ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशहमास के हमले के बाद डरे इजरायली, 42 हजार महिलाओं ने बंदूकों के लिए दिया आवेदन

हमास के हमले के बाद डरे इजरायली, 42 हजार महिलाओं ने बंदूकों के लिए दिया आवेदन

7 अक्तूबर को हमास द्वारा इजरायल में घुस कर किए गए हमले से इजरायलियों में डर का माहौल है। कभी अपनी सेना पर आंखे मूंद का भरोसा करने वाले इजरायली लोग अब लाईसेंसी बंदूक के लिए आवेदन दे रहे हैं।

हमास के हमले के बाद डरे इजरायली, 42 हजार महिलाओं ने बंदूकों के लिए दिया आवेदन
Upendraएएफपी,इजरायलSat, 22 Jun 2024 11:47 PM
ऐप पर पढ़ें

7 अक्टूबर को हमास के आतंकवादियों द्वारा इजरायल की सीमा में घुस कर किए हमले के बाद इजरायल के लोगों में डर का माहौल है। महिलाओं द्वारा हथियारों के किए गए आवेदनों की संख्या में वृद्धि हुई है। फेमिनिस्ट ग्रुपों ने इस बढ़ते गन कल्चर को लेकर लोगों की निंदा की है। सुरक्षा मंत्रालय के डाटा के अनुसार लाइसेंसी बंदूकों के लिए करीब 42 हजार से ज्यादा महिलाओं के आवेदन आए हैं। इन आवेदनों के बाद 18 हजार के आवेदनों को स्वीकार कर लिया गया है। 7 अक्टूबर के अटैक के लोगों में डर का माहौल है। उस हमले के बाद हथियार के आवेदनों की संख्या में तीन गुना से ज्यादा इजाफा हुआ है।

इजरायल के सिक्योरिटी ऑफिसर बेन गिविर ने कहा कि लाइसेंसी बंदूकों को लेने के नियमों में ढ़िलाई देने के बाद आवेदनों में इजाफा हुआ है। अब 15 हजार से ज्यादा महिलाएं इजरायल और कब्जे वाले वेस्टबैंक में बंदूकधारी सैनिक हैं। करीब 10 हजार अनिवार्य सैनिक ट्रेनिंग भी ले चुकी हैं।
राजनीति विज्ञान के प्रोफेसर लिमोर जियोनेन ने वेस्ट बैंक में अपनी बंदूक चलाने की ट्रेनिंग के दौरान, एजेंसी से बात करते हुए कहा कि 7 अक्तूबर के पहले हमनें कभी भी हथियार लेने के बारे में सोचा भी नहीं था लेकिन उस दिन के बाद से हालात और नजरिया दोनों बदल गए हैं। 
7 अक्तूबर के हमले में इजरायली आंकड़ों के अनुसार करीब 1,194 लोग मारे गए थे, जिनमें से ज्यादातर आम नागरिक थे। इस हमले के बाद इजरायल की जवाबी कार्यवाई में गजा में करीब 38हजार से ज्यादा लोग मर चुके हैं, यह संघर्ष लगातार जारी है। 
लिमोर ने कहा कि उस दिन (7 अक्तूबर) को हम निशाने पर लिए गए थे, आम रहवासी मारे गए थे, मैं अब अपनी रक्षा के लिए तैयार हूं।

हमास के हमले के बाद बंदूकों की मांग बढ़ चुकी है। इजरायल के सुरक्षा मंत्री बेन गिविर 2022 में जब मंत्री बने थे तभी से हथियारों के लाइसेंस की प्रक्रिया को आसान बनाने की वकालत करते रहे हैं। उन्होंने जनता से वादा किया कि हाथ में हथियार लिए इजरायली नागरिकों की संख्या में लगातार वृद्धि होगी। बेन के मंत्री रहते बंदूकों के लाईसेंस मिलने की प्रक्रिया में तेजी आई है और लगातार लोग हथियार ले भी रहे हैं।

बंदूक लेने के लिए बनी नई शर्तें
इजरायली सरकार ने बंदूक लेने के लिए नागरिकों के सामने कुछ शर्तें भी रखी हैं। जो बंदूक लेना चाहता है उसे कम से कम 18 साल का होना चाहिये और इजरायल का निवासी होना चाहिए, हिब्रू का सामान्य ज्ञान होना चाहिए और मेडीकली फिट होना चाहिए। इस लिस्ट के आधार पर यहूदी के अलावा किसी और धर्म के व्यक्ति का लाइसेंस ले पाना लगभग नामुमकिन है।