Jitiya 2019 Women will fast for sons long life - जिउतिया व्रत कल: बेटों के लिए भूखी-प्यासी रहेंगी मां DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जिउतिया व्रत कल: बेटों के लिए भूखी-प्यासी रहेंगी मां

                                                                                                -

जीमूतवाहन व्रत (जिउतिया) को लेकर पंडित और पंचांग एकमत नहीं हैं। इस वजह से इस बार जिउतिया व्रत दो दिनों का हो गया है। बनारस पंचांग से चलने वाले श्रद्धालु 22 सितम्बर को जिउतिया व्रत रखेंगे और 23 सितम्बर की सुबह पारण करेंगे। वहीं मिथिला और विश्वविद्यालय पंचांग दरभंगा से चलनेवाले श्रद्धालु 21 सितम्बर को व्रत रखेंगे और 22 सितंबर की दोपहर तीन बजे पारण करेंगे। इस तरह विश्विविद्यालय पंचांग से चलने वाले व्रती 33 घंटे का व्रत रखेंगे।

संतान की लंबी आयु के लिए महिलाएं जिउतिया का निर्जला व्रत रखती हैं। इस व्रत को जितिया या जीउतिया या जीवित्पुत्रिका व्रत के नाम से भी जानते हैं। इस व्रत की कथा महाभारत काल से संबंधित है। कहा जाता है कि महाभारत के युद्ध में अपने पिता की मौत के बाद अश्वत्थामा बहुत नाराज था। उसके हृदय में बदले की भावना भड़क रही थी। इसी के चलते वह पांडवों के शिविर में घुस गया। शिविर के अंदर पांच लोग सो रहे थे। अश्वत्थामा ने उन्हें पांडव समझकर मार डाला। वे सभी द्रोपदी की पांच संतानें थीं। फिर अर्जुन ने उसे बंदी बनाकर उसकी दिव्य मणि छीन ली। अश्वत्थामा ने बदला लेने के लिए अभिमन्यु की पत्नी उत्तरा के गर्भ में पल रहे बच्चे को गर्भ को नष्ट कर दिया। ऐसे में भगवान श्रीकृष्ण ने अपने सभी पुण्यों का फल उत्तरा की अजन्मी संतान को देकर उसको गर्भ में फिर से जीवित कर दिया। गर्भ में मरकर जीवित होने के कारण उस बच्चे का नाम जीवित्पुत्रिका पड़ा। तब से ही संतान की लंबी उम्र और मंगल के लिए जितिया का व्रत किया जाने लगा।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Jitiya 2019 Women will fast for sons long life