ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News हिमाचल प्रदेशहिमाचल के गांव में पहली बार पहुंचा मोबाइल नेटवर्क, मोदी ने 13 मिनट बात की, बोले- पहले की सरकारें...

हिमाचल के गांव में पहली बार पहुंचा मोबाइल नेटवर्क, मोदी ने 13 मिनट बात की, बोले- पहले की सरकारें...

प्रधानमंत्री ने कहा,'कभी कोई इमरजेंसी आ गई या कठिनाई आ गई तो इस मोबाइल फोन से आप मदद भी मांग कर सकते हैं, सूचना भी दे सकते हैं।' मोबाइल नेटवर्क आने से विद्यार्थियों को बहुत लाभ होगा।

हिमाचल के गांव में पहली बार पहुंचा मोबाइल नेटवर्क, मोदी ने 13 मिनट बात की, बोले- पहले की सरकारें...
Sourabh Jainलाइव हिन्दुस्तान,शिमलाThu, 18 Apr 2024 10:36 PM
ऐप पर पढ़ें

हिमाचल प्रदेश के स्पीति का गिउ गांव हाल ही में पहली बार मोबाइल नेटवर्क से जुड़ गया, इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को उन्हें बधाई देते हुए उनसे फोन पर बात की। उनके साथ हुई करीब 13 मिनट की टेलीफोनिक बातचीत में मोदी ने दीपावली के दौरान इस क्षेत्र की अपनी यात्रा को याद किया और कहा कि गांव को मोबाइल नेटवर्क से जोड़ने से 'डिजिटल इंडिया' अभियान को गति मिलेगी। साथ ही उन्होंने बताया कि पहले की सरकारें बॉर्डर के करीबी गांवों को आखिरी गांव मानती थी।

उन्होंने कहा, 'आज का दिन डिजिटल इंडिया अभियान को और गति देने वाला है। आज लाहौल स्पिति के एक दूर सुदूर गांव गिउ (Giu) में पहली बार मोबाइल का नेटवर्क पहुंचा है। इस गांव की भौगोलिक परिस्थितियां इतनी कठिन रही है कि मोबाइल नेटवर्क पहुंचना बहुत बड़ी चुनौती था। लेकिन जब मुझे पता चला और जब मैं आपके यहां आया था, तब भी दबी जबान में लोग बता रहे थे तो मैं खुद हैरान था। लोगों को पता था कि मोबाइल फोन क्या होते हैं, लेकिन वो कनेक्टिविटी नहीं थी, तब मुझे लगा कि मैं इसके लिए जरूर कोशिश करूंगा।'

ग्रामीणों ने बताया- पहले 8 KM दूर जाना पड़ता था

ग्रामीणों से बातचीत के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि विद्युतीकरण अभ्यास में सफलता मिलने के बाद सरकार अब सभी स्थानों को संचार प्रौद्योगिकी से जोड़ने को प्राथमिकता दे रही है, उन्होंने कहा कि जब वह सत्ता में आए तो 18,000 से अधिक गांवों में बिजली की कमी थी।

बातचीत के दौरान एक ग्रामीण ने उन्हें बताया कि गांव में नेटवर्क नहीं होने पर मोबाइल का इस्तेमाल करने के लिए उन्हें गांव से 8 किलोमीटर दूर जाना पड़ता था। वहीं जब गांव वालों को पहली बार बताया गया कि उनका गांव मोबाइल नेटवर्क से जुड़ने वाला है तो एक पल के लिए उन्हें विश्वास ही नहीं हुआ और जब आखिरकार ऐसा हुआ तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा।

मोदी बोले- पहले बॉर्डर के गांवों को आखिरी गांव माना जाता था

ग्रामीणों से बातचीत के दौरान मोदी ने बताया कि 'वाइब्रेंट विलेज प्रोग्राम' के तहत सीमावर्ती क्षेत्रों में विकास को बढ़ावा देने के लिए सरकार काम कर रही है। उन्होंने कहा कि पहले की सरकारों ने इन क्षेत्रों को उनके भाग्य पर छोड़ दिया था। 

पीएम मोदी ने कहा- 'आप तो जानते ही हैं पहले की सरकारें बॉर्डर किनारे के गांवों को आखिरी गांव मानती थी, लेकिन हमारी सरकार उन्हें पहला गांव मानकर काम कर रही है। इसलिए हम बॉर्डर के किनारे बसे गांवों के विकास पर इतना जोर दे रहे हैं। पहले की सरकारों ने बॉर्डर इलाके के गांवों को उनके नसीब पर छोड़ दिया था। अब हमारी सरकार वाइब्रेंट विलेज योजना चला रही है ताकि देश के बॉर्डर किनारे बसे गांवों में भी विकास हो। और आपके यहां जो ये नेटवर्क आया है, उसका सबसे बड़ा फायदा टूरिज्म में होने वाला है।'

तीसरे कार्यकाल में क्वालिटी ऑफ लाइफ पर जोर रहेगा

बातचीत में आगे पीएम ने बताया, 'मैं आपको बताना चाहूंगा कि हमारी सरकार की प्राथमिकता ईज ऑफ लिविंग (जीवन में सुगमता) है।  और अब तीसरे कार्यकाल में हमारी सरकार 'क्वालिटी ऑफ लाइफ' (जीवन की गुणवत्ता) पर बहुत ज्यादा जोर देगी। इसका बहुत बड़ा लाभ, दूर-सुदूर इलाकों, समाज के आखिरी तबके के जो गरीब लोग हैं, हमारे मध्यम वर्ग के जो लोग हैं उन्हें मिलेगा और इनके जीवन में बहुत बड़ा बदलाव आएगा।'

स्पीति में बिताए अपने दिनों को याद किया

प्रधानमंत्री ने लाहौल स्पीति में बिताए अपने दिनों को याद करते हुए वहां के पुराने साथियों और खास सत्तू को भी याद किया। उन्होंने कहा- 'मैंने काफी समय लाहौल स्पीति में काम किया है, मैं उस समय जब संगठन का काम करता था तो इन सारे इलाकों से बहुत परिचित रहता था।  उस समय हमारे साथ एक युवराज थे जो बहुत काम करते थे हमारा। वे हमारे ट्राइबल लीडर रहे हैं, उनके अलावा अपने कशिधवा जी थे, वे भी हमारे अच्छे खासे रहे हैं, और वो सत्तू तो मैं कभी भूल ही नहीं सकता।'

पीएम बोले- एक जिला, एक उत्पाद का फायदा मिलेगा

प्रधानमंत्री ने कहा कि 'एक जिला एक उत्पाद' कार्यक्रम से भी क्षेत्र को काफी फायदा होगा। क्योंकि लाहौल स्पीति में हस्तकला की बहुत बड़ी ताकत है, यहां कि हमारी माताएं-बहनें बहुत बढ़िया चीजें बनाती हैं, तो इसका बहुत बड़ा मार्केट बनने की संभावनाएं हैं। उन्होंने ग्रामीणों से नमो एप डाउनलोड करने के लिए भी कहा। 
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें