Do not buy money then rent favorite car - खरीदने के नहीं हैं पैसे तो किराए पर लें मनपसंद कार DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खरीदने के नहीं हैं पैसे तो किराए पर लें मनपसंद कार

बहुत से लोग ऐसे हैं जिन्हें कारों की जरूरत है, लेकिन उनके पास इसे खरीदने के लिए रुपये नहीं है। ऐसे लोगों के लिए एक राहत भरी खबर है। वह कार खरीदे बिना भी इसके मालिक बन सकते हैं। दरअसल, कई वाहन निर्माता कंपनियां लीज पर वाहन देने के कारोबार में उतर रही हैं। जिससे आप मासिक तौर पर एक निश्चित रकम देकर अपनी पसंद की कार किराए पर ले सकते हैं। हाल ही में हुंडई मोटर्स के छोटी और सेडान कारों के लीज पर देने की घोषणा के बाद देश के निजी यात्री वाहन बाजार में एक नए युग की शुरुआत होगी। 

दो से पांच साल की होगी लीज 
कारें कम से कम दो साल और अधिकतम पांच साल की लीज पर उपलब्ध होंगी। अभी देश में एक प्रतिशत से भी कम कारें लीज पर ली जाती हैं जबकि विकसित देशों में 45 प्रतिशत कारें लोग लीज पर लेते हैं। एएलडी ऑटोमोटिव के सीईओ एवं पूर्णकालिक निदेशक सुवजीत करमाकर ने कहा कि दोनों कंपनियों को इस समझौते से फायदा मिलेगा। हमें बाजार में अपनी स्थिति मजबूत करने में मदद मिलेगी। हम ग्राहकों को नए उत्पाद और सेवाएं सुलभ करा सकेंगे।

लीज पर मिलेंगी हुंडई की सभी कारें
हुंडई मोटर इंडिया लिमिटेड की सभी कारें अब मासिक लीज पर उपलब्ध होंगी। कंपनी ने कहा है कि उसने अपनी कारें लीज पर उपलब्ध कराने के लिए कार लीज पर देने वाली कंपनी एएलडी ऑटोमोटिव से करार किया है। इससे ग्राहक कार खरीदने की बजाय उसे लीज पर ले सकते हैं। इसके लिए ग्राहक को कोई अग्रिम भुगतान नहीं करना होगा और न ही बीमा या रख-रखाव की कोई चिंता करनी होगी। अभी यह सुविधा दिल्ली-एनसीआर, मुंबई, बेंगलुरु, हैदराबाद और चेन्नई के लोगों के लिए होगी। नौकरीपेशा लोग, कामकाजी पेशेवर, छोटी तथा मध्यम कंपनियां, कॉर्पोरेट और सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियां इस सुविधा का लाभ उठा सकती हैं। हुंडई के कार्यकारी निदेशक  एस. जे. हा ने बताया कि स्मार्ट मोबिलिटी सोल्यूशन प्रोवाइडर के तौर पर हम नए उभरते ग्राहकों की आवश्यकताओं को समझते हैं। कंपनी शेयर्ड मोबिलिटी के लिए प्रतिबद्ध हैं। भारत में वाहन लीजिंग बिजनेस तेजी से बढ़ रहा है। एएलडी ऑटोमोटिव के साथ समझौते से हमारी स्थिति और मजबूत होगी।

लीज की अवधि बढ़ने पर किराया होगा कम
अगर आपको कोई  कार दो साल के लिए लीज पर लेनी है तो कार की कीमत के अनुसार अगर मासिक किराया 10 हजार रुपये है, तो उसकी कार को पांच साल के लिए लीज पर लेने पर किराया 8 हजार रुपये मासिक हो सकता है। इस स्कीम में ग्राहकों को कोई बड़ा डाउन पेमेंट भी नहीं देना होगा और न ही इसमें कोई आर्थिक जोखिम है। जब कोई ग्राहक कार लीज पर लेगा तो उसे ज्यादा सहूलियत महसूस होगी क्योंकि वह जो कीमत अदा करेगा उसमें कार का रखरखाव और बीमा की रकम भी शामिल होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Do not buy money then rent favorite car