Hyper Tension Day desire to live broken due to stress - हाइपर टेंशन डे: तनाव से टूट रही जीने की चाह DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हाइपर टेंशन डे: तनाव से टूट रही जीने की चाह

तनाव में इंसान टूट रहा है। वह बीमारियों के साथ अवसाद का शिकार हो रहा है, जो उसे मौत के मुहाने पर लाकर छोड़ता है। महिला हो या पुरुष, हर किसी के साथ ऐसी स्थिति आ रही है। तनाव का आलम यह है कि लोग खुद अपना जीवन खत्म कर दे रहे हैं। तेजी से बढ़ते सुसाइड के मामले बड़ी चुनौती बन गए हैं। पटना में वर्ष 2018 में डेढ़ दर्जन से अधिक सुसाइड के मामले आए हैं। ‘वर्ल्ड हाइपर टेंशन डे’ पर डॉक्टरों के लिए यह मंथन का विषय होता है। अवसाद को दूर करने के लिए जीनवशैली में बदलाव लाने  पर जोर दिया जा रहा है।

ऐसे बढ़ रहा अवसाद
दौड़-भाग भरी जिंदगी में लोगों को सुकू नहीं है। लाइफ स्टाइल पूरी तरह से बदल गई है। तनाव के कारण लोगों में कई बीमारी घर कर रही है और इस कारण से वह परेशान हो गए हैं। डॉक्टरों का कहना है कि 90 प्रतिशत मरीज़ों को हाइपरटेंशन के कारणों के बारे में पता ही नहीं होता है और  इस वजह से वह इसकी जाल में फंसते जाते हैं।

ऐसे पहुंचा रहा है नुकसान 
- दिल, किडनी व आंखों के लिए खतरनाक है हाइपर टेंशन  
- आधुनिक लाइफ स्टाइल ने दी है बीमारी 
- व्यायाम नहीं करने के कारण बढ़ रही समस्या  
- हार्ट अटैक और स्ट्रोक की बन रही मुख्य वजह
- पटना मेडिकल कॉलेज में हर दिन 25 से 30 मरीज हाइपर टेंशन के आते हैं।
- दिल, दिमाग, किडनी, आंखों की बीमारियों से ग्रसित अधिकतर मरीजों में हाइपर टेंशन की शिकायत
- महिलाओं में 40 की उम्र पार करने के बाद यह समस्या

यह है लक्षण
- बीपी 140 से अधिक होना
- चक्कर आना, उल्टी होना, सिर घूमना 
- सिर में तेज दर्द, नाक से खून आना
- तनाव और थकान 

यह है कारण
- मोटापा, आनुवांशिक, तैलीय भोजन, जरूरत से ज्यादा काम करना, अकारण परेशान होना, टेंशन। इन प्रमुख कारणों ने आज लोगों को कम उम्र में भी हाइपर टेंशन जैसी बीमारी की चपेट में ले आया है।

ऐसे करें बचाव 
- हाइपर टेंशन से बचने के लिए जीवनशैली में सुधार लाएं।
- खाने में नमक का कम से कम सेवन करें।
- तनाव से मुक्त रहने के लिए योग का सहारा लें।
- नशीले पदार्थों का सेवन नहीं करें, धूम्रपान भी न करें।
- अधिक चाय या कॉफी न लें, रोज 2 से 3 लीटर पानी पीएं।
- मोटापे से बचे, रोजाना 20 से 30 मिनट का व्यायाम करें।
- बीपी और थॉयराइड की जांच कराते रहें।

हाइपर टेंशन के कारण लोग अवसाद में जा रहे हें और फिर वह जान नहीं बचा पाते हैं। पटना में आए दिन ऐसी घटनाएं हो रही हैं जो चिंता का विषय हैं। इससे बचने के लिए लाइफ स्टाइल में बदलाव लाना होगा। 
डॉ विवेक विशाल, मनोचिकित्सक 

हाइपर टेंशन की बीमारी आज की बड़ी समस्या बनती जा रही है। इससे धमनियां कमजोर होती हैं और फिर हृदय की गंभीर बीमारी होती है। इससे बचने के लिए योग के साथ खानपान पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए।
डॉ एके झा, हृदय रोग विशेषज्ञ

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Hyper Tension Day desire to live broken due to stress