DA Image
7 जून, 2020|5:57|IST

अगली स्टोरी

Lockdown:आयुर्वेद के अनुसार वर्क फ्राम होम को आसान बनाता है योग

yoga practice

देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान घर में रहकर ऑफिस का काम करना आप समेत आपके पूरे परिवार के लिए एक तनावपूर्ण स्थिति हो सकती है। लेकिन आयुर्वेदाचार्य डॉ. प्रताप चौहान के मुताबिक ऐसे हालात में आयुर्वेद-योग को अपनाकर तनावमुक्त रहा जा सकता है। जिवा आयुर्वेद के निदेशक चौहान बताते हैं कि इससे प्रतिरोधक क्षमता में भी इजाफा होता है। आइए जानते हैं चुस्त-दुरुस्त रहने के नुस्खे... 

कैफीन युक्त चाय छोड़ें:  
तनाव से बचने के लिए जरूरी है कि हम कैफीन युक्त कॉफी-चाय जैसे दैनिक पेय पदार्थों से दूरी बनाएं। इसकी जगह घर में बने आयुर्वेदिक पेय पदार्थ का सेवन करें। इसे तैयार करने के लिए एक इंच लंबे अदरक का टुकड़ा लेकर उसे अच्छी तरह पीसें और फिर उसे पानी में डालकर उबालें। फिर उसमें दो-तीन पत्ते तुलसी के डालें और दो-तीन मिनट तक उबलने दें।  इसके बाद इसे कप में उड़ेलें और एक चम्मच शहद डालकर घूंट-घूंट करके पिएं। अदरक-तुलसी दोनों ही श्वसन तंत्र को ठीक करके और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर तनावुक्त रखने में मदद करते हैं। ब्राह्मी, अश्वगंधा, जटामासी, शंख्पुष्पी,सर्पगंधा आदि ऐसी जड़ी-बूटियां हैं जिनसे तनाव को घटाने में मदद मिलती है। 

वात युक्त भोजन से परहेज: 
शरीर में अधिक वात का तनाव से सीधा संबंध है। वात का स्तर बढ़ने पर शरीर अपने आप तनाव,चिंता और डर महसूस करने लगता है। हमें वात रोधी भोजन का इस्तेमाल करना चाहिए। वात रोधी भोजन चुनने का मंत्र यह है कि नमीदार, रसीली, गर्म, मीठी और खट्टी चीजों का चुनाव करें। तीखे,कड़वे या कसैले खाद्य पदार्थ से बचना चाहि। अधिक तले-भुने,सूखे और मसालेदार चीजों से बचना चाहिए। 

नींद और आराम जरूरी: 
हमें समय पर सोना और आराम करना नहीं भूलना चाहिए। घर में अकेले काम करने के दौरान समय का ध्यान नहीं रहना स्वाभाविक बात है, लेकिन सतर्क रहना चाहिए। रात में सोने से पहले एक गिलास गुनगुने दूध में एक चम्मच हल्दी और एक चम्मच शहद डालकर सेवन करें। इसे अच्छी नींद आती है। 

जीवन की जरूरत योग: 
योग केवल जीवनशैली सुधारने की क्रियाविधि नहीं है, बल्कि आज यह हमारे जीवन की एक जरूरत है। प्रतिदिन सुबह आधे घंटे का समय योग के लिए निर्धारित करना चाहिए। सुबह-सुबह मन को स्थिर अवस्था में रखकर दिनभर तनाव के हमलों से बचा जा सकता है। हमें अपने घर में ही एकांत स्थान ढूंढ़कर अनुलोम-विलोम समेत अन्य योगासन का अभ्यास करना चाहिए। पद्मासन की मुद्रा में कम से कम 10 मिनट तक किसी कल्पनिक पुष्प पर ध्यान लगाना चाहिए। 

शाम को शवासन करें: 
दिन ढलने के बाद शाम को शवासन करना लाभदायक है। यह एक आसान आसन है। इसके लिए हमें पीठ के बल सीधा लेट जाना होता है। इसके बाद आंख बंद करके धीरे-धीरे सांस लेते हुए सिर के ऊपर से शुरू करके पैर की अंगुलियों तक के विभिन्न अंगों पर ध्यान केंद्रित करना होता है और फिर वापस आते हैं। 
 
शारीरिक खिंचाव जरूरी: 
काम के समय बीच-बीच में वक्त निकालकर अंगड़ाई लें या शरीर में खिंचाव लाएं जैसे कि-कमर को मोड़ें, घुटनों पर बल दें, पैरे के अंगूठे को छुएं आदि। लैपटॉप पर काम के दौरान बीच-बीच में बाहर जाकर दो-तीन मिनट तक प्रकृति को निहारना चाहिए। अपनी हथेलियों को आपस में रगड़कर तरोताजा रखने के लिए उन्हें आंखों पर रखना चाहिए, ताकि आंख की मांसपेशियां पुन: व्यवस्थित हो सकें।  

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Lockdown corona effect: According to Ayurveda yoga makes work from home easy