ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News हिमाचल प्रदेशभीषण गर्मी के बीच हिमाचल वालों को खुशखबरी, बारिश और बर्फबारी के आसार; पूरी रिपोर्ट

भीषण गर्मी के बीच हिमाचल वालों को खुशखबरी, बारिश और बर्फबारी के आसार; पूरी रिपोर्ट

मौसम विभाग ने 4-5 जून को राज्य में बारिश और बर्फबारी को लेकर यलो अलर्ट जारी किया है। 6 और 7 जून को राज्य के ऊंचे हिस्सों में बारिश और बर्फबारी और मध्य व निचले इलाकों में बारिश की संभावना है।

भीषण गर्मी के बीच हिमाचल वालों को खुशखबरी, बारिश और बर्फबारी के आसार; पूरी रिपोर्ट
Niteesh Kumarएजेंसी,शिमलाMon, 03 Jun 2024 09:02 PM
ऐप पर पढ़ें

देशभर में इन दिनों गर्मी कहर बरपा रही है। पहाड़ों में भी सूर्य देव प्रचंड होते हैं। हिमाचल में बढ़ते तापमान के कारण लोग गर्मी की मार झेलने को मजबूर हैं। हालांकि, अब राज्य में मौसम बदलने वाला है। भीषण गर्मी के बाद प्रदेश में राहत की बूंदें गिरने वाली हैं। जिससे लोगों को चिलचिलाती धूप और गर्मी से राहत मिलेगी। शिमला मौसम विभाग के अनुसार, प्रदेश में अगले 4 दिन तक मौसम खराब रहने वाला है। जिसके चलते चार जून से सात जून तक राज्य में बारिश और बर्फबारी की संभावना है। 

मौसम विभाग ने 4 और 5 जून को राज्य में बारिश और बर्फबारी को लेकर यलो अलर्ट जारी किया है। 6 और 7 जून को राज्य के ऊंचे हिस्सों में बारिश और बर्फबारी और मध्य व निचले इलाकों में बारिश की संभावना है। रविवार को भी राज्य में लोग गर्मी से परेशान रहे। हालांकि, राज्य के कुछ हिस्सों में आसमान में हल्के बादल भी देखे गए। हिमाचल में पारा 40 के ऊपर चला गया है। ऊना 43.6 डिग्री सेल्सियस तापमान के साथ सबसे गर्म स्थान रहा. जबकि काजा दो डिग्री सेल्सियस के साथ सबसे ठंडा स्थान रहा। 

फायर सीजन के दौरान अधिकांश जंगलों में लगी आग
राजधानी शिमला में तापमान 28.2 डिग्री, धर्मशाला में 36.6, सोलन में 34, नाहन में 37.7, चंबा में 38.8, कुल्लू में 37, मनाली में 27.9, केलांग में 19, बिलासपुर में 40, हमीरपुर में 39.6 और कल्पा में 24.2 डिग्री सेल्सियस रहा। जहां देशभर में लोग भीषण गर्मी और लू से परेशान हैं, वहीं इस साल हिमाचल में भी गर्मी ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। राज्य में तापमान को कम रखने और जलवायु के अनुकूल वातावरण रखने वाले जंगल इन दिनों जमकर जल रहे हैं। जिससे पारा और भी बढ़ गया है। राज्य में फायर सीजन के दौरान अधिकांश जंगलों में आग लग गई, जिससे पहाड़ों में गर्मी का प्रकोप और बढ़ गया।

Advertisement