DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तस्करों ने तालाब के अंदर छुपा रखी थी शराब

शराबबंदी कानून में पुलिस का तंत्र फेल हो रहा है। थानों के आसपास शराब का धंधा धड़ल्ले से जारी है और पुलिस को भनक तक नहीं लग रही है। उत्पाद विभाग द्वारा बरामद की जा रही शराब पुलिस की नाकामी की पोल खोल रही है। गुरुवार को पटना के अगमकुआं और बख्तियारपुर में पांच सौ से अधिक लीटर शराब बरामद की गई है। वहीं पुलिस ने एक दर्जन से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है।  

बोरे में भरकर गड्ढे में डाल दी जा रही थी शराब 
अगमकुआं में शराब का धंधा बड़े पैमाने पर चल रहा था। यहां तालाब और नालों में शराब की बोतलों को बोरे में भरकर गड्ढे में डाल दिया जाता है। गुरुवार को उत्पाद विभाग की टीम जब क्षेत्र के बड़ी पहाड़ी पर छापेमारी की तो तालाब व ला में शराब की पूरी खेप छिपाकर रखी गई थी। पुलिस ने 250 लीटर देसी शराब बरामद किया और एक आरोपित को गिरफ्तार भी किया है। सूत्रों की मांने तो धंधा काफी दिनों से चल रहा था लेकिन पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगी। 

चल रहा था पीने-पिलाने का दौर 
बख्तियारपुर के रामनगर दियारा क्षेत्र में शराब का जमकर कारोबार हो रहा था। छापेमारी के दौरान पुलिस ने गुरुवार को 378 लीटर देसी शराब बरामद की है। यहां भट्िठयों में शराब बनाई जा रही थी। पुलिस ने छापेमारी के दौरान 20 भट्ठी को तोड़ दिया और 12 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करते हुए दो हजार लीटर अर्द्ध निर्मित शराब बरामद किया है। पुलिस ने अफसरों के निर्देश पर कार्रवाई  की है लेकिन सवाल यह है कि पुलिस का सूचना तंत्र कैसे फेल हो गया। इतने दिनों से कारोबार चल रहा था और इसकी भनक तक पुलिस को नहीं लग पा रही थी। सूत्रों की माने तो अफसरों ने थानेदार को कड़ी फटकार लगाई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Smugglers kept wine hiding inside pond in patna