ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News हिमाचल प्रदेशनिर्दलीय विधायकों के इस्तीफे पर कब आएगा फैसला, हिमाचल एसेंबली स्पीकर ने दिया अपडेट

निर्दलीय विधायकों के इस्तीफे पर कब आएगा फैसला, हिमाचल एसेंबली स्पीकर ने दिया अपडेट

हिमाचल प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया ने शनिवार को बताया कि 3 निर्दलीय विधायकों के इस्तीफे स्वीकार करने और दल-बदल विरोधी कानून के तहत कार्रवाई शुरू करने के संबंध में निर्णय कब आएगा।

निर्दलीय विधायकों के इस्तीफे पर कब आएगा फैसला, हिमाचल एसेंबली स्पीकर ने दिया अपडेट
Krishna Singhभाषा,शिमलाSat, 11 May 2024 10:09 PM
ऐप पर पढ़ें

हिमाचल प्रदेश के तीन निर्दलीय विधायकों के इस्तीफे पर कब आएगा फैसला इस बारे में विधानसभा के अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया ने शनिवार को जानकारी दी। हिमाचल प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया ने कहा कि 3 निर्दलीय विधायकों के इस्तीफे स्वीकार करने और दल-बदल विरोधी कानून के तहत कार्रवाई शुरू करने के संबंध में अंतिम निर्णय मई के अंत या जून की शुरुआत में लिया जाएगा।

विधानसभा अध्यक्ष ने यहां संवाददाताओं से कहा कि निर्दलीय विधायकों के आचरण से संकेत मिलता है कि वे दबाव में थे और इसलिए जांच शुरू की गई और उनसे स्पष्टीकरण मांगा गया। बाद में जब कांग्रेस नेताओं ने इन विधायकों के खिलाफ दलबदल विरोधी कानून के तहत कार्रवाई के लिए नई याचिका दायर की तो उन्हें भी नोटिस जारी किए गए।

तीन निर्दलीय विधायकों होशियार सिंह, आशीष शर्मा और के एल ठाकुर ने 27 फरवरी को हुए राज्यसभा चुनाव में भाजपा उम्मीदवार हर्ष महाजन के पक्ष में मतदान किया था। अध्यक्ष ने कहा कि उन्होंने 22 मार्च को विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था और उनके इस्तीफे स्वीकार होने से अगले दिन वे भाजपा में शामिल हो गए थे। 

विधानसभा के अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया ने कहा कि हमारा संविधान निर्दलीय विधायकों को किसी राजनीतिक दल में शामिल होने की अनुमति नहीं देता है। दोनों पक्षों (निर्दलीय और कांग्रेस विधायकों) को शनिवार को बुलाया गया था, लेकिन शायद चुनाव प्रचार के कारण वे नहीं आए और अंतिम सुनवाई मई के अंत या जून की शुरुआत में होगी।

कांग्रेस नेताओं जगत सिंह नेगी और हरीश जनारथा ने 24 अप्रैल को तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ दलबदल विरोधी कानून के तहत कार्रवाई के लिए विधानसभा अध्यक्ष के पास एक नई याचिका दायर की थी। उन्होंने आरोप लगाया था कि ये निर्दलीय विधायक इस्तीफा देकर BJP में शामिल हो गए जबकि उनके इस्तीफे विधानसभा अध्यक्ष के पास लंबित थे, जिस पर दलबदल विरोधी कानून के तहत कार्रवाई होती है।