ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News हिमाचल प्रदेशनाराज होना तो जायज; सुक्खू को नसीहत दे बागी विधायकों पर बोलीं प्रतिभा, कहा- नहीं आती ऐसी नौबत

नाराज होना तो जायज; सुक्खू को नसीहत दे बागी विधायकों पर बोलीं प्रतिभा, कहा- नहीं आती ऐसी नौबत

हिमाचल प्रदेश में सियासी संकट जारी है। इसी बीच गुरुवार को स्पीकर ने छह बागी विधायकों की विधानसभा सदस्यता रद्द कर दी। इसपर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रतिभा सिंह ने अपनी प्रतिक्रिया दी है।

नाराज होना तो जायज; सुक्खू को नसीहत दे बागी विधायकों पर बोलीं प्रतिभा, कहा- नहीं आती ऐसी नौबत
Sneha Baluniलाइव हिन्दुस्तान,शिमलाThu, 29 Feb 2024 01:10 PM
ऐप पर पढ़ें

हिमाचल प्रदेश की सियासत में भूचाल लाने वाले कांग्रेस के छह बागी विधायकों को स्पीकर कुलदीप सिंह पठानिया ने गुरुवार को अयोग्य घोषित कर दिया। इन्होंने पार्टी के व्हिप का उल्लंघन किया था। स्पीकर ने कहा कि इनपर दल बदल कानून लागू होता है। इसी वजह से तत्काल प्रभाव से इनकी सदस्यता रद्द की जाती है। वहीं इस घटनाक्रम पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रतिभा सिंह ने टिप्पटी की है। उन्होंने कहा कि आपको एक साल से ऊपर का समय हो गया है। आप उन्हें बैठाते, उनसे बात करते तो यह नौबत नहीं आती।

कांग्रेस नेता ने कहा, 'इसका लोकसभा चुनाव पर जरूर असर होगा। जब आपको एक साल से ऊपर का समय हो गया है। फइर भी आप उनकी बात नहीं सुन रहे हैं तो उनका नाराज होना एक बहुत जायज सी बात है। आप उन्हें बैठाते, उनसे बातचीत करते, कोई समाधान निकालते तो आज यह स्थिति पैदा नहीं होती। जो भी परिस्थिति आज आप देख रहे हैं। वो बातें हमने उनके सामने भी रखी हैं। अब वो क्या फैसला करते हैं वो देखते हैं। हमने उन्हें अपनी परिस्थिति को लेकर अवगत कराया है। आप देखिए की क्या कर सकते हैं।'

राज्य में पार्टी के विधायकों की नाराजगी के बारे में पूछे जाने पर प्रतिभा सिंह ने कहा, 'हमने जो भी कदम उठाया, हिमाचल प्रदेश के लोगों की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए उठाया - लोग हमसे जुड़े हुए हैं। वीरभद्र सिंह जी की विरासत सिंह हमारे साथ हैं। वह राज्य के लिए जो चाहते थे, हम उनकी किन भावनाओं का अनुसरण करते हुए आगे बढ़ रहे हैं। हमें जो भी लगता था कि वह सही नहीं है, हमने उन्हें (पार्टी आलाकमान) बार-बार अवगत कराया। हमने ये बातें उनके सामने कही हैं। कल की बैठक में भी ये बातें उनके समक्ष रखीं। हम इंतजार कर रहे हैं कि वे क्या निर्णय लेते हैं।'

किन विधायकों की खत्म हुई सदस्यता

जिन विधायकों का विधानसभा सदस्यता खत्म हुई है उनमें राजिंदर राणा, सुधीर शर्मा, इंदर दत्त लखनपाल, देविंदर कुमार भुट्टू, रवि ठाकुर और चैतन्य शर्मा शामिल हैं। पत्रकारों से बात करते हुए स्पीकर पठानिया, जिन्होंने बुधवार को विधायकों की अयोग्यता पर अपना फैसला सुरक्षित रखा था, ने कहा कि विधायकों ने कांग्रेस व्हिप की अवहेलना की जिसकी वजह से उनपर दलबदल विरोधी कानून लागू होता है। उन्होंने कांग्रेस पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ा और जीता था। स्पीकर ने कहा, 'ये छह विधायक अयोग्य हैं और तत्काल प्रभाव से हिमाचल प्रदेश विधानसभा के सदस्य नहीं रहेंगे।'

बता दें कि इन विधायकों ने मंगलवार को राज्यसभा चुनाव में पार्टी के व्हिप का उल्लंघन करते हुए बीजेपी उम्मीदवार हर्ष महाजन के पक्ष में क्रॉस वोटिंग की थी। बाद में, वे विधानसभा में बजट पर वोटिंग से भी अनुपस्थित रहे। पठानिया ने बुधवार को भीजपा के 15 भाजपा को निलंबित कर दिया था। इसके बाद सदन ने वित्त विधेयक को ध्वनि मत से पारित कर दिया। आखिर में स्पीकर ने सत्र को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें