DA Image
14 जून, 2020|8:15|IST

अगली स्टोरी

गंभीर निमोनिया से पीड़ित कोराना मरीजों को आईसीयू में भर्ती करना जरूरी

pneumonia

कोरोना के लक्षण वाले रोगी जो गंभीर निमोनिया से ग्रसित हैं और जिनकी श्वसन दर प्रति मिनट 30 है, ऐसे मरीजों को आईसीयू में भर्ती कराया जाना आवश्यक है। व्यस्क रोगियों के लिए  चिकित्सीय प्रबंधन के तहत यह प्रोटोकाल जरूरी है।

अस्पताल प्रबंधन की ओर से कहा गया है कि गंभीर निमोनिया वाले कोरोना रोगी का ऑक्सीजन की पूर्ति का स्तर (एसपीओ 2) कमरे की हवा से 90 प्रतिशत कम होता है।

आज़ाद मेडिकल कॉलेज दिल्ली के हेल्थ विभाग ने कोरोना संक्रमित वयस्क रोगियों के लिए नैदानिक ​​प्रबंधन प्रोटोकॉल के बारे में 5 जून को एक कार्यालय ज्ञापन में कहा गया कि रोगियों की बेहतर देखभाल के लिए उपलब्घ साक्ष्यों के आधार पर आईसीएमआर ने राष्ट्रीय स्तर पर चिकित्सकीय प्रबंधन से संबंधी गाइडलाइन में पुन: बदलाव किया है। 

एलएनजेपी अस्पताल, दिल्ली सरकार के तहत समर्पित कोविड-19 सुविधा के लिए एमएएमसी से संबद्ध है। एमएएमसी द्वारा तैयार किए गए प्रोटोकॉल में यह भी उल्लेख किया गया है कि मधुमेह, उच्च रक्तचाप जैसे रोगियों को मौजूदा मानक प्रोटोकॉल के अनुसार प्रबंधित किया जाना चाहिए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:it is Necessary to admit corana patients suffering from severe pneumonia in ICU