DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्कूल वाहन चलाते पकड़ाया दिव्यांग, दिखाया ड्राइविंग लाइसेंस

पटना के निजी स्कूल संचालक बच्चों की जान से खेल रहे हैं। आए दिन हो रही दुघर्टनाओं के बाद भी बच्चों से भरे वाहनों की स्टेयरिंग दिव्यांगों के हाथों में थमा दी जा रही है। दलालों की सक्रियता से हाथ से दिव्यांगों को भी भारी वाहन चलाने का लाइसेंस जारी किया जा रहा है। मंगलवार को भूतनाथ मोड़ पर यातायात पुलिस ने ट्रिनिटी ग्लोबल स्कूल के चालक छोटे पासवान को पकड़ा। वह स्कूल की वैन चला रहा था, जबकि उसका बायां हाथ छोटा और पंजा भी पूरा नहीं था। पुलिस ने एक हजार रुपए का चालान काटने के साथ इस पूरे मामले की जानकारी विभाग के आला अधिकारियों को दी है। 

सीट-बेल्ट के लिए पकड़ा,  हाथ देख उड़े होश
भूतनाथ मोड़ पर मंगलवार को दिन में लगभग ढाई बजे दारोगा कपिल देव ने वाहनों की चेकिंग के दौरान ट्रिनिटी ग्लोबल स्कूल की वैन को पकड़ा। चालक ने सीट बेल्ट नहीं लगाया था। दारोगा को लगा की मामला सिर्फ सीट बेल्ट नहीं लगाने का है, लेकिन जब चालक वाहन से निकलकर बूथ पर आया तो पुलिसकमियों के होश उड़ गए। चालक छोटे पासवान का बायां हाथ काफी छोटा था और पंजा भी पूर्ण रूप से विकसित नहीं था। दारोगा ने तत्काल चालक छोटे पासवान और स्कूल की शिकायत विभाग के अधिकारियों को दे दी तथा चालक की मनमानी पर एक हजार का चालान काटा।

ड्राइविंग लाइसेंस में है बड़ा खेल 
पुलिस की जांच में पता चला कि ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने में बड़ा खेल किया गया है। पुलिस सूत्रों का कहना था कि चालक का हाथ जन्म से ही खराब लग रहा था। ऐसे में लाइसेंस कैसे जारी हो गया यह बड़ा सवाल है। पुलिस की जांच में पता चला कि लाइसेंस नालंदा से बनावाया गया है। लाइसेंस के असली होने पर भी दुविधा है। पुलिस का कहना है कि प्रथम दृष्टया जांच में जो बात सामने आई है उसमें कार्रवाई की गई है। सूत्रों का कहना है कि इस मामले में जांच कराई जाए तो डीटीओ कार्यालय में दलालों द्वारा लाइसेंस बनवाने का बड़ा खेल सामने आएगा। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Divyang caught driving school vehicle in Patna