फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़अच्छी पहल: ऐसे घर बैठे 24 घंटे के अंदर जानें कैंसर है या नहीं

अच्छी पहल: ऐसे घर बैठे 24 घंटे के अंदर जानें कैंसर है या नहीं

अगर आप घर बैठे यह जानना चाहते हैं कि कैंसर से पीड़ित हैं या नहीं और अगर कैंसर है भी तो किस अवस्था में हैं तो उसका पता आप 24 घंटे के भीतर लगा सकते हैं। मुंबई के टाटा कैंसर हॉस्पिटल ने नव्या विशेषज्ञ...

अच्छी पहल: ऐसे घर बैठे 24 घंटे के अंदर जानें कैंसर है या नहीं
Anuradha.pandey1एजेंसी,नई दिल्लीSun, 14 May 2017 05:53 PM

अगर आप घर बैठे यह जानना चाहते हैं कि कैंसर से पीड़ित हैं या नहीं और अगर कैंसर है भी तो किस अवस्था में हैं तो उसका पता आप 24 घंटे के भीतर लगा सकते हैं। मुंबई के टाटा कैंसर हॉस्पिटल ने नव्या विशेषज्ञ सलाह नाम से यह  सेवा शुरू की है जिससे आप ऑनलाइन जानकारी हासिल कर सकते हैं। इसके लिए बस आपको अपनी सारी रिपोर्ट ऑनलाइन हॉस्पिटल को भेजनी होगी। रिपोर्ट मिलते ही अस्पताल एक दिन के भीतर सारी जानकारी दे देगा। मरीजों को जो रिपोर्ट अस्पताल से भेजी जाएगी वह सरल भाषा में होगी जिसे आम आदमी भी समझ सके या स्थानीय डॉक्टर से दिखा कर समझ ले। गरीबी रेखा से नीचे जीवन बसर करने वाले लोगों के लिए यह सेवा मुफ्त है। अस्पताल का दावा है कि कैंसर मरीजों के लिए दुनिया में इस तरह की पहली बार सेवा शुरू की गई है। 

व्हाट्सएप से भेज सकते हैं रिपोर्ट 
इस सेवा की संस्थापिका गीतिका श्रीवास्तव के मुताबिक मरीज को डब्लूडब्लूडब्लू.नव्या.केयर पर खुद को पंजीकृत करना होगा। फिर अस्पताल के प्रतिनिधि मरीज से बात करके उन्हें अपनी रिपोर्ट अपलोड करने या मेल से भेजने के लिए कहेंगे। मरीज अपनी रिपोर्ट व्हाट्सएप से भी भेज सकते हैं। रिपोर्ट प्राप्त होने के 24 घंटे के अंदर मरीज को अस्पताल की ओर से रिपोर्ट और सुझाव भेज दिए जाएंगे। उन्हें यह बताया जाएगा कि वे किस तरह का इलाज कराएं और यह इलाज किस अस्पताल में संभव है या किस जगह इसकी सुविधा है।

सेवा शुरू करने का मकसद
इस सेवा को शुरू करने का मकसद उन मरीजों को सुविधा देना है जो देश के दूर-दराज़ इलाके में रहते हैं और वे किसी अच्छे डॉक्टर या अस्पताल से संपर्क नहीं कर पाते। साथ ही उनका दूसरे शहर में जाकर रिपोर्ट दिखाने में ज्यादा पैसा खर्च हो जाता है क्योंकि उन्हें आने-जाने और ठहरने में काफी पैसे खर्च करने पड़ते हैं। गौरतलब है कि हर माह करीब 500 मरीज़ ऑनलाइन रिपोर्ट अस्पताल को भेज रहे हैं। 

epaper