DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्रों के लिए बम बन गया डियो का डिब्बा

                                             -

ऐसे कई वीडियो वायरल हुए हैं जिसमें जन्मदिन या अन्य कार्यक्रम में स्प्रे (फॉम, डियो) से आग लग गई है। लोग ऐसे वीडियो को देखकर ध्यान नहीं देते हैं। मंगलवार को डियो से आग की ऐसी घटना पटना में हुई जिसने रोंगटे खड़े कर दिए हैं। बुद्धा कॉलोनी थाना क्षेत्र के काठपुल मोहल्ले में एक तीन मंजिले इमारत में हुई इस घटना में बम धमाके की तरह आवाज आई और तीन छात्र गंभीर रूप से झुलस गए। पूरा कमरा डियो गैस के कारण आग का गोला बन गया था। इस घटना में झुलसे छात्रों में दो की हालत नाजुक बताई जा रही है। पुलिस की जांच में भी आग का कारण डियो की गैस बताई जा रही है। 

तीन डियो से तीन छात्र झुलसा
औरंगाबाद के आकाश, शुभम और सोनू बुद्धा कॉलोनी के काठपुल मोहल्ले में बैजनाथ यादव के मकान में दूसरी मंजिल पर किराए से कमरा लेकर रहते थे। तीनों छात्रों में आकाश और शुभम दोनों चचेरे भाई हैं जबकि सोनू भी उनके ही गांव का है। तीनों पटना में आईआईबीएम में पढ़ाई कर रहे हैं। कमरे में वह जमीन पर सोते थे और खाना भी उसी कमरे में ही बनाते थे। सोमवार की देर रात तक तीनों पढ़ाई किए इस कारण से सुबह लेट से आंख खुली। तीनों सोमवार को व्रत रखे हुए थे। मंगलवार की सुबह लेट से उठने के बाद वह गैस पर खाना रखकर तैयार हो रहे थे। इस दौरान एक छात्र ने कपड़े में डियो से स्प्रे किया। कमरे का दरवाजा बंद था इस कारण से डियो का पूरा गैस कमरे में भर गया। गैस जैसे ही आग के संपर्क में आया पूरा कमरा जल गया। आचानक से पूरा कमरे में आग हो गया। छात्रों को भागने का मौका भी नहीं मिला। आग लगते ही कमरे में रखा डियो का तीनों केन अचानक बम की तरह फट गया जिससे आग और तेज हो गई।

गैस की आग में झुलसे छात्र
पुलिस की जांच में जो बात सामने आई है उस हिसाब से डियो से निकले गैस से ही आग लगी है। कमरे में जितनी गैस फैली थी उतने क्षेत्र में आग लग गई। कमरे में केवल धुएं का निशान रह गया। गैस सिलेंडर को मकान मालिक के बच्चों ने बुझा लिया था। अगर सिलेंडर को बंद नहीं किया गया होता तो और बड़ी घटना हो सकती थी। पुलिस का भी कहना है कि मकान मालिक के परिवार ने काफी बहादुरी दिखाई है। 

मकान मालिक के बच्चों ने बचाया 
बम धमाके की आवाज सुनते ही मकान मालिक के दोनों बेटे कमरे में पहुंच गए। आग की लपट देखकर वह भी डर गए। तीनों छात्र झुलसे हुए थे। इसमें एक ने आग बुझाने के लिए शरीर पर पानी डाल लिया जिससे उसकी हालत और गंभीर हो गई। मकान मालिक के बच्चों ने तीनों झुलसे छात्रों को आनन-फानन में पटना मेडिकल कॉलेज पहुंचाया। तीनों को पटना मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया। सूचना मिलते ही छात्रों के परिजन पटना पहुंच गए और पटना मेडिकल कॉलेज से उन्हें निजी अस्पताल में भर्ती कराया।  

सिलेंडर फटने की सूचना थी, लेकिन जांच में आग डियो के गैस से लगने की बात सामने आई है। मकान मालिक के परिजनों की सूझबूझ से सिलेंडर फटने से बच गया। 
- रवि शंकर सिंह, थानाध्यक्ष बुद्धा कॉलोनी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Dio gas spill in room three students scorched