला दिवस

Nelson Mandela birth anniversary

भारतीय मूल के दक्षिण अफ्रीकी लोगों ने यहां मंडेला दिवस मनाया। इस मौके पर विविधतापूर्ण सामुदायिक गतिविधियां आयोजित की गईं और लोगों ने समाज की बेहतरी के वास्ते कुछ अच्छा काम करने के लिए अपने व्यस्त जीवन से थोड़ा समय निकाला।

संयुक्त राष्ट्र ने 2009 नवंबर को 18 जुलाई को नेल्सन मंडेला दिवस घोषित किया था। दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति की विरासत और उनके मूल्यों के सम्मान में यह घोषणा की गई थी। मंडेला दिवस इस विचार के साथ मनाया जाता है कि प्रत्येक व्यक्ति के पास दुनिया को बदलने और उसे प्रभावित करने की क्षमता है।

इसके बाद से हर साल 18 जुलाई को दक्षिण अफ्रीकी लोग कम से कम 67 मिनट का वक्त अच्छा काम करने में देते हैं। मंडेला ने समुदाय की सेवा में अपने जीवन के 67 साल दिए थे जिसके कारण यह वक्त तय किया गया।

अमेरिका के ईरानी ड्रोन मार गिराने के बाद खाड़ी में तनाव बढ़ा

जोहानिसबर्ग में लेनासिया भारतीय कस्बे के निवासियों ने बृहस्पतिवार को किताबें दान दी जिन्हें पुस्तकालयों और स्कूलों में वितरित किया जाएगा। यह कार्यक्रम गांधी वॉक समिति ने आयोजित किया था।

समिति के अध्यक्ष अमित प्रभुचरण ने कहा, ''हम सभी से अपने किताबों की अलमारी में उन किताबों पर नजर डालने के लिए 67 मिनट का वक्त चाहते हैं जो उन्होंने पढ़ ली है या जिन्हें वे पढ़ना नहीं चाहते। हम उनसे दूसरों का भला करने के लिए नेल्सन मंडेला के नाम पर किताबें दान देने के लिए कहते हैं।" लोगों ने स्कूलों, क्लीनिक और पुस्तकालयों के नवीनीकरण, वृद्धाश्रमों में भोजन परोसने और गरीबों को कंबल तथा गरम कपड़े बांटने के लिए समय निकाला।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:67 minutes for Madiba Indian origin South Africans mark Nelson Mandela Day with acts of kindness