DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ये हैं मां बनने के शुरुआती लक्षण, बता रहे हैं एक्सपर्ट

pregnancy signs

क्या, क्यूं, कैसे? सवालों के बीच तो आप अकसर फंसती होंगी। पर, गर्भधारण और उसकी पुष्टि के बीच मन में उठते सवालों के ज्वार-भाटे से निजात पाना बेहद मुश्किल है। आप अपनी इस मुश्किल को कुछ हद तक खुद से कुछ सवाल पूछ कर कम कर सकती हैं, बता रही हैं दिव्यानी त्रिपाठी 

इस माह अब तक पीरियड नहीं हुआ। कहीं मैं प्रेग्नेंट तो नहीं? डॉक्टर के पास अभी जाना ठीक होगा? क्या करूं? किससे पूछूं? क्या मैं वाकई पे्रग्नेंट हूं? अकसर हम औरतें इस मौके पर सवालों के चक्रव्यूह में फंसी नजर आती हैं। इन तमाम सवालों के जवाब खोजने में कोई और नहीं बल्कि आपका शरीर आपकी मदद कर सकता है। अब आप सोच रही होंगी, भला वो कैसे? आपकी इस समस्या में मदद करेंगे गर्भावस्था के दौरान प्रकट होने वाले तमाम लक्षण। बस उन लक्षणों को जानने और महसूस करने की जरूरत है।  

थकान और नींद है पहचान  
क्या आप पूरे दिन थका हुआ महसूस कर रही हैं? क्या आपकी नींद में इजाफा हुआ है? अगर हां, तो हो सकता है कि आप मां बनने बनने वाली हों। गर्भावस्था में ऐसा प्रोजेस्टेरॉन हामार्ेन का स्तर बढ़ने के कारण होता है। भ्रूण को पोषण पहुंचाने के कारण आप थकान महसूस करती हैं, नतीजतन आपको नींद आती है। इसलिए इस लक्षण को काम की थकान मत मान लीजिएगा। अपनी खुराक में मिनरल और आयरन युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करें। इससे थकान कम महसूस होगी।

जी मिचलाना है आम 
सुबह के समय जी मिचलाना और शरीर में भारीपन भी गर्भावस्था का एक लक्षण है। इसकी दर अलग-अलग हो सकती है। जानकारों की मानें तो 80 प्रतिशत महिलाओं में जी मिचलाना और उल्टी होने की समस्या 2 सप्ताह से 8 सप्ताह तक रहती है। ऐसा एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरॉन हार्मोन की अधिकता के कारण होता है। 

पीरियड न होना
यह गर्भावस्था का सबसे स्पष्ट लक्षण है। गर्भधारण के शुरुआती आठ हफ्तों के भीतर सिर्फ एक बार हल्की ब्लीडिंग प्रेग्नेंसी का लक्षण है। आमतौर पर गर्भावस्था के शुरुआती दिनों में पीरियड भी रुक जाते हैं। इसका मतलब यह बिलकुल नहीं है कि माहवारी सिर्फ इसी वजह से रुकी हो, लेकिन सामान्य गर्भ के दौरान इसका रुकना जरूरी है। पीरियड का चक्र कई बार थकान या चिंता के कारण भी असंतुलित हो जाता है।

सिरदर्द भी है शुरुआती लक्षण 
गर्भावस्था के दौरान सिर में दर्द भी एक आम समस्या है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि प्रोजेस्टेरॉन और एस्ट्रोजेन (गर्भाशय में मौजूद हॉर्मोन) बढ़ने के कारण ब्लड शुगर का स्तर गिर जाता है। इस उतार-चढ़ाव के कारण मस्तिष्क की कोशिकाओं पर अतिरिक्त भार पड़ता है। इस वजह से सिर में दर्द होने लगता है।

स्तन के आकार में परिवर्तन 
गर्भावस्था के शुरुआती दिनों से ही स्तन के आकार में बदलाव महसूस होने लग जाता है। यह एक बेहद सामान्य लक्षण है। दरअसल, स्तन के ऊतक हॉर्मोन के प्रति अति संवेदनशील होते हैं। गर्भ धारण करने के साथ ही हॉर्मोन जनित  बदलाव शुरू हो जाते हैं, जिससे स्तन में सूजन या फिर भारीपन आ जाता है। 

पेशाब अधिक होना 
जब महिला गर्भवती होती है तब उसके शरीर से अधिक मात्रा में पेशाब निकलती है, क्योंकि किडनी दोगुना काम करती है। इस अवस्था में कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन हार्मोन शरीर में बनता है जो पेट के निचले हिस्से में  रक्त प्रवाह को बढ़ाता है। नतीजतन पेशाब अपेक्षाकृत अधिक निकलती है ।

गंध और भोजन से अरुचि
अगर आपको अचानक किसी खास तरह के भोजन से गंध आने लगती है और आप उसे नापसंद करने लगती हैं, तो हो सकता है कि आप गर्भवती हों। यह गर्भावस्था का लक्षण हो सकता है। कई महिलाएं मुंह के कड़वे स्वाद से भी परेशान रहती हैं, वहीं कुछ को किसी खास चीज की महक से जैसे दूध, अंडे या चाय की गंध से परेशानी होने लगती है और वह ऐसे भोजन से बचना शुरू कर देती है। आमतौर पर यह गर्भधारण की पहली तिमाही में ज्यादा दिखाई देता है। कुछ समय बाद यह अपने आप ठीक भी हो जाता है।

समझें कब्ज का संकेत
गर्भावस्था के मुख्य लक्षणों में कब्ज भी शामिल है। डॉ. रेनू सिंह गहलौत कहती हैं, आमतौर पर प्रोजेस्टेरॉन हार्मोन का स्तर बढ़ने से यह समस्या खड़ी हाती है। इस हामार्ेन के बढ़ने से मांसपेशियों में ढीलापन आ जाता है और आंत के काम करने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है, जिससे पाचन धीमा होता है। इसी वजह से कब्ज की समस्या हो जाती है। इस दौरान इसके अतिरिक्त कम फाइबर वाला खानपान, कम पानी पीना, आयरन की गोलियों के सेवन और तनाव आदि के कारण भी कब्ज की समस्या होती है।

शरीर का तापमान बढ़ना 
यूं तो मासिक धर्म के दौरान भी महिलाओं के शरीर का तापमान बढ़ता है, मगर मासिक धर्म के बाद 10 से 18 दिनों तक शरीर का तापमान बढ़ा रहे, तो यह भी गर्भधारण का लक्षण है। इस बाबत स्त्रीरोग विशेषज्ञ डॉ. रेनू सिंह गहलौत कहती हैं कि गर्भावस्था के दौरान 0.5 सेंटीग्रेट तक शरीर का तापमान बढ़ जाता है। इसे बुखार से कंफ्यूज नहीं करें और बुखार की दवा नहीं लें।

इसे भी पढ़ें : ये हैं ऑस्टियोपोरोसिस के कारण और लक्षण, ऐसे करें बचाव, पढ़ें इस बीमारी के बारे में और भी बातें

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:know beginning symptoms of pregnancy