DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्या आपने खरीदा बेल्ट बैग

कहते हैं, कोई भी फैशन कभी पुराना नहीं होता। आज कोई ट्रेंड है तो कुछ समय बाद बदल जाएगा। फैशन हमेशा बदलता रहता है लेकिन पुराना फिर चलन में लौटता भी है। एक जमाना था जब अमिताभ बच्चन सरीखे स्टार्स की बेलबॉटम पैंट चलन में थी और तब आम लोगों ने भी इस फैशन को अपनाया।  80 और 90 के दशक के कुछ फैशन ट्रेंड ऐसे हैं, जो चलन से बाहर हो नहीं सकते। अब आप बेल्ट बैग को ही ले लीजिए! न हाथ में पकड़ने की कवायद और न कंधे से लटकाने का झंझट! 
यह हैंड्सफ्री एक्सेसरी एक समय में पयर्टकों को खूब भाती थी, लेकिन अब फैशन लेबल्स भी इसे तवज्जो दे रहे हैं और इसमें नए-नए प्रयोग कर रहे हैं। एलेजेंडर वांग, शनैल, गुची, डिऑर, प्राडा, वॉन्डलर और अन्य कई बड़े फैशन हाउस इसे अपने स्टाइल और अलग-अलग वर्जन के साथ पेश कर रहे हैं।  बल्कि बात अगर बॉलीवुड की जाए, तो ये बैग्स यहां भी चलन में दिखाई दे रहे हैं। बॉलीवुड की चंद फैशनपरस्त अभिनेत्रियां श्रद्धा कपूर, सोनाक्षी सिन्हा, कियारा आडवाणी, सोनाली बेंद्रे, शिल्पा शेट्टी कुंद्रा जैसी कई अदाकारा अक्सर इन बैग्स को कैरी करती दिखती हैं।
   बड़े ब्रैंड्स से लेकर स्ट्रीट फैशन तक टीनएजर्स को यह फैशन खूब लुभा रहा है। नई जनेरेशन की अनन्या पांडे और सुहाना खान जैसी अभिनेत्रियां इसका बड़ा उदाहरण हैं, जो इन बैग्स के साथ अकसर दिखती हैं।
   लेकिन यह फैशन ट्रेंड कितना सही या गलत है, यह तो डिजाइनर्स ही बता सकते हैं। इस सवाल पर कि क्या यह माइक्रो ट्रेंड कुछ ही समय तक रहेगा या लंबे समय तक  बना रहेगा, जवाब देते हुए डिजाइनर अनुपमा दयाल कहती हैं,‘जब आप कहीं यात्रा कर रहे हैं या बाहर जा रहे  हैं तो यह बैग बहुत अच्छा विकल्प है। इसमें आप अपनी जरूरत की हर चीज रख सकते हैं और आपको अलग से कोई दूसरा बैग रखने की जरूरत नहीं पड़ती। लेकिन एक डिजाइनर के तौर पर मुझे इसमें कुछ मुश्किलें भी नजर आती हैं। यह उन महिलाओं के लिए बहुत उपयोगी हो सकता है, जो थोड़ी लंबी हों और जिनकी कमर पतली हो लेकिन सभी भारतीय महिलाएं वैसी नहीं होतीं। तो यह किसी पर अच्छा और किसी पर खराब दिख सकता है। यह एयरपोर्ट लुक के लिए सही चयन है, लेकिन लेकिन आप इसे किसी दूसरी तरह से नहीं पहन सकते, क्योंकि यह आपकी पोशाक और अन्य एक्सेसरीज के साथ कुछ खास नहीं जमेगा।’
डिजाइनर आनंद भूषण की नजर में तो बेल्ट बैग व्यर्थ की चीज है। वह कहते हैं, ‘न यह पहले कभी चले थे, न आज चलन में हैं। जिस तरह से इन बैग्स को पेयर किया जाता है, उससे आपका क्लासिक स्टाइल ही खत्म हो जाता है। यह आपके लुक के साथ खिलवाड़ करता है। चाहे एक आम स्नीकर्स के साथ आप इसे कैरी करें या पुल्ड बैक हेयर लुक के साथ, या चाहे किसी ड्रेस के साथ लें, यह आपके लुक को बिगाड़ देता है। यह सिर्फ 90 के दशक में कुछ लोगों के लिए ही काम का था। इसलिए मेरे लिए तो इसका कोई मतलब नहीं है और मैं नहीं मानता कि इस तरह के स्टाइल को बहुत अधिक समय तक चलना चाहिए।’
हालांकि डिजाइनर नम्रता जोशीपुरा का कहना है कि यह लुक को बेहतर बनाता  है, ‘एक दशक से इन बैग्स की लोकप्रियता में इजाफा ही हुआ है। मुझे लगता यह ट्रेंड अभी कुछ और समय तक टिकेगा। हमने इसे गाउन्स, सूट्स और ड्रेसेस के साथ स्टाइल करके देखा है। मेरे ख्याल से तो यह अच्छा विकल्प है और आपके पूरे लुक में इजाफा करता है।’
रीना ढाका भी नम्रता की बात से  सहमत नजर आती हैं। वह कहती हैं, ‘हम कंधे पर बैग्स टांगकर अब थक चुके हैं। मनी बैग्स आपके सामने हैं। मेरे ख्याल से यह एक अच्छा और तार्किक आविष्कार है। यह आपके कंधे को वजन से बचाता है और आपकी हर ड्रेस के साथ अच्छा भी दिखता है, फिर चाहे आप पैंटसूट, कैजुअल या कोई भी ड्रेस पहनें, यह आपके लुक को उभारने का ही काम करता है।’
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Did you buy a belt bag