worl blood donor day 2019 know mahadan limitations wrong approach and things to remember - World Blood Donor Day 2019 : जानिए महादान की सीमाएं, गलत धारणाएं और ध्यान रखने योग्य बातें DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

World Blood Donor Day 2019 : जानिए महादान की सीमाएं, गलत धारणाएं और ध्यान रखने योग्य बातें

blood donation day

रक्त किसी दुकान में नहीं मिलता है, इसकी आपूर्ति रक्तदान से ही की जा सकती है। यह जानने के बावजूद लोग आज भी रक्तदान से डरते हैं। रक्तदान से एक साथ तीन जिंदगियां बचाई जा सकती हैं। और सबसे बड़ी बात तो यह है कि रक्तदान का कोई नुकसान नहीं है, बल्कि ढेरों फायदे हैं। छह महीने में एक बार खून देना आपकी सेहत के लिए भी बहुत जरूरी है। जो रक्तदान नहीं करते, वे ज्यादा बीमार पड़ते हैं। आइए जानते हैं इस महादान की सीमाएं, गलत धारणाएं और ध्यान रखने योग्य बातें : 

हर 2 second में किसी को होती है खून की जरूरत
हर 2 second में किसी न किसी को खून की जरूरत होती है। दुर्घटनाग्रस्त लोगों के अलाव कई ऐसे बीमार होते हैं, जिन्हें खून की जरूरत रहती है। कई बार जटिल ऑपरेशन वाले मरीजों को भी खून की जरूरत पड़ती है। कई बार मानसिक आघात, रक्त की कमी या अन्य किसी सर्जरी में मरीजों को केवल लाल रक्त कणिकाओं (आरबीसी) की ही आवश्यकता होती है, जो रक्त से अलग होती हैं। 

सुरक्षित है रक्तदान
यह प्रक्रिया हमेशा योग्य एवं प्रशिक्षित डॉक्टरों द्वारा पूरी की जाती है। इसमें प्रयुक्त नली, सुई आदि को संक्रमणरहित करके ही खून लिया या चढ़ाया जाता है। यह सोचना कि इससे किसी तरह का संक्रमण हो सकता है, गलत है।

क्या है रक्तदान
रक्तदान एक स्वैच्छिक प्रक्रिया है। इस प्रक्रिया को रक्तदान इसीलिए कहा जाता है, क्योंकि इसमें व्यक्ति अपनी इच्छा से अपने खून का दान करता है। मानव रक्त का कोई अन्य विकल्प नहीं है और न ही इसे किसी प्रयोगशाला में बनाया जा सकता है। इसलिए हमें स्वैच्छिक रक्तदान को बढ़ावा देना चाहिए। इसके लिए स्कूलों, कॉलेजों, दफ्तरों या अन्य कई जगहों पर समय-समय पर ब्लड डोनेशन कैम्प का आयोजन किया जाता रहता है।

गलत धारणाएं
- रक्तदान के बाद कमजोरी या थकान होती है। अगर आप लगातार तरल और पौष्टिक आहार लेते रहते हैं तो आपको इस तरह की कोई परेशानी नहीं होती।
- रक्तदान के बाद आप उसी तरह अपने रोजमर्रा के काम कर सकते हैं जैसे रोजाना करते हैं।
- रक्तदान के बाद आपके शरीर में खून की कमी नहीं होती, बल्कि खून तेजी से बनता है। 
- रक्तदान में किसी तरह का दर्द नहीं होता है।

इन बातों का ध्यान रखें
रक्तदान से तीन घंटे पहले पौष्टिक भोजन लें। रक्तदान के बाद दिए जाने वाले नाश्ते को खाना बहुत जरूरी होता है। रक्तदान से पहले धूम्रपान न करें। 48 घंटे के अंदर एल्कोहल लिया है तो आप रक्तदान के योग्य नहीं हैं। 

ये कर सकते हैं रक्तदान
18 से 68 साल से स्वस्थ व्यक्ति रक्तदान कर सकते हैं। मगर इनका वजन 45 किलो से अधिक हो और खून में हीमोग्लोबिन 12 प्रतिशत से ज्यादा होना चाहिए।

ये नहीं कर सकते रक्तदान
एचआईवी, डेंगू, मलेरिया, हेपेटाइटिस बी या सी से ग्रस्त व्यक्ति।
मासिक चक्र के दौर से गुजर रही महिलाएं।
बच्चे को स्तनपान कराने वाली महिलाएं।
कैंसर, हृदयरोग, किडनी का रोग, मिर्गी, ग्रंथि रोग से पीड़ित व्यक्ति।
अचानक वजन घटने, सिजोफ्रेनिया या मधुमेह की शिकायत हो।

इसे भी पढ़ें : World Blood Donor Day 2019 : एक प्रतिशत भारतीय ही करते हैं रक्तदान

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:worl blood donor day 2019 know mahadan limitations wrong approach and things to remember