DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Tips: सर्दी के मौसम में ऐसे रखें गले का खास ख्याल

सर्दी में गले का ख्याल (image credits: entinstitute.com)

सर्दियों के मौसम की एक आम समस्या है गले का खराब होना। अगर गले में खराश रहने लगे, उसमें तेज दर्द हो, जिसकी वजह से कुछ भी खाने-पीने में दिक्कत हो तो राहत के लिए कुछ आसान उपाय कर सकते हैं। इस बारे में क्या है डॉक्टरी सलाह और कुछ घरेलू उपाय बता रही हैं राजलक्ष्मी

बदलते मौसम में अपने गले को ठंड से बचाकर रखें, क्योंकि जब आपको ठंड लगती है, तभी आपके गले की सेहत खराब होती है। इससे बचने के लिए सर्दियों के मौसम में ठंडी चीजों, मसलन आइसक्रीम, कोल्ड ड्रिंक और ठंडे पेय पदार्थों का सेवन करने से परहेज करें। अपने आपको सर्दी से बचाने के लिए स्कार्फ, मफलर या स्टोल का इस्तेमाल करें, ताकि आपका गला ढंका रहे।

किसी का जूठा खाने से करें परहेज
विनायक हॉस्पिटल के ईएनटी विशेषज्ञ डॉ. समीर सेठ का कहना है कि आमतौर पर हम सर्दियों में गले में होने वाली किसी भी समस्या को मौसम से जोड़कर ही देखते हैं, लेकिन ठंड के अलावा संक्रमण भी गले की सेहत खराब करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। गले में होने वाले संक्रमण की वजह बैक्टीरिया हैं। अगर आप किसी ऐसे व्यक्ति का जूठा खाते हैं, जो गले के संक्रमण से पीड़ित है तो आपको संक्रमण होने का खतरा बढ़ जाता है। ऐसी स्थिति से बचने के लिए यह जरूरी है कि आप किसी का भी जूठा खाने-पीने से परहेज करें। बहुत ज्यादा ठंडी और गरम चीजों का सेवन भी संक्रमण का कारण बन सकता है।

खाने के शौकीन या ईटिंग डिसॉर्डर के शिकार, जानिए इसके बारे में सबकुछ

टूथब्रश रखें साफ
गले में होने वाले संक्रमण का कारण ओरल हेल्थ का ध्यान रखना नहीं है। किसी भी तरह का बैक्टीरिया मुंह के रास्ते ही आपके गले तक पहुंचता है। इससे बचने के लिए नियमित तौर पर दिन में दो बार ब्रश करें। इसके अलावा अपने ब्रश को साफ भी रखें। सुबह ब्रश करने से पहले अपने ब्रश को नमक मिले गरम पानी में डुबोकर साफ करने के बाद ही ब्रश करें। इससे आपके दांतों के साथ-साथ आपके गले की सेहत भी दुरुस्त रहेगी। हर तीन महीने में अपने टूथब्रश को बदल दें। अगर आपका ब्रश खराब हो गया है तो तीन महीने से पहले भी इसे बदल सकते हैं। ब्रश को नमी वाले स्थान पर ना रखें, क्योंकि ऐसी जगहों पर रखने की वजह से इस पर हजारों की संख्या में संक्रमण फैलाने वाले बैक्टीरिया जमा हो जाते हैं।

नमक वाले पानी से करें गरारा
रात को सोने से पहले गुनगुने पानी में नमक मिलाकर गरारा करने से गले को आराम मिलता है। सर्दियों के दौरान नियमित गरारा करने को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बना लें। नमक मिला गरम पानी गले में इंफेक्शन की वजह से आयी सूजन को कम कर आराम पहुंचाता है। जल्दी आराम पाने के लिए बेहतर होगा कि आप हर तीन घंटे में गरारा करें। गरारा करने के तुरन्त बाद किसी ठंडे पदार्थ का सेवन न करें। गुनगुने पानी में सिरका मिलाकर गरारा करने से आपको गले के रोग में आराम मिलता है। अगर गले में दर्द हो रहा है और आवाज नहीं निकल रही है तो अजवाइन और मुलैठी वाले पानी से भाप लें, इससे आपके गले का दर्द भी खत्म होगा और आपकी आवाज भी खुल जाएगी।

शहद और अदरक हैं कारगर
सर्दियों में गले की सेहत को दुरुस्त रखने के लिए नियमित तौर पर अदरक और शहद का सेवन करना लाभदायक होता है। सुबह ब्रश करने के बाद एक चम्मच अदरक के रस में एक छोटा चम्मच शहद मिलाकर पीने से पूरे दिन आपके गले को सुरक्षा मिलती है।

जब हो जाएं टॉन्सिल्स
डॉक्टर समीर सेठ के अनुसार,‘टॉन्सिल बदलते मौसम में होने वाली बहुत सारी बीमारियों का सूचक है। अगर आपको खराश और गले में दर्द के साथ सूजन की शिकायत हो जाए तो इसका मतलब यह है कि आपको टॉन्सिल हो गया है। गले में होने वाली किसी भी तरह की परेशानी होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।’

हल्दी है कमाल की
सर्दियों में अदरक और शहद के साथ रोज हल्दी लेना गले की सेहत दुरुस्त रखेगा। हल्दी को चाहें तो दूध के साथ उबालकर पिएं या खाने में डालकर खाएं। यह हर तरह से लाभदायक होती है। अगर आपको सर्दियों के मौसम में अकसर टॉन्सिल और गले के संक्रमण की शिकायत होती है, तो बाजार से कच्ची हल्दी लाकर उसे सुखा कर पाउडर बना लें। इस पाउडर को नियमित तौर पर सूखे ही अपने गले के नीचे रखें और पानी ना पिएं। मुंह की लार के साथ यह गले से होते हुए पेट में चली जायेगी। जैसे-जैसे हल्दी गले में जाएगी, वैसे-वैसे टॉन्सिल खत्म होना शुरू हो जाएगा।

मछली का तेल खाइए, सर्जरी के दौरान नहीं चढ़ाना पड़ेगा खून

इन घरेलू उपायों को आजमाएं

  • एक चम्मच शहद में एक छोटा चम्मच नीबू का रस अच्छी तरह से मिलाकर इसका दिन में दो तीन बार सेवन करने से गले का दर्द ठीक हो जाता है।
  • सूखा साबुत धनिया चबाते हुए चूसने से गले के दर्द में आराम मिलता है।
  • एक चौथाई चम्मच अजवाइन में थोड़ा सा नमक और एक लौंग मिलाकर चबाते और चूसते रहने से गले का दर्द ठीक हो जाता है।
  • गले की समस्या के समाधान के लिए लौंग, तुलसी, अदरक और काली मिर्च को पानी में डालकर उबालें, इसके बाद इसमें चायपत्ती डालकर चाय बनायें। इस चाय को पीने से गले को आराम मिलता है।
  • अदरक में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो गले के संक्रमण और दर्द को ठीक करने में मददगार साबित होते हैं। एक कप पानी में अदरक डालकर उबालें। हल्का गुनगुना करके इसमें शहद मिलाएं और दिन में दो बार पिएं।
  • कई बार गला सूखने के कारण भी गले में संक्रमण की शिकायत हो जाती है। इससे बचने के लिए किसी बड़े बर्तन में पानी गरम कर तौलिये से मुंह ढंककर भाप लें, गले के दर्द में काफी आराम मिलेगा।
  • लहसुन संक्रमण पैदा करने वाले जीवाणुओं को मार देता है। इसलिए गले की खराश में लहसुन का सेवन करने से लाभ होता है। लहसुन जीवाणुओं को मारने के साथ ही गले की सूजन और दर्द को भी कम करता है।
  • गले की खराश के लिए मुलेठी रामबाण औषधि है। सोते समय मुलेठी का एक छोटा सा टुकड़ा मुंह में रखकर कुछ देर तक चबाएं, सुबह तक गला साफ हो जाएगा। अगर मुलहठी को पान के पत्ते के साथ रखकर चबाया जाए तो यह और भी लाभदायक होती है। इसका सेवन करने से गले का दर्द और सूजन खत्म होती है। इससे बहुत जल्दी आराम होता है।
  • अंजीर बहुत स्वादिष्ट और लाभदायक फल है। इसमें पाया जाने वाला सोडियम, पोटैशियम, कैल्शियम, आयरन, तांबा, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, सल्फर, फाइबर सेहत के लिए फायदेमंद हैं। पानी में 5 अंजीर को डालकर उबाल लें और इसे छानकर पिएं। इस पानी को सुबह शाम गरमागरम पीने से गले के दर्द और खराश से राहत मिलती है।
  • अगर आपको अकसर गले में खराश या फिर एलर्जी के कारण दर्द बना रहता है तो सुबह-शाम चार-पांच मुनक्का के बीजों को खूब चबाकर खा लें। दस दिन तक ऐसा करने से आपको गले के दर्द से आराम मिलेगा। एक बात का ध्यान रखें, मुनक्का के बीजों को चबाने के बाद पानी ना पिएं।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:how to care throat in weather change winter know here home remedies