DA Image
26 जनवरी, 2020|5:32|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छोटे सरकार पर बड़ी धारा में हुआ केस दर्ज

अनंत सिंह आतंकवादी घोषित हो सकते हैं। सेना के अधिकारी जांच में जुट गए हैं। केंद्रीय एजेंसियों के साथ सेना की जांच में एके 47 और हैंड ग्रेनेड सेना से जोड़े जा रहे हैं। जांच एजेंसियों को इसका साक्ष्य मिला तो विधायक पर शिकंजा सबूत के साथ कस जाएगा। हालांकि जांच पूरी होने तक कोई भी अधिकारी मुंह खोलने को तैयार नहीं है। सूत्रों की मानें तो पुलिस ने अनंत सिंह के खिलाफ कई ठोस सबूत भी जुटा लिये हंै। ऐसे ही सबूतों के आधार पर पुलिस शनिवार को गिरफ्तारी के प्रयास में जुटी रही। पूरे दिन पुलिस न्यायालय के चक्‍कर काटती रही। वहीं दूसरी तरफ न्यायालय के आदेश के बाद पुलिस हैंड ग्रेनेड को बम निरोधी दस्ता के सहयोग से नष्ट कराने में लगी है। 

अनंत सिंह कीहर आपराधिक हरकत का सामाना करने में पुलिस जुटी हुई है। सूत्रों की मानें तो अनंत सिंह के घर से पुलिस की छापेमारी में बरामद एके- 47 और हैंड ग्रेनेड की जांच में सेना के अधिकारी जुटे हैं। बरामद एके-47 और ग्रेनेड को जबलपुर ऑर्डिनेंस फैक्ट्री से चोरी हुए सेना के असलहों से जोड़ा जा रहा है। हालांकि इसकी आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं हुई है। इसकी जांच के लिए सेना के तकनीकी विशेषज्ञों को लगाया गया है। कई बिंदुओं पर जांच जारी है। एके 47 व 36 हैंड ग्रेनेड कैसे अनंत सिंह तक पहुंचे इसका राज खंगाला जा रहा है। 

एजेंसियों के रडार पर अनंत 
एनआईए ही नहीं, अन्य जांच एजेंसियों के भी रडार पर अनंत हैं। यूएपीए की धारा लगने के बाद से ही उनकी गतिविधियों की जांच शुरू हो गई है। अनंत सिंह के घर से बरामद एके 47 , 36 हैंड ग्रेनेड, 27 कारतूस के बाद भी अग्नेयास्त्र बरामद किया जा सकता है। पुलिस की टीम और जांच एजेंसियां इसके लिए गोपनीय तरीके से लगी हैं। शनिवार को इस घटना का तार मध्य प्रदेश के जबलपुर ऑर्डिनेंस फैक्ट्री से इन अग्नेयास्त्रों से जुड़ने के कारण चर्चा में रहा, लेकिन अधिकारी जांच पूरी होने तक चुप्पी साधे हैं। अनंत सिंह के खिलाफ पटना के बाढ़ थाना में आर्म्स एक्ट, गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (यूपीए) और विस्फोटक अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। 

क्या है यूएपीए कानून   
यूएपीए बिल को मंजूरी मिलने के बाद आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने वाले, उनकी मदद करने वाले, उन्हें पैसे मुहैया कराने वाले और उनका प्रचार करने वालों के खिलाफ सख्त प्रावधान किए गए हैं। आतंकी गतिविधियों में शामिल व्यक्ति विशेष को भी आतंकवादी करार देने और उस पर प्रतिबंध लगाने से संबंधित विधेयक पारित किया गया है। विधि विरुद्ध क्रियाकलाप निवारण संशोधन (यूएपीए) विधेयक- 2019 को आतंकवाद-निरोधी विधेयक के रूप में जाना जा रहा है। 

पुलिस ने कर ली है पूरी तैयारी 
सूत्रों की मानें तो पुलिस ने अनंत सिंह की गिरफ्तारी को लेकर पूरी तैयारी कर ली है। शनिवार को पुलिस को पूरी तरह से सक्रिय करके रखा गया था। निर्णय होने के बाद उन्हें गिरफ्तार करने के लिए पूरी फौज तैयार कर ली गई थी। पुलिस अब आदेश के इंतजार में थी। सूत्रों की मानें तो 24 से 36 घंटे में अनंत सिंह की गिरफ्तारी हो सकती है। इस  कार्रवाई के बाद पुलिस को बड़ा खुलासा कर सकती है।

पुलिस ने की पूछताछ 
विधायक अनंत सिंह के घर की देखरेख करने वाले सुनील राम से पुलिस ने पूछताछ के बाद उसे जेल भेज दिया है। बाढ़ के नदवां गांव में अनंत सिंह के घर पर छापेमारी के दौरान ही उसे हिरासत में ले लिया गया था। पुलिस का कहना है कि बरामद हथियार और हैंड ग्रेनेड में अनंत सिंह के साथ सुनील भी नामजद है। पुलिस ने गांव वालों से भी पूछताछ की है। ग्रामीण एसपी के अनुसार पूछताछ में पता चला है कि अनंत सिंह बीच—बीच में अपने घर आते थे। 

जांच में खुलेगा राज 
एके 47 और हैंड ग्रेनेड की बरामदगी के बाद पुलिस भी पूरी तरह से सक्रिय है। बाढ़ से लेकर पटना तक अनंत सिंह पर पूरी तरह से खुफिया नजर रखी जा रही है। सूत्रों की मानें तो एके 47 और हैंड ग्रेनेड से जुड़े खुलासे के बाद इस मामले में एनआईए की भी कार्रवाई हो सकती है। सूत्रों का कहना है कि एनआईए की जांच में मामला आतंवाद से जुड़ सकता है। हालांकि पुलिस ने जो धारा लगाई है यह साधारण नहीं है। 

जांच चल रही है। पटना पुलिस केंद्रीय जांच एजेंसियों के भी संपर्क में है। एके-47 कहां की है इसकी भी जांच चल रही है। जहां से एके-47 हथियारों की चोरी हुई है, वहां पटना पुलिस बात करने में जुटी है। 
- केके मिश्रा, एसपी ग्रामीण

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Case filed in big section on Mokama MLA Anant Singh