DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अमेरिकाः ग्रीन कार्ड के लिए भारतीयों को करना पड़ता है 10 साल का इंतजार, जानें क्यों

अमेरिका ग्रीन कार्ड (साभारः Investopedia)

अमेरिकी कांग्रेशनल रिसर्च सर्विस रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है कि वहां ग्रीन कार्ड के लिए आवेदन करने वाले भारतीयों को 10 साल का इंतजार करना पड़ता है। ग्रीन कार्ड को लेकर बन रहे नए नियमों में देश आधारित कोटा सिस्टम को खत्म करने पर विचार किया जा रहा है। भारत और चीन के लोगों को इस कोटा सिस्टम का सबसे ज्यादा खामियाजा भुगतना पड़ता है। अमेरिकी ग्रीन कार्ड पाने वाले को ताउम्र अमेरिका में रहने और काम करने की अनुमति मिल जाती है। देश आधारित कोटा सिस्टम खत्म हो जाने से भारतीयों और चीनियों को सबसे ज्यादा फायदा होने की उम्मीद है।

अमेरिका- पहली हिंदू सांसद लड़ेंगी 2020 में अमेरिकी राष्ट्रपति का चुनाव

इन्हें लगता है सबसे ज्यादा समय
अमेरिकी ग्रीन कार्ड को पाने के लिए चीनी नागरिकों को 11 साल 7 महीने का इंतजार करना पड़ता है। दूसरे नंबर पर भारतीय हैं जिन्हें 9 साल 10 महीने का इंतजार करना पड़ता है। एल सल्वाडोर, ग्वाटेमाला और हुंडरॉस के नागरिकों को 2 साल 10 महीने का इंतजार करना पड़ता है। वियतनाम के नागरिकों को अमेरिकी ग्रीन कार्ड पाने के लिए 2 साल 8 महीने का इंतजार करना पड़ता है। मेक्सिको के नागरिकों को 2 साल और बाकी अन्य देशों के नागरिकों को ग्रीन कार्ड के लिए डेढ़ साल का इंतजार करना पड़ता है। गौरतलब है कि कार्य आधारित और परिवार आधारित ग्रीन कार्ड का 7 फीसदी  सालाना कोटा एक ही देश के नागरिकों को दिया जा सकता है। उस देश की जनसंख्या से इसका कोई लेना-देना नहीं है। इस श्रेणी में सालाना सिर्फ 10 हजार आवेदकों को ग्रीन कार्ड दिया जाता है। 

इन श्रेणियों में सबसे ज्यादा आवेदन
चीनी अन्य कर्मचारियों की श्रेणी के लिए सबसे ज्यादा ग्रीन कार्ड का आवेदन करते हैं। वहीं, भारतीय स्किल्ड वर्कर, प्रोफेशनल्स और अन्य कर्मचारियों की श्रेणी के लिए सबसे ज्यादा आवेदन करते हैं। एल सल्वाडोर, ग्वाटेमाला और हुंडरॉस के नागरिक स्पेशल इमीग्रेंट श्रेणी के लिए सबसे ज्यादा आवेदन देते हैं। वियतनाम के नागरिक इमीग्रेंट इंवेस्टर की श्रेणी के लिए सबसे ज्यादा आवेदन करते हैं। मेक्सिको के नागरिक स्पेशल इमीग्रेंट श्रेणी और बाकी अन्य देशों के नागरिक प्राइऑरिटी वर्कर्स की श्रेणी के लिए सबसे ज्यादा आवेदन करते हैं। एक श्रेणी में एक ही देश के ज्यादा नागरिकों के आवेदन करने के कारण ग्रीन कार्ड में मामले में उस देश का बैकलॉग सबसे ज्यादा ब़ढ़ता है। अप्रैल 2018 में 306,601 भारतीय आईटी पेशेवरों ने ग्रीन कार्ड के लिए आवेदन किया था। अमेरिकी ग्रीन के लिए इंतजार करने वाले आवेदकों में 78 फीसदी भारतीय है। हर साल 28.6 फीसदी भारतीय अमेरिकी ग्रीन कार्ड के लिए आवेदन करते हैं।

सिंगापुरः नाबालिग के साथ यौन संबंध बनाने के जुर्म में भारतवंशी को 13 साल की कैद , 12 कोड़ों की सजा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:indians have to wait for 10 years to get american green card know why