DA Image
24 जनवरी, 2021|4:38|IST

अगली स्टोरी

हिन्दुस्तान मिशन शक्ति : प्रतिकूल परिस्थितियों में भी न डिगने पाए हौसला

हिन्दुस्तान मिशन शक्ति : प्रतिकूल परिस्थितियों में भी न डिगने पाए हौसला

गोरखपुर | हिन्दुस्तान टीम

परिस्थियां कैसी भी हों, जरूरत है दृढ़ आत्मविश्वास और हौसले की। जिस दिन बेटियां अच्छी शिक्षा हासिल कर स्वावलंबी बन परिस्थितियों से लड़ना सीख जाएंगी, सफलता उनके कदम चूमेगी। मिशन शक्ति का यह आगाज बेटियों की झिझक तोड़ने और उन्हें मजबूत बनाने के लिए ही है।

ये बातें 'हिन्दुस्तान' मिशन शक्ति कार्यक्रम के तहत शुक्रवार को चंपा देवी राजकीय कन्या इंटर कॉलेज हरनहीं में आयोजित स्कूल संवाद के दौरान विशेषज्ञों ने कहीं। कॉलेज की प्रवक्ता पुष्पा देवी ने कहा कि वर्तमान परिवेश में बेटों के मुकाबले बेटियां अव्वल हैं। सरकार भी बेटियों के जज्बे को मुकाम दिलाना चाहती है। शिक्षिका शशिकला सिंह ने कहा कि बेटियों को आत्मनिर्भर बनने की जरूरत है। ऐसे में वह अपने हक व अधिकार को जानकर वह आगे की ओर अग्रसर हों। चौकी प्रभारी हरनहीं महुराव सुनील कुमार मौर्य ने वीमेन हेल्पलाइन 1090 के बारे में बताते हुए कहा कि अब बेटियों को स्कूल आते-जाते समय डरने की जरूरत नहीं है। बेटियां खुद अपनी सुरक्षा कर सकती हैं। आवश्यता है तो दृढ़ आत्मविश्वास की।

चौकी प्रभारी ने डायल 112, 1076 और 1098 के बारे में बताते हुए बेटियों को आत्मरक्षा का पाठ पढ़ाया। कहा कि अगर रास्ते में कुछ असामाजिक तत्व किसी प्रकार परेशान कर रहे हों तो डरने और झुकने की जरूरत नहीं है। आप इन हेल्पलाइन पर फोन करें खुद की सुरक्षा के साथ ऐसे लोगों को लॉकअप के अंदर पाएंगी। शिक्षिका साधना त्रिपाठी, गीता सिंह, लेखाकार शैलेंद्र कुमार गुप्ता, सहायक शिक्षक रामभेज और कार्यालय प्रभारी राजन कुमार ने भी बेटियों को आत्मरक्षा व आत्मनिर्भरता के लिए आगे बढ़ने को प्रेरित किया।

शख्सियतों की सलाह

अपने सुनहरे भविष्य के लिए बेटियों को खुद आगे बढ़ना होगा। अच्छी शिक्षा हासिल करें। निश्चित रूप से वे हर कठिनाइयों पर विजय प्राप्त करेंगी।

- विनीता गौड़, प्रधानाचार्या, चंपा देवी राजकीय कन्या इंटर कॉलेज

समय बदल रहा है। बेटियां बेटों पर भारी हैं। उन्हें अपने अधिकार को समझने की जरूरत है। सरकार बेटियों की मदद को तैयार है।

- डॉ. गायत्री सिंह, महिला चिकित्सक, पीएचसी खजनी

झिझक तोड़कर बेटियों को सामने आने की जरूरत है। चाहे शिक्षा के मामले में हो या फिर आत्मनिर्भर बनने के, बेटियां हर क्षेत्र में हो अपनी लगन व मेहनत की बदौलत अच्छे से अच्छा मुकाम हासिल कर सकती हैं। माता पिता को भी बेटियों के करियर में मदद करनी होगी।

- डॉ. त्रिवेणी प्रसाद, आयुष चिकित्सक, खजनी

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Hindustan Mission Shakti Not to be deterred even under adverse conditions