ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News हिमाचल प्रदेश10वीं बोर्ड में 25 फीसदी से भी कम छात्र क्यों हुए पास, इस राज्य में शिक्षकों को मिला नोटिस

10वीं बोर्ड में 25 फीसदी से भी कम छात्र क्यों हुए पास, इस राज्य में शिक्षकों को मिला नोटिस

राज्य में स्कूल एजुकेश बोर्ड के 10वीं के रिजल्ट के विशलेषण पर पता चलता है कि 116 स्कूलों में 25 फीसदी से कम छात्र पास हुआ। इनमें से 30 स्कूलों में तो सभी पास होने वाले छात्रों का प्रतिशत शून्य है।

10वीं बोर्ड में 25 फीसदी से भी कम छात्र क्यों हुए पास, इस राज्य में शिक्षकों को मिला नोटिस
Nishant Nandanपीटीआई,शिमलाTue, 25 Jun 2024 04:40 PM
ऐप पर पढ़ें

हिमाचल प्रदेश में 10वीं की परीक्षा में कई छात्रों के फेल होने पर हंगामा मच गया है। राज्य की सुखविंदर सिंह सुक्खू सरकार ने अब उन शिक्षकों को नोटिस भेजने का फैसला किया है जिन स्कूलों में 10वीं की परीक्षा पास करने वाले छात्रों की संख्या काफी कम है। अधिकारियों ने मंगलवार को कहा कि हिमाचल प्रदेश बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन से संबंधित उन स्कूलों के शिक्षकों को कारण बताओ नोटिस जारी किया जाएगा जिसमें 10वीं बोर्ड की परीक्षा में पास होने वाले छात्रों की संख्या 25 प्रतिशत से कम है। यह नोटिस हिमाचल प्रदेश शिक्षा विभाग की तरफ से जारी किया जाएगा। इस नोटिस के जरिए शिक्षकों से यह पूछा जाएगा कि आखिर स्कूलों में इतना पूअर रिजल्ट क्यों आया?

एलिमेंट्री एजुकेशन के निदेशक, आशीष कोहली ने न्यूज एजेंसी 'PTI' से कहा कि हिमाचल प्रदेश स्कूल एजुकेश बोर्ड के 10वीं के रिजल्ट के विशलेषण पर पता चलता है कि 116 स्कूलों में 25 फीसदी से कम छात्र पास हुआ। इनमें से 30 स्कूलों में तो सभी पास होने वाले छात्रों का प्रतिशत शून्य है। यानी 30 स्कूलों में कोई भी छात्र 10वीं की परीक्षा में सफल नहीं हो सका। उन्होंने कहा कि शिक्षकों की पहचान की जा रही है और नोटिस उन्हें भेजा जाएगा। कोहली ने कहा, 'प्रथम चरण के तहत चेतावनी जारी करने और इंक्रीमेंट रोके जाने का प्रावधान है। एजुकेशन डायरेक्टोरेट और उप निदेशक कारण बताओ नोटिस जारी कर रहे हैं।'

उन्होंने कहा कि स्कूल में शिक्षकों द्वारा दिए जा रहे समय और कर्मचारियों की कमी को ध्यान में रखा जाएगा लेकिन लेकिन अगर किसी शिक्षक ने एक स्कूल में नौ महीने की अवधि पूरी की होगी तो उन्हें बताना होगा कि 10वीं बोर्ड का रिजल्ट इतना खराब क्यों आया?

कोहली ने कहा कि Junior Basic Training (JBT)के लिए 1,222 पदों और Trained Graduate Teacher (TGT)के लिए 1,027 पदों पर भर्तियां जल्द होगीं और इन्हें ट्रेनिंग भी दिलाई जाएगी। हालांकि, अधिकारियों का यह भी कहना है कि 10वीं बोर्ड के रिजल्ट के खराब होने के पीछे शिक्षकों की कमी, मॉनिटरिंग की कमी और 8वीं कक्षा में सभी छात्रों को प्रोमोट करने का प्रावधान भी कुछ कारण हैं।

Advertisement