DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

World Hypertension Day 2019: जानें क्या है हाइपरटेंशन के लक्षण और बचाव के उपाय

world hypertension day 2019

हाइपरटेंशन के प्रति जागरुकता फैलाने के लिए हर साल 17 मई को वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे मनाया जाता है। इस खास दिन पर लोगों को हाइपरटेंशन के प्रति जागरुक किया जाता है। साथ ही उन्हें बताया जाता है कि इस खतरनाक बीमारी से कैसे बचाव किया जा सकता है। हाई ब्लड प्रेशर एक साइलेंट किलर बीमारी है, क्योंकि ज्यादातर लोगों में इसका कोई बाहरी लक्षण या संकेत नहीं दिखता है। नियमित सिरदर्द, सांस की तकलीफ, चक्कर आना, अंगों का फड़कना और प्रतिकूल स्थितियों में नाक बहना आदि कुछ ऐसे मामूली लक्षण हैं, जिन पर लोग ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं। हाइपरटेंशन कई कारणों से होता है, जिनमें से कुछ कारण शारीरिक और कुछ मानसिक होते हैं। हाइपरटेंशन में रक्तचाप 140 के पार पहुंच जाता है। 

एक ताजा शोध में बताया गया है कि घर या कार्यस्थल पर एक्टिव स्मोकिंग उच्च रक्तचाप के 13 प्रतिशत बढ़े हुए जोखिम से संबंध रखता है। 20 साल की उम्र के बाद धूम्रपान करने वाले के साथ रहना इस प्रतिषत को 15 तक बढ़ा सकता है। पैसिव स्मोकिंग के संपर्क में रहने पर समय के साथ उच्च रक्तचाप हो सकता है, जो पुरुषों और महिलाओं को समान रूप से प्रभावित करता है।

दुनिया भर में लगभग 1 करोड़ मौतों का कारण उच्च रक्तचाप है। समय की मांग है कि इस बारे में जागरूकता बढ़ायी जाये कि धूम्रपान इस कंडीशन के लिए एक प्रमुख जोखिम कारक है और इसलिए, जल्द से जल्द इस आदत को छोड़ना अनिवार्य है। उच्च रक्तचाप से बचाव के लिए सेकेंड हैंड स्मोक से दूर रहने की जरूरत है, न कि एक्सपोजर को कम करने की।

इस बारे में बात करते हुए, पद्म श्री अवार्डी, एचसीएफआई के अध्यक्ष डॉ. के के अग्रवाल ने कहा, “अनियंत्रित उच्च रक्तचाप से दिल का दौरा या स्ट्रोक, एन्यूरिज्म, दिल की विफलता, अंग की खराबी, दृष्टि हानि, मैटाबोलिक सिंड्रोम और स्मृति से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं।”

डॉ. अग्रवाल, जो आईजेसीपी के ग्रुप एडिटर-इन-चीफ भी हैं, कहते हैं- “30 साल की उम्र के बाद हर किसी को हाइपरटेंशन, डायबिटीज या दिल की बीमारी का कोई पारिवारिक इतिहास न होने की स्थिति में भी वार्षिक चेकअप करवाना चाहिए। 

एक पुरानी कहावत - ’इलाज से बेहतर है रोकथाम’ आज भी सही है। 80 वर्ष की आयु से अधिक जीने के लिए, किसी को आदर्श स्वास्थ्य मापदंडों को बनाए रखने और एक आदर्श जीवन शैली का पालन करने की आवश्यकता है। एचसीएफआई  का 80 का फॉर्मूला कुछ आवश्यक निवारक उपायों का जिक्र करता है। 

ये हैं बचाव के उपाय-
- अपने लोअर बीपी, फास्टिंग शुगर, कमर की चौड़ाई, रैस्टिंग हार्ट रेट और कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन एलडीएल या खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को 80 से नीचे रखें।
-  प्रतिदिन 80 मिनट टहलें, सप्ताह में कम से कम 80 कदम प्रति मिनट की गति से 80 मिनट तेज चाल चलें।
- किडनी और फेफड़े की कार्यक्षमता 80 प्रतिषत से अधिक रखें।
- कम खाओ, एक भोजन में 80 ग्राम/80 एमएल कैलोरी से अधिक भोजन नहीं लेना चाहिए। साल में 80 दिन रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट न खाएं।
-  साल में 80 दिन धूप से विटामिन डी लें।
- शराब न पिएं और अगर पीते हैं, तो एक दिन में 80 एमएल से कम व्हिस्की (80 प्रूफ 40 प्रतिषत अल्कोहल) ही लें या एक सप्ताह में 80 ग्राम (240 एमएल) से कम व्हिस्की लें।
- प्रतिदिन प्राणायाम के 80 चक्र 4 श्वास प्रति मिनट की गति से करें।
- धूम्रपान न करें या हृदय की सर्जरी के लिए तैयार रहें, जिसकी लागत रु. 80,000 होगी। जीवन भर में 80 बार रक्तदान करें।
- ध्वनि प्रदूषण के 80 डीबी लेवल के संपर्क में आने से बचें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:World Hypertension Day 2019: Hypertension Causes symptoms and treatments