DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   हिन्दुस्तान सिटी  ›  दिल्ली का असली मजा सर्दियों में लिया है : श्रिया पिलगांवकर

हिन्दुस्तान सिटीदिल्ली का असली मजा सर्दियों में लिया है : श्रिया पिलगांवकर

अंकिता बंगवाल,नई दिल्ली Published By: Amit
Fri, 06 Mar 2020 07:33 PM
दिल्ली का असली मजा सर्दियों में लिया है : श्रिया पिलगांवकर

ज्यादातर लोग उन्हें वेब शो ‘मिर्जापुर’ की स्वीटी गुप्ता के नाम से जानते हैं। स्वीटी यानी अभिनेत्री श्रिया पिलगांवकर अपनी अगामी फिल्म ‘हाथी मेरे साथी’ में जल्द ही नजर आएंगी। अपनी इस फिल्म को लेकर श्रिया काफी उत्साहित हैं। उनका कहना है, ‘मैं इस फिल्म से दो अलग-अलग भाषाओं में डेब्यू कर रही हूं। हिंदी के साथ-साथ यह फिल्म तेलुगू और तमिल में भी रिलीज होगी, जिसके लिए मैं बहुत उत्साहित हूं। तीन भाषाओं में फिल्म होने की वजह से यह मेरे लिए चुनौतीपूर्ण भी था, क्योंकि सारे सीन हमें तीनों भाषाओं में भी करने पड़े।’
फिल्म में वह एक पत्रकार की भूमिका में दिखेंगी। हालांकि इससे पहले भी वह एक वेब फिल्म ‘हाउस अरेस्ट’ में पत्रकार की भूमिका निभा चुकी हैं।  तो यह किरदार किस तरह से अलग है, यह पूछने पर उन्होंने बताया, ‘अगर मैं अपने किरदार की बात करूं तो इसमें मैं एक न्यूज रिपोर्टर अरुंधति की भूमिका में नजर आऊंगी, जो अपने काम को लेकर सजग है और जो सिर्फ सच के मार्ग पर चलकर ही काम करती है। वहीं ‘हाउस अरेस्ट’ में मेरा किरदार एक फ्रीलांस पत्रकार का था, जो कल्चरल बीट पर लिखती थी।’
फिल्म ‘हाथी मेरे साथी’ में वह अभिनेता राणा दग्गुबाती के साथ नजर आएंगी। राणा के साथ काम करने के अपने अनुभव को वह साझा करती हैं, ‘राणा के साथ काम करना वाकई शानदार था। वह अनुभवी हैं। मुझे उनसे कई सारी चीजें सीखने का मौका मिला।’ श्रिया ने एक एक्टर के रूप में थियेटर से अपने करियर की शुरुआत की थी। उनका कहना है कि वह शुक्रगुजार हैं कि उन्होंने अपने करियर की पहली सीढ़ी थियेटर को बनाया। उन्होंने कहा, ‘थियेटर ने मेरी स्किल्स को बेहतर बनाने का काम किया है। मैंने यहां से बहुत कुछ सीखा है। मैंने दिल्ली में कई नाटक किए हैं। हालांकि अब उतना वक्त नहीं मिल पाता। थियेटर एक अच्छी लर्निंग है। हमें थियेटर को जरूर बढ़ावा देना चाहिए।’ चूंकि श्रिया दिल्ली भी कई बार आई हैं, तो यहां से जुड़ी उनकी कुछ मीठी यादों के बारे में उनसे पूछने पर वह बताती हैं, ‘मैं सर्दियों के मौसम में ही दिल्ली आई हूं, तो इसलिए यहां की सर्दियां मुझे भाती हैं। यहां बंगाली मार्केट जाकर हम दोस्त गोलगप्पे खाया करते थे। मौसम का असली मजा यहां सर्दियों में ही आता है। सर्दियों में खिली-खिली धूप बहुत अच्छी लगती है। इस खूबसूरत शहर की मेरी अच्छी यादें यहां के मौसम व अच्छे खान-पान से जुड़ी हैं।’

संबंधित खबरें