DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तीन महीने का गर्भ लेकर न्याय के लिए भटक रही गैंगरेप पीड़िता

राज्य महिला आयोग की तरफ से कराए गए मेडिकल जांच में कैमूर की गैंग रेप पीड़िता तीन माह की गर्भवती पाई गई है। दस दिनों तक बंधक बनाकर किए गए गैंग रेप की घटना का दर्द गुरुवार को पीड़िता ने आयोग को सुनाया। जिसके बाद आयोग सख्त हो गया और कैमूर के एसपी को कार्रवाई के लिए पत्र लिखा। देर शाम तक घटना के मुख्य आरोपित शशिकांत को दुर्गावती थाना की पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। आयोग ने एसपी, डीएम, विधिक प्राधिकरण के साथ आइजी कमजोर वर्ग को चिट्ठी लिखी है।

पीड़िता के दर्द सुन सिहर गई सदस्य
कैमूर की गैंग रेप पीड़िता का दर्द सुनकर राज्य महिला आयोग की सदस्य भी सिहर गईं। पीड़िता ने 10 दिन की दर्द भरी कहानी के साथ पुलिस का अमानवीय चेहरा भी आयोग के सामने दिखा दिया। बुधवार को आयोग में परिजनों के आने के बाद गुरुवार को पीड़िता को बुलाया गया था। पीड़िता ने मार्च माह में हुई घटना के बारे में बताया कि वह दादाजी के लिए खाना लेकर जा रही थी। इस दौरान मयंक और शशिकांत ने दवा छिड़ककर उसे अगवा कर लिया। वह उसे बाड़वरा गांव के सुनसान इलाके में ले गए और 10 दिनों तक बंधक बनाकर गैंग रेप करते रहे।

पुलिस ने रफा-दफा कर दिया मामला 
पीड़िता के परिजनों का कहना है कि किशोरी के लापता होने का मामला स्थानीय थाना ने रफा-दफा कर दिया और लड़की के मिल जाने पर उस पर दबाव बनाकर झूठा बयान दिलवा दिया। मार्च में हुई इस घटना का बहुत ही मुश्किल से भभुआ थाना क्षेत्र से मेडिकल टेस्ट 4 मई को करवाया गया था जिसकी रिपोर्ट आज तक नहीं मिल पाई है।  

महिला आयोग ने कहा मिलेगा न्याय 
कैमूर के स्थानीय थाना की पुलिस द्वारा मामले को रफदफा करने को आयोग ने गंभीरता से लिया है। पीड़िता पर दबाव बनाकर झूठा बयान दिलाने के केस की सुनवाई करते हुए आयोग की सदस्य निक्की हैम्ब्रम ने कहा कि यह काफी गंभीर मामला है। इसके लिए आयोग ने एसपी, डीएम व आइजी कमजोर वर्ग को पत्र भेजा है। 

पीड़िता का कराया जाएगा गर्भपात 
आयोग का कहना है कि न्यायालय को अवगत कराते हुए पीड़िता का गर्भपात कराया जाएगा। इसके अलावा केस को प्रभावित ना किया जाए इसके लिए स्थानीय थाना क्षेत्र पर दबाव बनाया जाएगा। कैमूर की 13 वर्षीय नाबालिग को हर हाल में न्याय दिलाया जाएगा।

भटकती रही पीड़िता
26 मार्च को कैमूर के 13 वर्षीय पीड़िता के अपहरण की शिकायत हुई। 
28 मार्च को फिर पीड़ित परिवार किशोरी की बरामदगी के लिए थाना गया।
10 दिन बाद लड़की को कोर्ट में पेश कराकर दबाव में बयान दिलाया गया।
20 दिन में ही पुलिस ने मामले का रफादफा कर दिया गया।
4 मई को कैमूर में मेडिकल कराया गया लेकिन अभी तक रिपोर्ट नहीं आई।
15 मई को पीड़िता के परिजन राज्य महिला आयोग में पेश हुए।
16 मई को राज्य महिला आयोग में पीड़िता को बुलाया गया।
3 माह की गर्भवती निकली 13 साल की पीड़िता। 
16 मई को आयोग की सख्ती के बाद मुख्य आरोपित की गिरफ्तारी हुई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Three months pregnant Gangrape victim wandering for justice