18th edition of Old World Theater Festival starts from today - समाज को आईना दिखाता ‘ओल्ड वर्ल्ड थियेटर फेस्टिवल’ DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

समाज को आईना दिखाता ‘ओल्ड वर्ल्ड थियेटर फेस्टिवल’

old world theatre festival

‘ओल्ड वर्ल्ड थियेटर फेस्टिवल’ का 18वां संस्करण नाटकों को पसंद करने वाले लोगों के लिए एक अच्छा अवसर है। अगर आप भी थियेटर के दीवाने हैं तो इंडिया हैबिटेट सेंटर में जाकर इस फेस्टिवल में प्रदर्शित होने वाले नाटकों का आनंद उठा सकते हैं। इसमें समाजिक मसलों पर सार्थक नजरिया पेश करने वाले कई बेहतरीन नाटक प्रदर्शित किए जाएंगे

सामाजिक चिंता हो या मानसिक कुंठा, थियेटर कलाकारों ने हर बार इस प्रकार की समस्याओं को नाटकों के जरिये लोगों के सामने रखने का प्रयास किया है। तभी तो थियेटर हमेशा से लोगों को जागरूक करने का माध्यम रहा है। बड़े- बड़े स्क्रीन और मूवी थियेटर आने के बाद थियेटर देखने वालों की संख्या में बेशक कमी आई है, लेकिन इसे चाहने वाले लोग हर नाटक का अब भी बेसब्री से इंतजार करते हैं। शायद यही वजह है कि दिल्ली के सबसे पुराने थियेटर फेस्टिवल में से एक के रूप में पहचाने जाने वाले ‘ओल्ड वर्ल्ड थियेटर फेस्टिवल’ का 18वां संस्करण शुरू हो रहा है। लोधी रोड स्थित इंडिया हैबिटेट सेंटर में 16 से 25 अगस्त तक आयोजित होने वाले इस थियेटर फेस्टिवल में रंगमंच के बेहतरीन निर्देशकों के नाटकों का मंचन किया जाएगा। फेस्टिवल में कई रोमांचक कहानियां देखने को मिलेंगी, जो लोगों का मनोरंजन करने के साथ ही उन्हें प्रेरित और शिक्षित करने का काम करेंगी।

फेस्टिवल की शुरुआत ‘1,2, ट्री’ नामक एक कठपुतली शो की प्रस्तुति से होगी, जिसका निर्देशन पुरस्कार प्राप्त कठपुतली निर्देशक अनुरूपा रॉय ने किया है। इस नाटक की कहानी में एक पौधा होता है, जिसे सात साल का एक लड़का पाओ और उसकी बिल्ली ब्रूस ली अपना दोस्त बना लेते हैं। आज जहां लोग पर्यावरण को अनदेखा कर रहे हैं वहां पाओ और ब्रूस ली इस पौधे की रक्षा कर पाएंगे? दूसरा नाटक ‘अनरैवेल: एन इम्प्रोव प्ले अबाउट मेंटल हेल्थ’ होगा, जिसका निर्देशन वरुण आनंद ने किया है। नाटक मानसिक स्वास्थ और स्वास्थ से जुड़ी अन्य जानकारियों तथा अनुभवों को साझा करता है। इसके अलावा फ्रांज काफ्का की रोमांचक लघुकथा पर आधारित गुरलीन जज के नाटक ‘हंगर आर्टिस्ट’ का मंचन भी होगा। तारा आर्ट्स, लंदन विलियम शेक्सपियर की कृति ‘मेकबैथ’ को मंच पर प्रस्तुत करेगा, जिसका निर्देशन जितेंद्र वर्मा ने किया है।

फेस्टिवल की वरिष्ठ निर्देशक नीलम मान सिंह  के नाटक ‘गम है’ का मंचन भी इस फेस्टिवल में होगा। इस नाटक में पिंकी नामक एक लड़की की कहानी है, जो अपने गांव से दो महीने से लापता है और इस कारण उसके परिवार और समुदाय पर गहरा प्रभाव पड़ता है। नाटक इसी प्रभाव को प्रस्तुत करता है। मशहूर रंगमंच निर्देशक सलीम आरिफ की ‘गुडंबा’ का  मंचन भी इस फेस्टिवल में किया जाएगा। इस नाटक में अभिनेत्री लुबना सलीम अभिनय करती नजर आएंगी। नाटक की कहानी एक महत्वाकांक्षी युवा लड़की के ईद-गिर्द घूमती है, जो शादी कर लेती है और सोचती है कि अब वह अपना जीवन अपने ढंग से जिएगी। पर वह एक ऐसे माहौल में आ जाती है, जहां लड़कियों को समझौते करने पड़ते हैं। नाटक की कहानी रिश्तों के खट्टे-मीठे  एहसासों को भीतर तक महसूस करने और जिंदगी को एक बेहतर अंदाज में जीने का संदेश देती है। इस फेस्टिवल का समापन मकरंद देशपांडे की  ‘पिताजी प्लीज’ की प्रस्तुति से होगा, जिसमें पिता-पुत्र के स्नेह को दर्शाया गया है।

मंचित होने वाले नाटक
1...2... ट्री 16 अगस्त शाम 7:00 बजे
हंगर आर्टिस्ट 17 अगस्त शाम 5:00 बजे
गुडंबा 19 अगस्त शाम 7:30 बजे
फकीर निमाना 21 अगस्त शाम 7:30 बजे
दोज लेफ्ट बिहाइंड 22 अगस्त शाम 7:30 बजे
जाम 23 अगस्त शाम 7:30 बजे
अंडर प्रेशर 23 अगस्त शाम 7:30 बजे
हेड टू हेड 24 अगस्त शाम 7:00 बजे
पिताजी प्लीज 21 अगस्त शाम 7:00 बजे

दिल्ली के इस सबसे पुराने थियेटर फेस्टिवल में लुबना सलीम, शिवानी टंकसले और इशिता शर्मा जैसी चर्चित अभिनेत्रियां व नामी  गीतकार और अभिनेता स्वानंद किरकिरे रंगमंच पर अपने अभिनय का जलवा बिखेरते नजर आएंगे

               

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:18th edition of Old World Theater Festival starts from today