DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दवाओं की निगरानी और रंग बदलने वाला लेंस बनाने में सफल हुए वैज्ञानिक

चीन स्थित चीन फार्मास्युटिकल विश्वविद्यालय और साउथइस्ट विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं को उम्मीद है कि वह दवा देने वाले कॉन्टेक्ट लेंस बनाएंगे जिसका रंग आंखों में दवा डालने पर बदल जाएगा।

वैज्ञानिकों ने रंग बदलने वाले कॉन्टेक्ट लेंस विकसित किए हैं जो दवा दे सकते हैं। साथ ही आंखों के इलाज की निगरानी भी कर सकते हैं।

चीन स्थित चीन फार्मास्युटिकल विश्वविद्यालय और साउथइस्ट विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं को उम्मीद है कि वह दवा देने वाले कॉन्टेक्ट लेंस बनाएंगे जिसका रंग आंखों में दवा डालने पर बदल जाएगा। एसीएस एप्लाइड मैटेरियल्स एंड इंटरफेस पत्रिका में छपे अध्ययन के मुताबिक, आंखों में लगातार डाले जाने वाली विभिन्न दवाओं को यह लेंस नियंत्रित कर सकता है। 

जब आंखों में दवा डाली जाती है तो वास्तव में यह पता लगना कठिन होता है कि आंखों को कितनी दवा मिल रही है। ऐसा इसलिए है क्योंकि आंखें बाहरी तत्वों को अस्वीकार करती हैं, और आंखों में कुछ पड़ने पर आंसू तेजी से बहने लगते हैं। हालांकि यह प्रक्रिया आमतौर पर संक्रमण से बचने और बाहरी वस्तुओं से होने वाली क्षति से बचाने में मददगार होती हैं, लेकिन यह प्रक्रिया आंखों के लिए बहुत आवश्यक दवाओं के संदर्भ में बाधा डाल सकती है।

कॉन्टेक्ट लेंस आंखों तक सीधे दवाओं को पहुंचाने का एक प्रभावी तरीका हो सकता है। मगर दवा डाले जाने के वास्तविक समय की निगरानी अब भी एक चुनौती है। शोधकर्ताओं ने मॉलिक्युलर इंप्रिंटिंग का इस्तेमाल कर रंगों के लिए संवेदनशील कॉन्टेक्ट लेंस तैयार किया है। मालिक्युलर इंप्रिंटिंग एक ऐसी तकनीक है जो पॉलीमर संरचना में आणविक कैवेटीज का निर्माण करता है जो एक विशिष्ट यौगिक के आकार से मेल खाता है, जैसे दवाइयां।

प्रयोगशाला में किए गए प्रयोगों के अनुसार मॉलिक्युलर इंप्रिंटेड कॉन्टेक्ट लेंस में टाइमोलोल होता है, जो ग्लूकोमा के इलाज में इस्तेमाल किया जाता है। चूंकि दवाओं को लेंस के माध्यम से डाला जाता है, इससे अणुओं के निर्माताओं में बदलाव होता है और इससे लेंस का रंग भी बदल जाता है।

शोधकर्ताओं ने कहा कि प्रक्रिया में किसी प्रकार के रंग को शामिल नहीं किया गया है । इससे संभावित दुष्प्रभाव कम हो गए। वे इस बदलाव को खुली आंखों से और एक फाइबर ऑप्टिक स्पेक्ट्रोमीटर से भी देख सकते हैं।

वर्ल्‍ड साइट डे : आंखों में रोशनी नहीं मगर सीख रहे ब्रेस्‍ट कैंसर की पहचान का तरीका

Navratri 2018 : शंख बजाने के हैं इतने फायदे, जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:scientist successfully develop contact lens that can do drug monitoring and color changing