DA Image
20 जनवरी, 2020|3:09|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ब्रिटेन में चुनाव जीतने वाले कनपुरिया नवेन्द्रु मिश्रा का गोरखपुर में गुजरा है बचपन

ब्रिटेन के संसदीय चुनाव (UK election) की चमक शुक्रवार को गोरखपुर (Gorakhpur) तक पहुंच गई। वहां से लेबर पार्टी के बैनर पर  नवेन्द्रु मिश्रा (Navendu Mishra)  की जीत पर गोरखपुर में भी जश्न है। नवेन्द्रु शहर के प्रख्यात हड्डी रोड विशेषज्ञ डॉ. बीबी त्रिपाठी के भांजे हैं और उनका बचपन तरंग क्रॉसिंग के पास स्थित उनके ननिहाल में गुजरा है।

शुक्रवार को नवेन्द्रु मिश्रा के जीत की खबर जैसे ही डॉ. बीबी त्रिपाठी के घर पहुंची, वहां खुशी की लहर दौड़ गई। आसपास के लोगों के बधाई संदेश आने लगे। डॉ. त्रिपाठी ने बताया कि नवेन्द्रु अपनी जीत के प्रति काफी हद तक आश्वस्त थे। वे कॉलेज के दिनों में राजनीति से जुड़ गए। स्थानीय मुद्दों को लेकर लेबर पार्टी से जुड़े। छह महीने पहले से हम लोगों को उनके चुनाव लड़ने की जानकारी थी। जीत के प्रति आश्वस्त थे नवेन्द्रु : डॉ. त्रिपाठी ने बताया कि चुनाव प्रचार के दौरान नवेन्द्रु से बातें होती रहती थीं। जीत के प्रति वे बेहद आश्वस्त नजर आ रहे थे।
गोरखपुर में हुई है मां की शिक्षा
डॉ. त्रिपाठी ने बताया कि उनकी मां मीनू मिश्रा की पूरी शिक्षा गोरखपुर में ही हुई। इंटर कॉलेज तक वह कॉर्मल गर्ल्स इंटर कालेज की छात्रा रही हैं।  गोरखपुर विश्वविद्यालय से उन्होंने अंग्रेजी में एमए किया। उनकी शादी 1987 में कानपुर में हुई। शादी के कुछ दिन बाद उनके पति प्रभात रंजन मिश्र की नौकरी ब्रिटेन में एक चॉकलेट कंपनी में लग गई। इसके बाद वे लंदन चले गए।  
कानपुर के मूल निवासी हैं नवेन्दु
डॉ. बीबी त्रिपाठी की पत्नी नीलरत्ना त्रिपाठी ने बताया कि नवेन्द्रु के पिता प्रभात रंजन मिश्रा कानपुर के मूल निवासी हैं। नवेन्दु का जन्म 22 अगस्त 1989 को कानपुर में ही हुआ। उसके बाद मां मीनू मिश्रा उन्हें लेकर तरंग क्रासिंग स्थित पैतृक मकान में लेकर आ गई। यहीं वे दो साल रहे। नवेन्द्रु दो साल पहले फरवरी में चचेरे भाई की शादी में लखनऊ आए थे। इसके बाद नवंबर 2017 में मीनू मिश्रा डॉ. बीबी त्रिपाठी की बेटी की शादी में गोरखपुर आई थीं।

मोदी सरकार करने जा रही है ग्रेच्युटी नियमों में बड़े बदलाव, जानें क्या

नवेन्द्रु दो भाई व एक बहन में बड़े हैं। डॉ. त्रिपाठी ने बताया कि नवेन्द्रु  में संवाद के जरिए लोगों को जोड़ने की विशिष्ट क्षमता है। यही वजह है कि भारतवंशी होने के बावजूद वह संसदीय क्षेत्र में चहेते हैं। शुक्रवार को सुबह नवेन्द्रु ने ही मैसेज किया था कि वे चुनाव जीत गए हैं। इसके बाद कुछ देर तक व्हाट्सअप पर चैटिंग हुई। सभी लोग उनकी सफलता से खुश हैं। हम लोगों ने उनको बधाई देने के बाद मां मीनू से भी बात कर बधाई दी। पूरा परिवार बेहद खुश है।
दिल में बसता है भारत
डॉ. त्रिपाठी की पत्नी नीलरत्ना त्रिपाठी ने बताया कि ब्रिटेन में रहकर भी नवेन्द्रु के पूरे परिवार का दिल भारत में बसता है। परिवार में सभी संस्कार भारत के ही हैं। परिवार में जब भी शादी वगैरह होती है, लंदन से पूरा परिवार शामिल होने के लिए भारत आता है। पिता वर्तमानम में जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी में हैं निदेशक हैं।

भारतीय सामानों को रोकना पाकिस्तान को पड़ रहा है भारी, जानें कैसे

अगर रात में स्मार्टफोन पास रखकर सोते है तो जरूर पढ़ें ये खबर

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:uk election 2019 Navendru mishra childhood in Gorakhpur