ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News हिमाचल प्रदेशBJP भी एक समय ऐसी थी, लोकतंत्र में बदलाव होते रहते हैं; हिमाचल के सीएम सुक्खू ने क्यों कहा ऐसा

BJP भी एक समय ऐसी थी, लोकतंत्र में बदलाव होते रहते हैं; हिमाचल के सीएम सुक्खू ने क्यों कहा ऐसा

हिमाचल प्रदेश के सीएम सुखविंदर सिंह सुक्खू का कहना है कि कांग्रेस की चुनाव में क्या संभावनाएं हैं इससे कहीं ज्यादा मायने रखता है लोकतंत्र का जिंदा रहना। उन्होंने कहा की कांग्रेस मुख्य विपक्षी दल है।

BJP भी एक समय ऐसी थी, लोकतंत्र में बदलाव होते रहते हैं; हिमाचल के सीएम सुक्खू ने क्यों कहा ऐसा
Sneha Baluniलाइव हिन्दुस्तान,शिमलाWed, 07 Feb 2024 07:26 AM
ऐप पर पढ़ें

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की संभावना को लेकर कहा कि देश में लोकतंत्र का अस्तित्व मायने रखता है न कि यह बात की कांग्रेस की क्या संभावनाएं हैं। चुनावों के आखिरी दौर में कांग्रेस की भूमिका के बारे में पूछे जाने पर सुक्खू ने कहा, 'कांग्रेस सरकार बन सकती है या नहीं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। जो मायने रखता है वह यह है कि लोकतंत्र जिंदा रहना चाहिए।' उन्होंने कहा कि लोकतांत्रिक देश में कांग्रेस नहीं तो क्षेत्रीय दल सरकार बना ही सकते हैं।

सुक्खू ने कहा, 'कांग्रेस अभी भी प्रमुख विपक्षी दल है। आप कांग्रेस को अभी खारिज नहीं कर सकते। भाजपा भी एक समय पर इस स्थिति में थी। अब उनकी संख्या बढ़ गई है। लोकतंत्र में परिवर्तन होते रहते हैं। आपको यह सब परिप्रेक्ष्य में देखना होगा।' सुखविंदर सिंह सुक्खू दिसंबर 2022 में कांग्रेस को हिमाचल प्रदेश में मिली प्रचंड जीत के बाद से राज्य के मुख्यमंत्री की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं।

एनडीटीवी को दिए इंटरव्यू में अपनी सरकार की उपलब्धियों के बारे में बात करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने अनाथों के लिए एक कानून बनाया जो उन्हें राज्य का वार्ड बनाता है। उन्होंने कहा, 'हमारी सरकार ने ऐसा पहला कानून बनाया।' सीएम ने कहा, उनकी सरकार ने प्रति वर्ष एक लाख नौकरियां देने का वादा किया था। इस वर्ष, उन्होंने 20,000 सरकारी नौकरियां दी हैं। इसके अलावा अन्य क्षेत्रों में भी रोजगार गिया गया है।

हिमाचल के सीएम ने कहा कि राज्य हरित ऊर्जा के उत्पादन सहित ग्रीन इनिशिएटिव पर ध्यान केंद्रित कर रहा है। उन्होंने कहा, 'ग्रीन हाइड्रोजन के लिए ऑयल इंडिया लिमिटेड के साथ हमारी डील हुई है। इसके लिए बोली प्रक्रिया शुरू हो गई है। हिमाचल अपने बिजली संयंत्रों को ग्रीन एनर्जी से चलाने वाला पहला राज्य होगा। हम सौर ऊर्जा, जल ऊर्जा में भी आगे बढ़ रहे हैं। हमें आत्मनिर्भर हिमाचल बनने के लिए जल विद्युत का उपयोग करना होगा।'

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें