DA Image
12 सितम्बर, 2020|10:32|IST

अगली स्टोरी

भारत में बालमृत्यु दर में गिरावट आने पर स्वास्थ्य देखभाल विशेषज्ञों ने जताया संतोष

newborn baby

स्वास्थ्य देखभाल विशेषज्ञों ने वर्ष 1990 से 2019 के बीच भारत में बालमृत्यु दर में गिरावट आने पर संतोष व्यक्त किया और कहा कि प्रत्येक नवजात को गुणवत्तापूर्ण अहम स्वास्थ्य एवं पोषण सेवाएं दे कर इस दर को और कम किया जा सकता है। 
     
संयुक्त राष्ट्र की एक नई रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 1990 से 2019 के बीच भारत की बाल मृत्यु दर में काफी गिरावट आई है। देश ने 1990-2019 के बीच पांच साल से कम आयु में मृत्यु दर में वार्षिक 4.5 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की है। भारत में 1990 में पांच वर्ष से कम आयु में मृत्यु दर 34 लाख थी जो 2019में घटकर 8,24,000 हो गई।
     
भारत में शिशु मृत्यु दर (प्रति 1000 जीवित जन्म में मृत्यु) वर्ष1990 में 89 से घटकर पिछले साल 28 हो गई। देश में पिछले साल 6,79,000 शिशुओं की मौत हुई थी वहीं वर्ष 1990 में यह संख्या 24 लाख थी।

कोलिशन फॉर फूड एंड न्यूट्रीशन सिक्योरिटी(सीएफएनएस) के कार्यकारी निदेशक सुजीत रंजन ने कहा कि भले ही 1990 में 50लाख बच्चों के मरने की संख्या 2019 में 24 लाख रह गयी हो लेकिन बच्चों के जीवन के पहले 28 दिनों में मृत्यु का सबसे ज्यादा खतरा होता है।

रंजन ने कहा, ''भारत में पोषण पर की गई प्रगति की रक्षा करने के लिए सभी स्तर पर निरंतर नेतृत्व, ध्यान, वित्तपोषण और प्रतिबद्धता की आवश्यकता होगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Health care experts expressed satisfaction over declining child mortality rate in India