DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इन टिप्स से मजबूत बनाएं शरीर की Immunity, जानें कमजोर प्रतिरक्षा तंत्र के लक्षण

immunity photo Shutterstock

बार-बार किसी प्रकार के संक्रमण या फिर मौसमी एलर्जी से ग्रसित होने का मतलब है कि आपकी प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है। अपनी प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर करने के लिए किन-किन बातों का ध्यान रखना जरूरी है, 24 से 30 अप्रैल तक आयोजित होने वाले प्रतिरक्षा सप्ताह के मौके पर जानकारी दे रही हैं राजलक्ष्मी त्रिपाठी

इम्यूनिटी आपके शरीर में मौजूद टॉक्सिन्स से लड़ने की क्षमता होती है। शरीर में टॉक्सिन के बहुत सारे कारण हो सकते हैं, मसलन बैक्टीरिया, वायरस या फिर अन्य नुकसानदेह पैरासाइट्स। सच तो यह है कि शरीर के आसपास बहुत सारे बैक्टीरिया और वायरस मौजूद होते हैं, जो आपको कई तरह की बीमारियों से ग्रसित कर देते हैं। शरीर को बाहरी संक्रमण और बीमारियों से बचाकर रखने के लिए शरीर के अंदर एक रक्षा प्रणाली होती है, जिसे इम्यून सिस्टम या रोग प्रतिरोधक शक्ति कहते हैं। अगर आपकी इम्यूनिटी मजबूत है, तो आप न केवल बदलते मौसम में होने वाली सर्दी, खांसी जैसी समस्या से बचे रहते हैं, बल्कि इसकी वजह से आप हेपेटाइटिस, फेफड़े के संक्रमण, किडनी के संक्रमण जैसी गंभीर बीमारियों से भी बचे रहते हैं। वरिष्ठ फिजिशियन डॉ. हिमांशु शेखर के अनुसार, अगर आप बार-बार बीमार पड़ते हैं, तो इसका मतलब है कि आपकी इम्यूनिटी मजबूत नहीं है, क्योंकि इम्यूनिटी दुरुस्त रहने पर व्यक्ति न केवल कम बीमार पड़ता है, बल्कि बीमार पड़ने पर जल्दी ठीक भी हो जाता है।

क्या हैं लक्षण
1. मौसम बदलने के साथ सर्दी-जुकाम हो जाना।
2. हर समय सुस्ती-सी महसूस होना।
3. बीमार होने पर जल्दी ठीक न हो पाना। 
4. थोड़ा काम करने पर भी थक जाना।

बढ़ा सकते हैं प्रतिरोधक क्षमता
अपनी दिनचर्या और खानपान में थोड़ा बदलाव कर आप खुद को स्वस्थ रखने के साथ-साथ अपनी इम्यूनिटी को भी सुधार सकते हैं। सच तो यही है कि जब आपका इम्यून सिस्टम दुरुस्त रहेगा, तभी आप अच्छी सेहत के मालिक बने रह सकेंगे। इम्यूनिटी को बढ़ाने के लिए नियमित व्यायाम के साथ-साथ अपने खानपान में सजगता बरतने के अलावा अपने आहार में उन चीजों को शामिल करना भी जरूरी है, जो आपके शरीर को पोषण प्रदान करने के साथ-साथ रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली हों। इसके लिए आप किसी डाइटीशियन से सलाह भी ले सकते हैं। अपने आहार में चिप्स, फ्रैंचफ्राइज, पास्ता, सफेद आटा, डिब्बा बंद आहार, सोडा ड्रिंक, रेड मीट आदि को भूलकर भी शामिल न करें, क्योंकि इनसे न चाहते हुए भी इम्यून सिस्टम कमजोर होता है।

इसे भी पढ़ें : Health Tips : Weight loss हो या दिल की रखवाली चना हर मौके के लिए है बेस्ट, इसके ये फायदे भी जानें

सुबह के नाश्ते को न करें नजरअंदाज
सुबह के नाश्ते की अनदेखी करना बहुत सारे लोगों की आदत होती है। इससे न केवल ऐसे लोगों की सेहत खराब होती है, बल्कि इसका असर उनकी इम्यूनिटी पर भी पड़ता है। अगर आप अपनी इम्यूनिटी को सुधारना चाहते हैं, तो चाहे आप कितनी भी जल्दी में क्यों न हों, सुबह का नाश्ता जरूर करें। यह सुनिश्चित करें कि आपके सुबह के नाश्ते में प्रोटीन की भरपूर मात्रा हो। अपने सुबह के नाश्ते में उबले अंडे, मौसमी ताजे फल, दलिया, नट्स, अंकुरित अनाज के साथ जूस या लस्सी को शामिल करें। जब आपके दिन की शुरुआत सही नाश्ते से होती है, तो इससे आपके शरीर और दिमाग दोनों को पोषण मिलने के साथ आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है।

वजन रखें नियंत्रित
मोटापा बहुत सारी बीमारियों की वजह है। सच तो यह है कि मोटे लोग पतले लोगों के मुकाबले पेट से जुड़ी बीमारियों से ज्यादा ग्रसित होते हैं। मोटापे की वजह से आप डायबिटीज और रक्तचाप जैसी समस्याओं से भी पीड़ित हो सकते हैं। मोटापे की वजह से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी कम होने लगती है। मोटापे की वजह से सफेद कोशिकाएं बनने में दिक्कत होती है। जब शरीर में सफेद कोशिकाएं कम होने लगती हैं, तो प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है। 

शारीरिक सक्रियता है जरूरी
खुद को स्वस्थ रखने और अपनी इम्यूनिटी को सुधारने के लिए शरीर का सक्रिय रहना जरूरी है। जब आप काम नहीं करते हैं और भूख लगने पर खाना खा लेते हैं, तो आप पेट से जुड़े बहुत सारे रोगों से ग्रसित हो जाते हैं। शारीरिक निष्क्रियता आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी प्रभावित करती है। इससे बचने के लिए नियमित व्यायाम को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। जब आप व्यायाम करते हैं, तो आपका स्टेमिना बढ़ता है। आप जो एनर्जी लेते हैं, वो पच जाने से आपकी पाचन क्षमता दुरुस्त रहती है। इसके लिए आप अपने व्यायाम में योग और मेडिटेशन के साथ सैर को भी शामिल करें।

old age immunity

आठ घंटे की नींद है जरूरी
सेहतमंद रहने के लिए यह बेहद जरूरी है कि आपकी नींद पूरी हो। डॉक्टरों का भी मानना है कि स्वस्थ रहने के लिए आठ घंटे की गहरी नींद जरूरी है। सच तो यह है कि सेहत से जुड़ी बहुत सारी समस्याओं की वजह नींद पूरी न हो पाना है। बदलती हुई दिनचर्या में आप रात के समय भी काम करते हैं, जिसकी वजह से आपकी नींद बाधित होती है। अगर आप खुद को स्वस्थ रखने के साथ अपनी इम्यूनिटी को सुधारना चाहते हैं, तो इसके लिए यह बेहद जरूरी है कि आप खुद को अनावश्यक तनाव से दूर रखें और गहरी नींद सोएं। 

धूम्रपान और शराब से परहेज करें
खुद को स्वस्थ रखने के लिए यह बेहद जरूरी है कि नशीली वस्तुओं से दूरी बनायी जाए। अगर आप नियमित तौर पर शराब और सिगरेट का सेवन करते हैं, तो खुद को स्वस्थ रखने और इम्यूनिटी को सुधारने के लिए अपनी इस आदत पर नियंत्रण रखें। अपने खानपान में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य पदाथार्ें को शामिल करने के अलावा नियमित व्यायाम को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं।

इन बातों का रखें ध्यान

1. अपने आसपास का वातावरण साफ-सुथरा रखने के अलावा अपनी शारीरिक स्वच्छता का विशेष ध्यान रखें, क्योंकि बहुत सारी बीमारियों का कारण गंदगी होती है।

2. तुलसी और करी पत्ता में एंटी ऑक्सिडेंट तत्वों की बहुतायत होती है। प्रतिदिन इनकी आठ-दस पत्तियां चबाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी होती है। 

3. रोजाना थोड़ी देर धूप में बैठें, ताकि आपका सामना सूर्य की अल्ट्रा वॉयलेट किरणों से हो। धूम विटामिन डी का बेहतरीन स्रोत होती है, जो हड्डियों को मजबूती देने के साथ प्रतिरक्षा प्रणाली को भी दुरुस्त करती है। 

immunity booster

ये आहार बढ़ाएंगे इम्यूनिटी
1. इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए अपने आहार में टमाटर को जरूर शामिल करें। इसमें मौजूद लाइकोपीन नामक एंटी ऑक्सिडेंट आपके दिमाग की सेहत के लिए जरूरी है। इसके अलावा टमाटर में विटामिन के, विटामिन सी और फाइबर की बहुतायत होती है, जो इम्यूनिटी सुधारने में मददगार साबित होते हैं।

2. संतरा, नीबू, आंवला, मौसमी जैसे खट्टे फलों में विटामिन सी की भरपूर मात्रा होती है, जो हर तरह के संक्रमण से लड़ने वाली श्वेत रक्त कणिकाओं का निर्माण करने में सहायक है। इन सारी चीजों को अपने आहार का नियमित हिस्सा बनाएं।

3. लहसुन भरपूर मात्रा में एंटी ऑक्सिडेंट बनाकर हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक प्रणाली को बीमारियों से लड़ने की शक्ति देता है। इसमें एलिसिन नामक ऐसा तत्व पाया जाता है, जो शरीर को किसी भी प्रकार के संक्रमण और बैक्टीरिया से लड़ने की शक्ति प्रदान करता है। प्रतिदिन भोजन में लहसुन की संतुलित मात्रा को शामिल करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने के साथ-साथ पेट के अल्सर और कैंसर से भी शरीर का बचाव होता है। रोजाना सुबह लहसुन की दो कलियों का सेवन करने से ब्लड प्रेशर नियंत्रण में रहता है और लंबे समय तक इम्यून सिस्टम भी मजबूत बना रहता है। 

4. पालक में फॉलेट नामक ऐसा तत्व पाया जाता है, जो शरीर में नई कोशिकाएं बनाने के साथ उन कोशिकाओं की मजबूती और डीएनए की मरम्मत का काम भी करता है। इसमें मौजूद फाइबर आयरन एंटी ऑक्सिडेंट को बढ़ाकर शरीर को स्वस्थ रखता है। पालक में मौजूद विटामिन सी शरीर को हर तरह से स्वस्थ बनाये रखने में मददगार होता है। उबले पालक का नियमित तौर पर सेवन करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

5. मशरूम शरीर की श्वेत रक्त कोशिकाओं को सक्रिय करने में सहायक सिद्घ होता है। इसमें सेलेनियम नामक मिनरल, एंटी ऑक्सिडेंट तत्व, विटामिन बी, नाइसिन आदि पाये जाते हैं। इनके अलावा मशरूम में एंटी वायरल, एंटी बैक्टीरियल और एंटी ट्यूमर तत्व पाये जाते हैं। मशरूम में शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने वाले तत्व की प्रचुरता होती है।

6. रोजाना बादाम के आठ-दस दाने भिगोकर खान से न केवल शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, बल्कि इसके सेवन से दिमाग को तनाव से लड़ने की शक्ति भी मिलती है। बादाम में मौजूद विटामिन ई शरीर में प्राकृतिक तौर पर पाए जाने वाले सेल्स को बढ़ाने में मददगार साबित होता है।

7. अपने आहार में मौसमी फलों और सब्जियों को शामिल करें। इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने और इम्यूनिटी को बढ़ाने के लिए खूब सारी सब्जियों और फलों का सेवन करने के साथ-साथ खूब सारा पानी पिएं। अंकुरित अनाज का भी सेवन करें।

(एससीआई इंटरनेशनल हॉस्पिटल के वरिष्ठ फिजिशियन डॉ. हिमांशु शेखर और डाइटीशियन कोमल ठाकुर से की गई बातचीत पर आधारित)

इसे भी पढ़ें : गर्मियों में अपने साथ-साथ घर की सेहत संवारने के लिए लगाएं इंडोर प्लांट्स

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:know these tips to improve immunity also reason of weak immunity