huma qureshi says her passion help us to become an actor - हुमा कुरैशी बोलीं-जुनून ने बनाया है मुझे एक्टर DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हुमा कुरैशी बोलीं-जुनून ने बनाया है मुझे एक्टर

बॉलीवुड अभिनेत्री हुमा कुरैशी फिल्मों में हमेशा अपने अलग किरदार को लेकर चर्चा में रहती हैं। फिल्म गैंग्स ऑफ वासेपुर (2012) में निभाए उनके मजबूत किरदार से आप परिचित ही होंगे। इस फिल्म से अपने करियर की शुरुआत करने वाली हुमा ने शुरू से ही ऑफबीट लाइन को चुना और वह काफी हद तक अपनी अलग पहचान बनाने में कामयाब भी रहीं। शुरू से ही कमर्शियल फिल्मों के पीछे न भागकर हुमा ने अलग तरह के सिनेमा की तरफ ध्यान दिया और डेढ़ इश्किया (2014), बदलापुर (2015) और जॉली एलएलबी-2 (2017) जैसी स्वच्छंद फिल्मों में काम किया। हुमा ऐसी फिल्में ही क्यों चुनती हैं, क्या उनके लिए असरदार किरदार मिलना मुश्किल है? इस सवाल पर हुमा कहती हैं, 'इस तरह की फिल्मों में मैं बेहतर कर रही हूं। मेरे कई साथियों को दिलचस्प काम मिल रहा है। लेकिन जिस तरह का काम मैं करती हूं, उसको लेकर मैं थोड़ा सजग रहती हूं। मुझे लगता है कि मैं अपने शौक की वजह से एक्टिंग कर रही हूं, न कि अपनी रोजी-रोटी चलाने के लिए।' 

यह पूछने पर कि वह फिल्म चयन करने पर क्या देखती हैं, तो वह बताती हैं, 'जिन फिल्मों में विश्वास नहीं करती या जिनका हिस्सा बनकर मुझे खुशी न मिले, उससे अच्छा है कि मैं किसी इवेंट का हिस्सा बनूं।' हुमा के लिए किरदार दमदार होना चाहिए, चाहे फिल्म में उसका रोल छोटा ही क्यों न हो। हुमा भी मानती हैं कि बॉलीवुड में कंटेंट बिक रहा है। आज कंटेंट से प्रेरित फिल्मों ने रफ्तार पकड़ी है। अब स्टार्स और निर्माण से ज्यादा ध्यान अच्छे कंटेंट पर दिया जा रहा है।'

वह आगे कहती हैं, 'हम सबको अच्छी कहानियां पसंद आती हैं। खुद ही आज की फिल्मों को देखिए, आज कंटेंट बिकता है, नाम नहीं। बीता साल इस बात का गवाह रहा है कि अब फिल्मों में कंटेंट अच्छा होना जरूरी है। यह समय मजबूत कंटेंट का है, बड़े नामों का नहीं। आज की कहानियों का हिस्सा बनना मेरे लिए खुशी की बात है।'
फिलहाल हुमा अपनी वेब सीरीज को लेकर चर्चा में हैं। वे कहती हैं, 'इस तरह के काम से जुड़ना या इस तरह की फिल्मों से ही एक एक्टर भीड़ से अलग दिखता है। यह एक अलग क्षेत्र है। वेब में आप कोई भी कहानी, कोई भी स्क्रिप्ट बोलते हुए बहुत सोचते हैं। इस तरह के फॉर्मेट में काम करना बहुत सुकून देता है। इस वजह से मैं मानती हूं कि न सिर्फ भारत में, बल्कि विश्व स्तर पर भी कंटेंट पर काम किया जाता है और उसे तवज्जो मिलती है।'

तो इसलिए रकुल प्रीत को बॉलीवुड में एडजस्ट करने में लगा समय

तो क्या हर एक्टर को वेब माध्यम को खुले दिल से स्वीकार करना चाहिए या यह सिर्फ कुछ दिनों की खुमारी है?  इस पर हुमा कहती हैं, 'विश्व स्तर पर हर एक्टर इससे जुड़ रहा है। इस माध्यम की पहुंच वहां तक है, जहां एक फिल्म के लिए सोच पाना भी मुश्किल है। जहां एक फिल्म की पहुंच सीमित होती है, वहीं वेब माध्यम की कोई सीमा नहीं है! आप रचनात्मक रूप से समझौता किए बिना किसी भी कहानी को इस माध्यम से बता सकते हैं।'

अगर आप हैं प्रिंयका चोपड़ा के बड़े फैन, तो दें इन सवालों का सही जवाब

Quiz Closed

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:huma qureshi says her passion help us to become an actor