DA Image
29 जनवरी, 2020|1:46|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ओएलएक्स बन गया चोरों का अड्ढा, विज्ञापन डालकर बुला रहे फिर लूट ले रहे

ओएलएक्स चोरों का अड्ढा बन गया है। यहां अकाउंट बनाने के बाद लोग शातिर तरीके से इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। विज्ञापन पोस्ट करने से लेकर झूठ के सामान भी बेचे जा रहे हैं। चोर गिरोह इस पर सामान बेचने का विज्ञापन डालकर लोगों को बुलाता है। इसके बाद उनके पैसे छीनकर रफूचक्कर हो जाता है। एक ग्रुप एक दिन में दो से अधिक घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा है। हमेशा की तरह लोग स्थानीय थाने में जाकर इसकी शिकायत दर्ज कराते हैं और घर लौट जाते हैं। आम-तौर पर इसमें वैसे बच्चों को फंसाया जा रहा है, जो मोटरसाइकिल, कैमरा, लेंस, साइकिल जैसे जरूरी सामान खरीदना चाहते हैं। पढ़ने वाली कॉलेज और कोंचिंग के विद्यार्थियों के साथ इस तरह की घटना हो रही है। ताजा मामला शास्त्रीनगर इलाके का है। यहां एक चोर गिरोह सामान खरीदने के लिए लोगों को बुलाता है। सुनसान इलाके में चार लड़के मिलकर पिस्टल दिखाकर पैसे लूट ले जाते हैं।

इस तरह अपने जाल में फंसाया
केस नंबर एक: 
फुलवारीशरीफ के बिड़ला कॉलोनी में रहने वाले सत्यम कुमार से 31 दिसंबर को दोपहर डेढ़ बजे शात्रीनगर आने को कहा गया। सत्यम ने ओएलएक्स पर निकॉन डी5600 कैमरा खरीदने की डील की थी। उन्हें थाने के ठीक सामने केबी सहाय हाई स्कूल के पीछे बुलाया गया। यहीं आगे सब्जी मंडी की गली से होकर पानी टंकी के पास पहुंचने को कहा गया। यहां सड़क बिल्कुल सुनसान हो जाती है। सरकारी क्वार्टर के अलावा सिर्फ अतिक्रमण कर रह रहे लोगों की झोपड़ी बनी हुई है। पानी टंकी के पास सड़क पूरी तरह सुनसान हो जाती है। यहीं पर पैसा मांगा गया। पैसा देखते ही मौके पर मौजूद चार लड़कों ने पिस्तौल निकाल लिया। इसके बाद 30 हजार रुपए छिनकर भाग निकले। सत्यम यहीं आधा किलोमीटर दूर थाने में जाकर इसका केस दर्ज कराया।

केस नंबर दो: 
31 दिसंबर को ही इसी गिरोह ने शाम में राजाबाजार के एक लड़के से 62 हजार रुपए की छिनतई की। ओएलएक्स से हुई डील के बाद रात में आठ बजे पिल्लर नंबर 91 के पास बुलाया। यहां भी सब्जी मंडी है। साथ ही स्लम बस्ती भी है। जेडी वीमेंस कॉलेज के पश्चिमी गेट पर पल्सर 220 देने की बात हुई थी। मगर राजाबाजार निवासी रजत ने जैसे ही पैसे निकाले चोर पैसे छिनकर भाग निकले। इसके बाद शात्रीनगर थाने में जाकर केस दर्ज कराया गया। दोनों ही घटना एक ही लड़के ने अंजाम दिया था।

अबतक एफआईआर दर्ज भी नहीं
शास्त्रीनगर थाने ने पहले केस में अबतक एफआईआर भी दर्ज नहीं किया है। राजाबाजार की घटना का एफआईआर कॉपी दिया जा चुका है। जबकि सत्यम सनहा की कॉपी लेकर ही घूम रहा है। दोनों ही मामले में चोरों की फोटो पुलिस को दिखाई गई है। मगर इस पर अबतक कोई पड़ताल नहीं हुई। थानेदार अब भी घटना की जानकारी नहीं होने की बात बताते रहे। इधर इस लड़के ने उसी आईडी से ओएलएक्स पर मंगलवार को फिर से कैमरा बेचने का विज्ञापन डाल रखा है। इसकी सूचना पुलिस को देने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई।

पुलिस के पास सारे साक्ष्य, फिर भी कार्रवाई नहीं
पीड़ितों ने चारों लड़कों से हुई बातचीत का फोन नंबर, ईमेल आईडी और ओएलएक्स से बातचीत की पूरी डीटेल पुलिस को दिखाई है। राकेश सिंह के नाम से ओएलएक्स से बातचीत का स्क्रीन शॉट भी उनके पास मौजूद है। राजाबाजार का सीसीटीवी फुटेज भी उपलब्ध होने की बात है। इतने साक्ष्य के बाद भी पुलिस एक भी चोर को पकड़ने में नाकाम दिखती है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:OLX becomes thief of thieves putting advertisements calling and then loot