DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल के मरीजों को बचाएगी थ्रंबोलाइसिस, जानिए क्या है यह और कैसे करेगी काम

heart attack death

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय पहली बार योजनाबद्ध तरीके से हार्ट अटैक से होने वाली मौतों से निपटने की तैयारी कर रहा है। इस योजना के तहत हार्ट अटैक आने या मरीज में हृदय की समस्या दिखाई देने पर उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर ही थ्रंबोलाइसिस कर दिया जाएगा।

इस प्रक्रिया से मरीज को करीब 24 घंटे की मोहलत मिल जाएगी। इस दौरान मरीज नजदीकी बड़े केंद्र पर जा कर एंजियोप्लास्टी या अन्य जरूरी उपचार करा सकेंगे। इस योजना को शुरू करने के लिए 20 से अधिक राज्यों को मंजूरी दी जा चुकी है। स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक, अगले छह महीने में देशभर में यह योजना शुरू हो जाएगी।     

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने हिन्दुस्तान से बातचीत में कहा कि हार्ट अटैक आज भी हमारे देश में मौत का सबसे बड़ा कारण है। ज्यादातर मामलों में मौत की वजह इलाज मिलने में होने वाली देरी होती है। देश में सभी जगहों में उच्च विशेषज्ञता वाली स्वास्थ्य सेवा अधोसंरचना उपलब्ध न होने से मामला और गंभीर हो जाता है। इसलिए हमने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र एवं इससे ऊपर स्तर के सभी अस्पतालों में डॉक्टर्स को थ्रंबोलाइसिस देने का प्रशिक्षण और दवाईयां देंगे। एक मरीज को थ्रंबोलाइसिस करने पर 1700 रुपये का खर्च आएगा। इस खर्च को राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जरिये पूरा किया जाएगा। 

अधिकारी ने बताया कि इस योजना को पायलट आधार पर पहले तमिलनाडु और गोवा में शुरू किया गया था। दोनों ही जगहों में इस योजना के लागू करने के बाद हार्ट अटैक से होने वाली मौतों में 50 फीसदी तक की कमी देखी गई। मालूम हो, हर साल हमारे देश में 24 लाख से अधिक लोगों की हार्ट फेल होने से मौत हो जाती है। यह किसी भी बीमारी से होने वाली मौतों में सबसे अधिक है। 

क्या है थ्रंबोलाइसिस
थ्रंबोलाइसिस उस प्रक्रिया को कहते हैं, जिसमें एक एंजाइम के जरिये रक्त में मौजूद थक्के को गला दिया जाता है। रक्त पतला होने से वह आसानी से धमनियों में संरचण कर पाता है।

ऐसे बचेगी जिंदगी
मरीज का ईसीजी और ईको जैसे टेस्ट कर रिपोर्ट टेलीपैथी के जरिए जुड़े हुए हृदयरोग विशेषज्ञ के पास भेजी जाएगी। 

हृदयरोग विशेषज्ञ रिपोर्ट को देखकर बताएगा कि मरीज की स्थिति कितनी गंभीर है? उसे ऑपरेशन की जरूरत है या नहीं  

गंभीर मरीजों को थ्रंबोलाइसिस करके ऐसे बड़े अस्पताल रेफर कर दिया जाएगा, जहां ऑपरेशन की 
सुविधा होगी। 

इसे भी पढ़ें : Health Tips : दाल खाने से बढ़ती है बच्चों की इम्यूनिटी, Video में जानें एक्सपर्ट की राय

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:know how thrombolysis will work for heart patients