ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News हिमाचल प्रदेशहिमाचल लोकसभा चुनाव में 68 फीसदी से ज्यादा वोटिंग, पिछली बार से कितना अंतर?

हिमाचल लोकसभा चुनाव में 68 फीसदी से ज्यादा वोटिंग, पिछली बार से कितना अंतर?

Himachal Prades Lok Sabha Elections 2024: हिमाचल प्रदेश के लोगों ने शनिवार को भीष्ण गर्मी की परवाह भी नहीं की। राज्य की चार लोकसभा सीटों पर शाम 5:30 बजे तक करीब 68 फीसदी मतदान हुआ।

हिमाचल लोकसभा चुनाव में 68 फीसदी से ज्यादा वोटिंग, पिछली बार से कितना अंतर?
Krishna Singhलाइव हिन्दुस्तान,शिमलाSat, 01 Jun 2024 08:23 PM
ऐप पर पढ़ें

लोकतंत्र के सबसे बड़े उत्सव में हिमाचल प्रदेश के मतदाताओं ने जमकर अपनी भागदारी निभाई है। इस पहाड़ी राज्य के लोगों में नई सरकार चुनने का उत्साह इस कदर रहा कि लोगों ने भीष्ण गर्मी की परवाह भी नहीं की। मैदानी जिलों में 40 डिग्री सेल्सियस से ऊपर के पारे के बीच मतदाता घरों से बाहर निकालकर मतदान केंद्रों तक पहुंचे और मतदान किया। राज्य की चार लोकसभा सीटों पर शाम 5:30 बजे तक करीब 68 फीसदी मतदान हुआ। इसमें और बढोतरी होगी क्योंकि कई जगह से अभी डाटा एकत्रित नहीं हुआ है। 

पिछली बार से कितना अंतर?
अंतिम आंकड़ा देर रात या कल सुबह तक मिलने की उम्मीद है। पिछली बार के लोकसभा चुनाव में पहली बार रिकार्ड 72.43 फीसदी मतदान हुआ था। माना जा रहा है कि इस बार भी मतदान प्रतिशतता इसके आसपास रहेगी। हालांकि चुनाव आयोग ने 76 फीसदी मतदान का लक्ष्य रखा था। वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव में सर्वाधिक 75.87 फीसदी मतदान हुआ था। वर्ष 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में राज्य में 64.45 तथा वर्ष 2009 में 58.43 फीसद मतदान हुआ था।

मंडी सीट पर सबसे ज्यादा मतदान
चुनाव आयोग के मुताबिक शाम 5:30 बजे तक के आंकड़ों के हिसाब से सबसे अधिक मतदान मंडी संसदीय सीट पर 69.78 फीसदी हुआ। इसके बाद शिमला संसदीय सीट पर 68.10 फीसदी, हमीरपुर संसदीय सीट पर 66.05 फीसदी और कांगड़ा सीट पर 65.92 फीसदी मतदान हुआ। इसके अलावा विधानसभा उपचुनाव की छह सीटों पर औसतन 69 फीसदी वोट डले हैं। 

विधानसभा उपचुनाव में लाहौल-स्पीति में सबसे ज्यादा मतदान
जनजातीय क्षेत्र लाहौल-स्पीति में सर्वाधिक 73.72 फीसदी, कुटलैहड़ में 71.40 फीसदी, गगरेट में 68.28 फीसदी, सुजानपुर में 63 फीसदी, धर्मशाला में 66.27 फीसदी और बड़सर में 50 फीसदी मतदान रिकार्ड हुआ है। हालांकि इन सीटों के मतदान के आंकड़े में और बढ़ोतरी होगी। राज्य में मतदान के दौरान कहीं भी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है।

शुरुआत में धीमी रही स्पीड
लोगों खासकर बुजुर्गों और पहली बार के मतदाताओं में वोट डालने को लेकर काफी उत्साह दिखाई दिया। 80 वर्ष से 95 वर्ष की आयु के कई बुजुर्ग मतदाता मतदान करने मतदान केंद्रों में पहुंचे। शुरुआती दो घंटों में मतदान की गति धीमी रही और महज 14 फीसदी लोगों ने ही वोट डाले। लेकिन इसके बाद मतदान की गति बढ़ गई। इसके बाद मतदान रफ्तार पकड़ने लगा और पूर्वान्ह 11 बजे तक 32 फीसदी तथा दोपहर 1 बजे तक 48 फीसदी मतदान दर्ज किया गया। अपरान्ह 3 बजे तक 58.41 फीसदी और 5 बजे तक 66 फीसदी मतदान हुआ। 

शांतिपूर्ण तरीके से मतदात
राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी मनीष गर्ग ने बताया कि पूरे राज्य में मतदान शांतिपूर्ण तरीके से हुआ है। शाम 5:30 बजे तक राज्य की चार लोकसभा सीटों में 68 फीसदी और विस उपचुनाव में 69 फीसदी मतदान दर्ज किया गया। लेकिन ये अंतिम आंकड़े नहीं हैं और इनमें बढ़ोतरी होगी। 

भाजपा और कांग्रेस के बीच टक्कर
राज्य में कुल 57.11 लाख मतदाता पंजीकृत हैं। इनमें 28.48 पुरुष और 27.97 लाख महिला मतदाता हैं। कुल मतदाताओं में से 57 हजार दिव्यांग हैं और उनके लिए मतदान केंद्रों पर विशेष सुविधाएं प्रदान की गई हैं। मतदान के लिए कुल 7792 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। इनमें 369 संवेदनशील मतदान केंद्र हैं और इनमें सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। लोकसभा चुनाव में 37 और विधानसभा उपचुनाव में 25 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला होगा। चुनाव परिणाम 04 जून को घोषित होंगे। सभी सीटों पर भाजपा और कांग्रेस के बीच ही मुख्य मुकाबला है।

रिपोर्ट :यूके शर्मा