DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सावधानी और सतर्कता के साथ खरीदें पुरानी बाइक

अगर पुरानी बाइक खरीदने में कोई जल्दबाजी न हो तो किसी डीलर के बजाए सीधे बाइक बेचने के इच्छुक व्यक्ति से संपर्क करें। ये काम अपने आस-पड़ोस, यार दोस्तों और परिचितों की मदद से काफी आसान हो जाता है। इसके दो फायदे हैं। पहला यह कि आपको बाइक के हालात की सही जानकारी मिल जाएगी, क्योंकि डीलर अक्सर पुरानी बाइक को बेचने के लिए उसके बाहरी आवरण को चमका कर रखते हैं, जिससे बाइक की सही स्थिति का अंदाजा नहीं लग पाता है। दूसरा लाभ ये होता है कि जब आप सीधे वाहन मालिक से बाइक खरीदते हैं तो आपको बाइक थोड़ी सस्ती मिल जाती है, क्योंकि डीलर अक्सर 10 से 20 प्रतिशत का कमीशन लेकर ही बाइक का सौदा करते हैं। वह बाइक बेचने और खरीदने वाले दोनों से अपना हिस्सा वसूल करते हैं, जिससे बाइक की कीमत थोड़ी ज्यादा हो जाती है। ऑनलाइन ओलेक्स जैसी साइट के जरिए बाइक की खरीदारी करने में और भी अधिक सतर्कता और सावधानी की जरूरत होती है। 

माइलेज की करें पड़ताल 
बाइक अगर बहुत पुरानी और खराब हो तो उसकी माइलेज बिगड़ जाती है। इसलिए ये देखना जरूरी है कि बाइक के इंजन की शक्ति और कंपनी के दावे के मुताबिक बाइक का माइलेज सही है या नहीं। माइलेज चेक करने के लिए प्रमाणित विधियों का ही प्रयोग करना चाहिए। माइलेज सही नहीं हो तो ऐसी बाइक खरीदने से बचें।

बाहरी आवरण और इंजन की जांच जरूरी  
बाइक खरीदने से पहले उसके बाहरी आवरण और इंजन की अच्छी तरह से जांच कर लें। बहुत पुरानी, जर्जर, जंग लगी और रंग उखड़ी बाइक लेने से परहेज करें। ये भी देखें की उसके टायर ज्यादा घिसे, कटे और फटे तो नहीं हैं। बाइक चलने पर उसके पीछे का पहिया आड़ा-तिरछा तो नहीं चल रहा है। तेल की टंकी कहीं से लीक या पिचकी हुई तो नहीं है।  इंजन चेक करें कि अंदर से किसी तरह की असमान्य आवाजें तो नहीं आ रही है। इंजन के आसपास कहीं से मोबिल तो नहीं लीक कर रहा है। बाइक चलने के बाद धुआं तो नहीं दे रही है या इंजन स्टार्ट रहने पर बहुत ज्यादा गर्म तो नहीं हो रही है।  

ट्रायल के लिए मैकेनिक को साथ लेकर जरूर जाएं  
बाइक लेने के पहले लोग उसका टेस्ट ड्राइव करते हैं। अगर बाइक अच्छी है तो एक्सीलेटर लेते ही वह बिना किसी रुकावट के ताकत के साथ हल्की और पानी जैसी चाल में चलती है। लेकिन एक सामान्य आदमी के लिए किसी नई बाइक को थोड़ा-बहुत चलाकर उसके बारे में आकलन करना कठिन होता है। इसलिए जब आपको कोई बाइक पसंद आए तो अपने किसी परिचित, भरोसेमंद स्थानीय बाइक मेकैनिक को अपने साथ ले जाएं। वह बाइक चलाकर उसके वास्तविक हालात के बारे में बहुत हद तक सटीक जानकारी दे सकता है। बाइक में अगर कोई कमी या काम हो तो वह इसका अंदाजा बखूबी लगा सकता है। यहां तक कि उस बाइक का वास्तविक बाजार भाव भी मेकैनिक बता सकता है। 

बेहद जरूरी हैं बाइक के कागजात 
बाइक पसंद आने के बाद उसके पंजीकरण प्रमाण-पत्र की अच्छी तरह से पड़ताल कर लें, क्योंकि आजकल चोरी की बाइक भी खूब-खरीदी और बेची जा रही हैं। अगर आप जाने अंजाने चोरी की बाइक खरीद लेते हैं तो इससे गंभीर कानूनी पचड़े में भी पड़ सकते हैं। इसलिए सौदा तय करने के पहले बाइक की आरसी जरूर देखें। इससे बाइक किस व्यक्ति के नाम से है, बाइक कब और कहां खरीदी गई, इसकी सही-सही सूचना आपको मिल जाएगी। आप बाइक का नंबर लेकर परिवहन विभाग की वेबसाइट पर ऑनलाइन इसकी प्रमाणिकता की जांच कर सकते हैं। इसमें बाइक के रजिस्ट्रेशन का वर्ष, मालिक का नाम, पता और बाइक से संबंधित जानकारियां उपलब्ध होती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Buy old bikes with caution and alertness