DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नालंदा की महिला से राजेंद्रनगर में रेप: ढाई घंटे तक पीड़िता की मदद के लिए नहीं पहुंची पुलिस

पटना में सोमवार की देर रात एक दिल दहला देने वाली घटना हुई। राह चल रही एक महिला को तीन व्यक्ति अगवा कर राजेंद्रनगर रेलवे स्टेशन के पास एक गली में ले गए। वहां ठेले पर तीनों ने उसके साथ दुष्कर्म किया। वह चीखती रही, मदद मांगती रही, लेकिन कोई नहीं आया। कदमकुआं थाने को ढाई घंटे तक फोन किया गया, लेकिन कोई नहीं आया तो जीआरपी अपनी गाड़ी से पीड़िता को थाने ले गई।

नालंदा की रहने वाली एक महिला (19 वर्ष) पटना में सोमवार की देर रात अपने भाई के पास जा रही थी। रात के करीब 12 बजे थे, उसे एक ऑटो चालक मिला। उसने कहा कि मैं तुम्हें भाई के यहां छोड़ देता हूं। दोनों पैदल ही चल दिए। वहां से अमरूदीगली में महिला के भाई के यहां पहुंचे, लेकिन वहां कोई था नहीं। फिर ऑटो चालक महिला को अपने घर लोहानीपुर ले गया।  मोहल्ले वालों ने पूछताछ शुरू की तो महिला ने कहा कि मुझे राजेंद्रनगर रेलवे स्टेशन छोड़ दो। दोनों स्टेशन आ रहे थे कि लोहानीपुर बस्ती में दो लड़के बाइक से आए और फिर ऑटो वाले के साथ मिलकर महिला को जबरिया  ले गए। फिर तीनों राजेंद्र नगर टर्मिनल की उल्टी तरफ (चार नंबर प्लेटफॉर्म) के बाहर रोड नंबर 10 पर पहुंचे और सामूहिक दुष्कर्म किया।

रोंगटे खड़े कर देने वाली दास्तां
मैं अपने भाई की तलाश में पटना आई थी। उसका घर खोज रही थी कि अचानक एक ऑटो चालक मिला। उसने विश्वास दिलाया कि वह मुझे भाई से मिलवा देगा। मैंने विश्वास किया और यही मैं ठगी गई। रात में उसके साथ दो लोग और आ गए। मुझे यह कहकर ले गए कि रेलवे स्टेशन पर छोड़ देंगे। जब वह मुझे अंधेरे वाली एक गली में ले गए तो मैंने चीखना शुरू किया। मेरा मुंह पीछे बैठे एक लड़के ने दबा दिया। फिर मुझे ठेले पर ले जाकर जानवरों की तरह फेंक दिया। मैं चीखती रही, मदद मांगती रही, लेकिन उन्हें रहम नहीं आया। एक-एक कर उन्होंने नोंचा। मैंने उनसे लड़ने की बहुत कोशिश की लेकिन वे हैवान नहीं रुके।

इस बहादुरी को सलाम
झाझा—पटना पैसेंजर से सामान लेकर राजेंद्रनगर टर्मिनल पहुंचे अमित कुमार सिंह ने बताया कि मेरे कानों में अचानक एक महिला की चीख सुनाई दी। तीन लड़के जोर-जबरदस्ती कर रहे थे। ऐसा लग रहा था कि महिला के साथ गलत हुआ है। मुझे देख बाकी दो भाग निकले, लेकिन मैंने एक को पकड़ लिया और जीआरपी के हवाले कर दिया। मैंने कदमकुआं थाने को भी कई बार फोन किया, लेकिन वहां से कोई जवाब नहीं मिला।  

कहां थी पुलिस की गश्ती
सोमवार की रात 12 बजे से लेकर ढाई बजे तक दुराचारी लोहानीपुर से दिनकर गोलंबर, वैशाली गोलंबर से होते हुए राजेंद्रनगर स्टेशन के पिछले हिस्से में पहुंचे। प्लेटफार्म नंबर चार के पास रोड नंबर 10 में एक ठेले पर तीनों ने दुराचार किया। चौंकाने वाली बात यह है कि एक ही बाइक पर लड़की सहित चार लोग शहर में घूमे, लेकिन पुलिस सहित किसी की नजर नहीं पड़ी। जहां उसका दुराचार किया गया वहां से 50 मीटर दूरी पर पुलिस का आउट पोस्ट (ओपी) था, फिर भी भनक नहीं लगी। 

जीआरपी का तर्क
जीआरपी के थानाध्यक्ष रवि प्रकाश ने बताया कि हमने पीड़िता के साथ एक दोषी और ऑटो चालक को सुबह तीन बजे ही गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद थाने को इसकी जानकारी दी गई। लगातार संपर्क में रहने के बाद आखिरकार सुबह छह बजे सभी को अपनी गाड़ी से कदमकुआं थाने पहुंचाया। 

पुलिस का कुतर्क
इस मामले में कदमकुआं थानाध्यक्ष निशिकांत का कहना है कि हमें जैसे ही सूचना मिली, हम तुरंत पहुंचे। हमने इस मामले में पूरी सर्तकता बरती है। पीड़िता का बयान दर्ज कर लिया गया है। एफएसएल रिपोर्ट के बाद ही दुराचार की पुष्टि हो पाएगी।

व्यवस्था पर खड़े होते सवाल
- देर रात दुराचारी महिला को लेकर घूमते रहे, आखिर पुलिस ने उन्हें कहीं रोका क्यों नहीं?
- रात में पुलिस गश्ती के बड़े दावे होते हैं, फिर रात में गश्ती कहां थी?
- महिला के साथ ओपी के पास दुष्कर्म हुआ तो पुलिस कहां थी?
- कदमकुआं थाने को फोन किया, फिर वह मौके पर क्यों नहीं पहुंची?
- जीआरपी के फोन करने पर थाने की पुलिस क्यों नहीं आई?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Nalandas woman rap in Patna