National Epilepsy Day 2019: Know about the different types of Epilepsy symptoms and preventions - National Epilepsy Day: जानें कितने तरह की होती है मिर्गी, ये हैं लक्षण और बचाव के तरीके DA Image
13 दिसंबर, 2019|1:52|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

National Epilepsy Day: जानें कितने तरह की होती है मिर्गी, ये हैं लक्षण और बचाव के तरीके

national epilepsy day 2019

National Epilepsy Day 2019: मिर्गी को डॉक्टरी भाषा में एपिलेप्सी के नाम से पहचाना जाता है। मिर्गी से पीड़ित लोगों के साथ उनके परिवार को भी मिर्गी के प्रति जागरूक करने के लिए हर साल 17 नवंबर को नेशनल एपिलेप्सी डे मनाया जाता है। आमतौर पर लोगों को लगता है कि मिर्गी सिर्फ एक ही तरह की होती है। लेकिन आपको बता दें कि मिर्गी को एक नहीं बल्कि मोटे तौर पर 4 तरह से बांटा जा सकता है। आइए जानते हैं आखिर क्या होती है मिर्गी, इसके प्रकार, लक्षण और बचाव के तरीके। 
  
क्या है मिर्गी-
मिर्गी एक तरह का न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर है, जिसमें मरीज के दिमाग में असामान्य तरंगें पैदा होने लगती हैं। मस्तिष्क में गड़बड़ी होने के कारण व्यक्ति को बार-बार दौरे पड़ने लगते हैं। जिसकी वजह से व्यक्ति का दिमागी संतुलन पूरी तरह से गड़बड़ा जाता है और उसका शरीर लड़खड़ाने लगता है।

इसका प्रभाव शरीर के किसी एक हिस्से पर देखने को मिल सकता है, जैसे चेहरे, हाथ या पैर पर। इन दौरों में तरह-तरह के लक्षण होते हैं, जैसे कि बेहोशी आना, गिर पड़ना, हाथ-पांव में झटके आना। मिर्गी किसी एक बीमारी का नाम नहीं है। अनेक बीमारियों में मिर्गी जैसे दौरे आ सकते हैं। 

मिर्गी के प्रकार- मिर्गी के दौरान पड़ने वाले दौरों के आधार पर यह 4 तरह की होती है। 
सामान्यीकृत दौरा Generalized Epilepsy: इस तरह का दौरा तब पड़ता है जब मरीज के पूरे दिमाग में करंट फैलता है और मरीज बेहोश हो जाता है। यह दौरा सबसे कॉमन माना जाता है।

आंशिक दौरा Partial (focal) Epilepsy: इस दौरे में रोगी के मस्तिष्क के कुछ हिस्सों में ही मिर्गी की गतिविधि होती है। इस अवस्था में करंट शरीर के एक हिस्से से निकलकर उसी हिस्से में बना रहता है। उदाहरण आंख में , दिमाग में हो सकता है।

Absence Seizures: इसमें मरीज कोई हरकत नहीं करता। गुमसुम बैठा रहता है। हाथ हिलने लगता या मुंह हिलाने लगता है लेकिन बात नहीं करता।

Complex Partial Seizures: इसके लक्षण भी कुछ-कुछ एब्सेंस सीजर की तरह ही होते हैं।

मिर्गी के लक्षण-
- आंखों के आगे अंधेरा छा जाना
- शरीर का अकड़ जाना
- मुंह से झाग आना
- अचानक गिर जाना
- बेहोश हो जाना
- आंखों की पुतलियों का ऊपर की तरफ खिंचना
- हाथ या पैर का लगातार चलना या झटके से लगना
- होंठ या जीभ काट लेना

मिर्गी के दौरान अपनाएं बचाव के ये उपाय-
-साइकिल चलाते समय हेलमेट पहनकर रखें। 
-पर्याप्त नींद लेना
-अल्कोहल या नशीली दवाओं का अधिक सेवन करने से बचें।
-तेज चमकती रोशनी से बचें।
-तनाव से दूर रहें। 
-कोशिश करें कि टीवी और कंप्यूटर के आगे ज्यादा देर तक न बैठें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:National Epilepsy Day 2019: Know about the different types of Epilepsy symptoms and preventions