फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News हिन्दुस्तान मिशन शक्ति झांसीललितपुर में आशा कार्यकत्रियां बता रहीं मच्छरजनित बीमारियों से बचाव के ऊपाय

ललितपुर में आशा कार्यकत्रियां बता रहीं मच्छरजनित बीमारियों से बचाव के ऊपाय

ललितपुर। संचारी रोग नियंत्रण के अंतर्गत संचालित दस्तक अभियान के तहत आशा कार्यकत्रियां घर-घर...

ललितपुर में आशा कार्यकत्रियां बता रहीं मच्छरजनित बीमारियों से बचाव के ऊपाय
default image
हिन्दुस्तान टीम,झांसीSat, 30 Jul 2022 11:20 PM
ऐप पर पढ़ें

ललितपुर। संचारी रोग नियंत्रण के अंतर्गत संचालित दस्तक अभियान के तहत आशा कार्यकत्रियां घर-घर जाकर ग्रामीणों को पोस्टर, पंफलेट बांट जागरुक कर रही हैं। इनको दरवाजों व दीवारों पर चस्पा भी किया जा रहा है। 1.89 लाख के सापेक्ष अब तक 1.10 लाख घरों तक स्वास्थ्य विभाग की टीमें पहुंच चुकी हैं।

मच्छरजनित बीमारियों की रोकथाम के लिए विभिन्न उपाय किए जा रहे हैं। पोस्टर, पंपलेट के माध्यम से लोगों को जागरुक कर जन समुदाय की भागीदारी बढ़ाने का प्रयास जारी है। आशा कार्यकर्ता घर-घर पहुंचकर मच्छरजनित बीमारियों से बचाव के उपाय बता रहीं हैं। मच्छरों के लार्वा को नष्ट करने के लिए जगह-जगह दवा का छिड़काव किया जा रहा है। इस कार्य में स्वास्थ्य विभाग की टीम महत्वपूर्ण भूमिका निभाने में जुटी है। ग्रामीण क्षेत्रों में दो स्थानों पर मच्छर का लार्वा पाया गया है, जिसे नष्ट किया गया। मलेरिया निरीक्षक हरीशचंद्र नामदेव के नेतृत्व में ग्राम दैलवारा, खोखरा में पहुंचकर कूलर तथा बाथरूम में पानी से भरे बर्तनों में लार्वा का सर्वे किया गया था। सीएमओ डा. जेएस बक्शी ने बताया कि स्वच्छता के अभाव में मच्छर पनपते हैं। जो बीमारी का कारण बनते हैं। इन मच्छरों के काटने से डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया जैसी बीमारी होती हैं। इसे ध्यान में रखते हुए संचारी रोग नियंत्रण अभियान चलाया जा रहा है। इस दौरान पूरी आस्तीन के कपड़े पहनने, मच्छरदानी का इस्तेमाल करने, पानी की बाल्टियों व टंकियों को ढ़ककर रखने, कूलर की नियमित सफाई करने, छत, बरामदों में पड़े पुराने टायरों, खाली डिब्बो में पानी इकट्ठा नहीं होने देने की सलाह दी जा रही है। ग्राम खोखरा में नालियों में दवा का छिड़काव किया गया। जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. एमसी पाल ने बताया कि घर के आसपास जलभराव न होने दें। तेज बुखार आने पर जांच कराकर अस्पताल से समुचित उपचार लें। सुबह-शाम खिड़की दरवाजे से मच्छर अंदर प्रवेश कर जाते हैं। इस दौरान या तो दरवाजा, खिड़की बंद रखे या फिर उनमें जाली लगवाएं। शर्ट फुल आस्तीन की पहने, जिससे कि मच्छर न काट पाए।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।