DA Image
1 जनवरी, 2021|2:57|IST

अगली स्टोरी

हिन्दुस्तान मिशन शक्ति : अनाथ बच्चों को काबिल बना रहीं खीरी की रीता

हिन्दुस्तान मिशन शक्ति : अनाथ बच्चों को काबिल बना रहीं खीरी की रीता

1 / 3शहर में रहने वाली रीता सक्सेना ने पति के निधन के बाद भी हिम्मत नहीं हारी। उनके सामने दो बच्चों को पालने की जिम्मेदारी थी। उन्होंने शिक्षण का पेशा...

हिन्दुस्तान मिशन शक्ति : अनाथ बच्चों को काबिल बना रहीं खीरी की रीता

2 / 3शहर में रहने वाली रीता सक्सेना ने पति के निधन के बाद भी हिम्मत नहीं हारी। उनके सामने दो बच्चों को पालने की जिम्मेदारी थी। उन्होंने शिक्षण का पेशा...

हिन्दुस्तान मिशन शक्ति : अनाथ बच्चों को काबिल बना रहीं खीरी की रीता

3 / 3शहर में रहने वाली रीता सक्सेना ने पति के निधन के बाद भी हिम्मत नहीं हारी। उनके सामने दो बच्चों को पालने की जिम्मेदारी थी। उन्होंने शिक्षण का पेशा...

PreviousNext

लखीमपुर-खीरी। शहर में रहने वाली रीता सक्सेना ने पति के निधन के बाद भी हिम्मत नहीं हारी। उनके सामने दो बच्चों को पालने की जिम्मेदारी थी। उन्होंने शिक्षण का पेशा अपनाया। पर वह किसी आम बच्चे को नहीं, कुछ खास बच्चों को पढ़ा रही हैं। जिन बच्चों को उनके मां-बाप भी पालने-पोसने, पढ़ाने को तैयार नहीं होते, रीता की शिक्षा उनको समर्पित है। वह खुला आश्रय गृह के बच्चों को पढ़ा रही हैं। उनकी पढ़ाई की वजह से अब वे बच्चे भी मुख्यधारा में लौटने लगे हैं।

बच्चियों की जिंदगी में रोशनी लौटा रहीं प्रियंका

लखीमपुर-खीरी। लखीमपुर शहर की प्रियंका बच्चियों को कम उम्र में शादी की बेड़ियों से बचा रही हैं। एक साल में वह 25 बेटियों को कम उम्र में शादी से बचाकर स्कूल, कॉलेज की दहलीज तक ले गईं। वह बताती हैं कि एक दिन उनको मालूम चला कि 15 साल की एक बच्ची की गलत उम्र बताकर उसकी शादी की जा रही थी। प्रियंका ने पुलिस को खबर दी। पुलिस ने मौके पर जाकर पड़ताल की तो पता चला कि बच्ची नाबालिग थी। प्रियंका के कहने पर पिता ने लिखित दिया कि वह बच्ची की शादी नहीं करेगा, पढ़ाएगा। वह बच्ची अब स्नातक कर रही है।

शिक्षा ही नहीं, समाजसेवा की मिसाल

लखीमपुर-खीरी। अर्जुनपुरवा की रहने वाली रुचि वाजपेयी ने शिक्षा को समाजसेवा से जोड़ दिया। उन्होंने सैनिकों, पुलिसकर्मियों, गरीबों के बच्चों की पढ़ाई का इंतजाम किया। यही नहीं, उन्होंने पिछड़े क्षेत्र की बेटियों को पढ़ाने के लिए बिटिया फाउंडेशन बनाया। वह इस फाउंडेशन के जरिए उन बेटियों को आगे पढ़ाती हैं, जिनके मां-बाप भी इसके काबिल नहीं होते। फाउंडेशन के जरिए वह 200 से ज्यादा बेटियों को इंटर व स्नातक करा चुकी हैं। उनकी फीस से लेकर अन्य जरूरतों का जिम्मा उन्होंने उठाया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Hindustan Mission Shakti Kheer Rita making orphans capable