DA Image
21 जनवरी, 2020|5:54|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हे दुर्गा मां! ये क्या कर दिया...

                                             -

भगवानगंज थाने के दौलतपुर गांव के सामने मोरहर नदी में रविवार को डूबने से तीन बच्चों की मौत हो गई। यह हादसा उस समय हुआ, जब बच्चे मोरहर नदी में नहा रहे थे। डूबते बच्चों को ग्रामीणों ने बचाने की कोशिश की, लेकिन सफलता नहीं मिली। मृतकों में संजय रविदास की आठ वर्षीया पुत्री जूली कुमारी, उमेश चौधरी का नौ वर्षीया पुत्र कुंदन कुमार और पिन्टू सिंह का दस वर्षीय पुत्र राजकुमार शामिल है। ग्रामीणों ने नदी से तीनों के शवों को बरामद कर लिया। इस मामले में भगवानगंज पुलिस मौके पर पहुंची और शवों को बरामद कर यूडी केस दर्ज करते हुए पोस्टमार्टम के लिए पीएमसीएच भेजा। हादसे के शिकार तीनों परिवारों को बीडीओ ने पारिवारिक लाभ योजना के तहत बीस- बीस हजार रुपए और कबीर अन्त्येष्टि योजना से पंचायत मुखिया मंजूषा देवी ने तीन-तीन हजार राशि दी। 

दुर्गापूजा का माहौल फीका
गांव में माता दुर्गा की प्रतिमा स्थापित हुई थी और मंदिर पर अखंड कीर्तन का आयोजन चल रहा था। इस दौरान मोदफ्फरपुर गांव होकर मोरहर नदी की तरफ जा रहे गांव के बच्चों को देख लोगों मना किया कि नदी में बाढ़ के हालात हैं, नदी की ओर नहीं जाओ। बच्चों ने मना कर दिया कि नदी की ओर नहीं जा रहे हैं। बावजूद मौका मिलते ही उफनती नदी के तट पर नहाने लगे। इसी बीच संजय रविदास की बेटी गहरे पानी में चली गईं, जिसे बचाने के लिए कुंदन और राजकुमार ने भी नदी में छलांग लगाई। देखते देखते एक-दूसरे को बचाने  में तीनों बच्चों की मौत डूबने से हो गई। नदी में बच्चों के डूबने की खबर फैलते ही अखंड कीर्तन अनुष्ठान तत्काल रोक दिया गया। गमगीन महौल के बीच ग्रामीणों ने दुर्गापूजा नहीं मनाने का संकल्प दोहराया है। इधर, मसौढ़ी के राजद विधायक रेखा देवी ने शोकाकुल परिवार से मिलकर सहानुभूति प्रकट कर हरसंभव मदद करने का वादा किया।