mission mangal is based on women scientist success - महिला वैज्ञानिकों की सफलता का जश्न होगा 'मिशन मंगल' DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महिला वैज्ञानिकों की सफलता का जश्न होगा 'मिशन मंगल' 

अब तो ऐसा लगने लगा है कि अभिनेता अक्षय कुमार का पूरा नाम ‘अक्षय सार्थक सिनेमा कुमार’ होना चाहिए। जिस तरह वह फिल्म-दर-फिल्म मनोरंजन की माला में सामाजिक संदेश  पिरो कर पेश कर रहे हैं, वह वाकई काबिलेतारीफ है।  उनकी अदाकारी वाली फिल्मों की फेहरिस्त में सिर्फ सामाजिक मुद्दों पर बनी  ‘टॉयलेट: एक प्रेम कथा’ (2017) और ‘पैडमैन’ (2018) जैसी कहानियां ही नहीं हैं, बल्कि ‘एयरलिफ्ट’ (2016), ‘रुस्तम’ (2016) और केसरी (2019) जैसी समाज के असली नायकों की बहादुरी से भरी कहानियां भी हैं। उनकी अगली फिल्म ‘मिशन मंगल’ है, जो देश की महिला वैज्ञानिकों के जज्बे और उपलब्धियों का जश्न मनाती नजर आएगी। 

अक्षय कहते हैं,‘इस तरह की फिल्में मुझे बहुत प्रेरित करती हैं। ‘मिशन मंगल’ एक असल घटनाक्रम से प्रेरित शानदार कहानी है।’ 
अक्षय इस फिल्म में ‘भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन’ (इसरो) के एक वरिष्ठ वैज्ञानिक की भूमिका निभा रहे हैं। एक ऐसे वैज्ञानिक की भूमिका, जिन्होंने ‘मार्स ऑर्बिटर मिशन’ (मॉम) नामक अहम प्रोजेक्ट पर काम किया था।

बीते मंगलवार को फिल्म का टीजर रिलीज हुआ, जिसे काफी शानदार प्रतिक्रिया मिली । अक्षय समझते हैं कि यह समय ऐसी अद्भुत कहानियों को दिखाने का है। वह बताते हैं, ‘कुछ ही लोग जानते हैं कि नासा ने मार्स पर लगभग छह हजार करोड़ की सैटेलाइट भेजी थी और इसरो ने यह काम 450 करोड़ में कर दिखाया। आप खुद इस फर्क का अंदाजा लगा सकते हैं। यहां के काबिल वैज्ञानिकों ने थोड़ी सी समझदारी की बदौलत कितने पैसे बचा लिए! मुझे तो इस बात पर हैरत हुई कि इतनी शानदार कहानी पर अब तक कोई फिल्म भला क्यों नहीं बनी? मैं इस कहानी को जल्द से जल्द आम लोगों तक पहुंचाना चाहता हूं। यही वजह है कि मैं इस फिल्म के साथ जुड़ा।’

अक्षय वैज्ञानिकों की तारीफ करते हुए आगे कहते हैं,‘यह कारनामा इसरो में काम करने वाले 17-18 हजार इंजीनियर्स और वैज्ञानिकों ने किया। महिला वैज्ञानिकों की इतनी सारी वास्तविक कहानियों को सुनते हुए मुझे आश्चर्यजनक लगा कि वे काम के दौरान भी अपने परिवार को 
इतने व्यवस्थित तरीके से संभालती हैं। इसलिए इस फिल्म के जरिये मैं उन्हें बताना चाहता हूं कि वे कितनी महान हैं। यह फिल्म उन पांच महिलाओं की कहानी है, जिनके किरदारों को रुपहले परदे पर विद्या बालन, सोनाक्षी सिन्हा, तापसी पन्नू, कीर्ति कुल्हारी और नित्या मेनन निभाती हुई नजर आएंगी। यह पूरी तरह से उनकी फिल्म है।’

हर तरह के रोल करना चाहती हैं सयानी गुप्ता

Taapsee Pannu करना चाहती हैं इस क्रिकेटर की बायोपिक में काम, बताई ये दिलचस्प वजह

पिछले हफ्ते फिल्म का पोस्टर सोशल मीडिया में जारी करते हुए अक्षय ने लिखा था,‘एक फिल्म जो मैंने विशेष रूप से अपनी बेटी और उसकी उम्र के बच्चों के लिए की, जो उन्हें मंगल ग्रह संबंधी भारत के मिशन की अविश्वसनीय रूप से सच्ची कहानी से परिचित करवाएगी।’
फिल्म बनाते हुए उनके दिमाग में क्या चल रहा था, उसे याद करते हुए अक्षय लिखते हैं,‘भारत के युवा बहुत बुद्धिमान हैं। हम सारे काम जुगाड़ से कर लेते हैं।’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:mission mangal is based on women scientist success