Third heaviest kidney extracted from the stomach of the patient know what is this disease how to avoid it - मरीज के पेट से निकाली दुनिया की तीसरी सबसे भारी किडनी, जानिए क्या है यह बीमारी, इससे कैसे बचें DA Image
14 दिसंबर, 2019|5:38|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मरीज के पेट से निकाली दुनिया की तीसरी सबसे भारी किडनी, जानिए क्या है यह बीमारी, इससे कैसे बचें

हाल ही में राजधानी दिल्ली में सर गंगा राम अस्पताल के डॉक्टरों ने एक मरीज के शरीर से 7.4 किलो वजनी किडनी निकालने का दावा किया है। इस किडनी का आकार 32 x 21.8 सेमी था। डॉक्टरों का कहना है कि यह भारत की सबसे वजनी और दुनिया की तीसरी सबसे वजनी किडनी थी। किडनी का सामान्य वजन 120 से 150 ग्राम तक होता है। जिस मरीज के शरीर से यह विशालकाय किडनी निकाली गई, वह दिल्ली का रहने वाला है। 56 वर्षीय इस मरीज को ऑटोसोमल डोमिनेंट पॉलीसिस्टिक किडनी डिजीज (एडीपीकेडी) नामक एक आनुवंशिक बीमारी हुई थी। 

इससे पहले दुनिया में सबसे वजनी किडनी के दो मामले अमेरिका और नीदरलैंड में आए हैं। अमेरिका में जहां 9 किलो की तो नीदरलैंड में 8.7 किलो वजनी किडनी पेट से निकाली गई थी। 

सबसे भारी किडनी के लिए गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बुक में दुबई के अस्पताल का नाम है, जहां 2017 में पॉलीसिस्टिक किडनी से पीड़ित एक मरीज से 4.25 किलो की किडनी निकाली थी। अब, सर गंगाराम अस्पताल के डॉक्टर भी गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में अपना नाम दर्ज करवाने का विचार कर रहे हैं। 

जानिए क्या हुआ था इस मरीज के साथ

डॉक्टरों के अनुसार, पॉलीसिस्टिक किडनी रोग के कारण इस मरीज की दोनों किडनी में द्रव से भरे सिस्ट पैदा हो गए थे। इससे सूजन आ गई और किडनी फेल हो गई। इसी बीमारी की शुरुआत में रोगी को बुखार आया और सांस लेने में कठिनाई महसूस हुई। फिर पेट के बाएं हिस्से में असहनीय दर्द शुरू हुई। जांच में पाया गया कि उसकी बाईं किडनी के सिस्ट के भीतर रक्तस्राव और संक्रमण था। एंटीबायोटिक्स दवाओं का भी असर नहीं हुआ तो डॉक्टरों ने सर्जरी का फैसला किया। हालांकि डॉक्टरों को प्री-ऑपरेटिव स्कैन में सामान्य से बहुत बड़ी किडनी दिखाई दी, लेकिन उन्हें उम्मीद नहीं थी कि यह इतनी भारी होगी। किडनी ने लगभग पूरे पेट पर कब्जा कर लिया था। इस किडनी का वजन दो नवजात शिशुओं के वजन से अधिक था। मरीज अब ठीक है और उसे छुट्टी दे दी गई है। हालांकि वह अभी डायलिसिस पर है और किडनी प्रत्यारोपण की प्रतीक्षा कर रहा है।

क्या है एडीपीकेडी या पॉलीसिस्टिक किडनी डिसीज

एडीपीकेडी एक अनुवांशिक बीमारी यानी परिवार में पीढ़ी दर पीढ़ी चली आने वाली बीमारी है। दुनियाभर में इसके करीब 12.5 मिलियन मरीज हैं। इस बीमारी में धीरे-धीरे किडनी खराब होने लगती है और फिर मरीज को डायलिसिस का सहारा लेना पड़ता है। बाद में प्रत्यारोपण की नौबत आ जाती है। इन मरीजों में संक्रमण, रक्तस्राव, रीनल ट्यूमर आम होता है।

पॉलीसिस्टिक किडनी डिजीज के लक्षण 

  • हाई ब्लड प्रेशर

  • पीठ या बगल में अचानक दर्द

  • लगातार सिरदर्द

  • पेट हमेशा भराभऱा लगाना

  • बढ़े हुए गुर्दे के कारण पेट का आकार बढ़ना

  • यूरिन में खून आना

  • पथरी

  • गुर्दे में संक्रमण 

पॉलीसिस्टिक किडनी डिजीज से ऐसे बचें

इस बीमारी से बचने का सबसे सही उपाय है किडनी को स्वस्थ रखना। अपना ब्लड प्रेशर कंट्रोल रखें। यदि किसी महिला को पॉलीसिस्टिक किडनी की बीमारी है और वह मां बनने वाली है तो डॉक्टर से जरूर सम्पर्क करना चाहिए।

  • नियमित रूप से ब्लड प्रेशर मापते रहें।

  • कम नमक वाला आहार खाएं। भरपूर मात्रा में फल, सब्जियां और साबुत अनाज का सेवन करें।

  • वजन कंट्रोल में रखें। डॉक्टर से पूछें कि आपके लिए सही वजन क्या है।

  • धूम्रपान करते हैं, तो छोड़ दें।

  • नियमित व्यायाम करें। रोज कम से कम 30 मिनट वॉकिंग करें।

  • शराब न पिएं।

www.myupchar.com से जुड़ी एम्स की डॉ. वीके राजलक्ष्मी के अनुसार, किडनी से जुड़ी किसी भी बीमारी का समय पर इलाज न किया जाए तो जीवन बहुत मुश्किल होता है। इसलिए लगातार पानी पीते रहें। किसी तरह से संक्रमण की आशंका हो तो डॉक्टर को दिखाएं।

अधिक जानकारी के लिए देखें: https://www.myupchar.com/disease/acute-kidney-failure

स्वास्थ्य आलेख www.myUpchar.com द्वारा लिखे गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Third heaviest kidney extracted from the stomach of the patient know what is this disease how to avoid it